Breaking Tube
Politics

अन्नदान के बाद गरीबों की फोटो सार्वजनिक कर उनका अपमान न करें, भाजपा नेता की अपील

कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर देशव्यापी लॉकडाउन लगाना पड़ा. जिसके चलते लोगों को तमाम तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वहीं संकट की इस घ़ड़ी में कई लोग मसीहा बनकर सामने आ रहे हैं. सोशल मीडिया पटा पड़ा है ऐसी तस्वीरों से जिनमें लोग असहायों, जरूरतमंदों को अन्न से लेकर तमाम तरह की सहायता देते नजर आ रहे हैं. वहीं अब इन्हीं तस्वीरों को लेकर बीजेपी नेता और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay) ने लोगों से एक अपील की है. उपाध्याय का कहना है कि अन्नदान करते समय गरीब की फोटो सार्वजनिक कर उनका अपमान न करें.


अश्विनी उपाध्याय ने मंगलवार को ट्वीट कर लिखा, “प्रिय साथियों लॉक डाउन के कारण गरीब परेशान हैं परिवार से दूर हैं, मानसिक अवसाद में हैं उनके मित्र-रिश्तेदार सोशल मीडिया पर हैं. इसलिए अन्नदान करते समय फोटों न खींचे उनके मित्र-रिश्तेदार भी फोटो देख सकते हैं मुफ्त अन्न-भोजन लेना खुद एक अपमान है, फोटो खींचकर और अधिक अपमानित न करें”.



उपाध्याय ने एक और ट्वीट कर लिखा, “अपने मित्रों-रिश्तेदारों को प्रेरित करने के लिए खाद्य सामग्री के साथ अपनी व अपने परिवार की फोटो सोशल मीडिया में शेयर करिये लेकिन भोजन सामग्री लेने वाले गरीब की नहीं. गरीब भी किसी का भाई, भतीजा, भांजा, चाचा, मामा, साला, साढू, बहनोई है. यदि मित्र रिश्तेदार फोटो देखेंगे तो उसका अपमान होगा”.



बीजेपी नेता का कहना है कि संकट के इस समय में जरूरतमंदों की मदद के लिए इतनी बड़ी संख्या में लोगों का आगे आना दिखाता है कि हमारे भीतर की इंसानियत अभी जिंदा है. हम सबको आगे आना चाहिए अगर हम आर्थिक रूप से देने की स्थिति में नहीं हैं तो जो लोग दे रहे हैं उनका उत्साहवर्धन अवश्य करें. उन्होने कहा कि अन्नदान करने वाले अपनी तस्वीरें जरूर सार्वजनिक करें ताकि दूसरे भी ऐसा करने को प्रेरित हो सकें. लेकिन हमें एक बात अवश्य ध्यान रखना चाहिए कि फोटो दान दी गई वस्तु और अपनी ही सार्वजनिक करें गरीब को फोटों से हटा दें.


गरीब की फोटो सार्वजनिक न करने के पीछे उपाध्याय का तर्क है कि गरीब के रिशेतदार भी सोशल साइट पर हैं, ऐसे में जब उनतक ये तस्वीरें पहुंचती हैं तो गरीब में एक हीनभावना आती है. जिससे उसे अपमान महसूस होता है. अगर हम गरीब के लिए इतना कर रहें हैं तो उसकी निजता का ख्याल और रख लें ताकि उसे बेइज्जती का अहसास न हो.


Also Read: ‘चरमपंथी जमातों व कट्टरपंथी मदरसों की फंडिंग हवाला से होती है, भ्रष्टाचार समाप्त नहीं किया गया तो न भारत बचेगा, न ही भारतीयता’


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अखिलेश यादव और प्रियंका वाड्रा केवल ट्वीट के नेता, बीजेपी सरकार में देश का विकास हो रहा है: जगदम्बिका पाल

BT Bureau

भूपेश बघेल होंगे छत्तीगढ़ के अगले मुख्यमंत्री, कभी Sex CD कांड में 14 दिन के लिए गए थे जेल

BT Bureau

यूपीः भाजपा विधायक ने साधा अपनी ही सरकार पर निशाना, कहा- हमारी सरकार में भी हो रहा भ्रष्टाचार

S N Tiwari