Breaking Tube
Breaking Politics

अखिलेश यादव का सीएम योगी पर तंज, कहा- हमारे बाबा मुख्यमंत्री बहुत अच्छे हैं, सिर्फ नाम बदलना जानते हैं

Akhilesh yadav

अगले राज्य विधानसभा चुनाव की तैयारी में जोरशोर से जुटी समाजवादी पार्टी (सपा) में अन्य दलों के कद्दावर नेताओं का आना जारी है। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के खेमे में सेंध लगाने की कवायद के तहत पार्टी को सोमवार को एक बार फिर सफलता मिली जब मायावती सरकार में कबीना मंत्री रहे राम प्रसाद चौधरी (Ramprasad chaudhary) ने समर्थकों के साथ सपा की सदस्यता ग्रहण की। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh yadav) ने समाजवादी पार्टी मुख्यालय में इन सभी को पार्टी की सदस्यता दिलाई।


इस दौरान सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि जैसे-जैसे मौसम खुलेगा, वैसे-वैसे पार्टी में गर्माहट आती रहेगी। ये छोटा-मोटा बदलाव नहीं है, सरकार में बदलाव लाएगा। उन्होंने कहा कि ये नया साल जरूर है लेकिन हमारा नया साल तब होगा, जब हमारी आपकी सरकार होगी। अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे गरीब किसानों ने भरोसा कर लिया और सरकार बना ली, दिल्ली में दोबारा मौका दे दिया। सरकार उनकी बनी लेकिन किसानों को बर्बाद कर दिया।


Also Read: मायावती को लगा तगड़ा झटका, रामप्रसाद चौधरी ने थामा समाजवादी पार्टी का दामन


अखिलेश यादव ने पूछा कि यूपी किसके लिए जाना जाता था? यहां बेहतरीन सड़कें, लैपटॉप दिया लेकिन आज यूपी अपराधों का प्रदेश बन गया है। महिला अपराध में नंबर वन, स्वास्थ्य में, बेरोजगारी में, ये नंबन वन इसलिए है क्योंकि हमारे मुख्यमंत्री को पता नहीं है कि नीचे से आता है या ऊपर से। हमें और आपको उलझा दिया शौचालय में कि हम कुछ समझ न पाएं।


सपा अध्यक्ष ने कहा कि सबको लाइन में लगा दिया। कहा था कि नोटबंदी से भ्रष्टाचार, आतंकवाद ख़त्म हो जाएगा…कहां खत्म हो गया? पहले नोटबन्दी में लाइन में लगाया था, अब सीएए में लाइन में लगाने की तैयारी है। अखिलेश यादव यहीं नहीं रुके, उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि हमारे बाबा मुख्यमंत्री बहुत अच्छे हैं, सिर्फ नाम बदलना जानते हैं।


Also Read: अखिलेश यादव बोले- बिना धारा-144 के सहारे एक कदम नहीं चल पा रही योगी सरकार


उन्होंने कहा कि नदी का नाम घाघरा पूर्वजों ने रखा था, उसका नाम बदल दिया। 100 नम्बर को बदल कर 112 कर दिया। भले ही किसी गाड़ी का टायर न बदला हो। हमने लोकभवन बनाया, बीजेपी ने अपने नेता को सम्मान नहीं दिया। जिनको लोकभवन में सम्मान दिया, उनके जन्म स्थान पर एक यूनिवर्सिटी ही बना देते। अखिलेश ने कहा कि हमारे संविधान में धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं है, लेकिन इनको सत्ता मिलते ही इन्होंने धर्म के आधार पर भेदभाव कर दिया।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने महिला प्रवक्ता को किया अपमानित, नूरी खान ने कांग्रेस हाईकमान को भेजा शिकायत पत्र

Aviral Srivastava

हमने पाक के एक लड़ाकू विमान को मार गिराया, हमारा मिग 21 क्रैश, एक पायलट अब भी लापता: विदेश मंत्रालय

BT Bureau

‘चरमपंथी जमातों व कट्टरपंथी मदरसों की फंडिंग हवाला से होती है, भ्रष्टाचार समाप्त नहीं किया गया तो न भारत बचेगा, न ही भारतीयता’

BT Bureau