Breaking Tube
Politics

उन्नाव मामले में बीजेपी नेता की मांग, आरोपी, उनके परिजन व पीड़िता के परिजनों का कराया जाए नार्को, पॉलीग्राफ और ब्रेनमैपिंग टेस्ट

उन्नाव रेप और मर्डर मामले (Unnao rape and murder case) में बीजेपी नेता और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता अश्विनी उपाध्याय (Ashwini Upadhyay) ने विस्तृत जांच की मांग ताकि सच्चाई सामने आ सके. इसके लिए उन्होने आरोपियों व उनके परिजनों का तथा पीड़िता के परिजनों का नार्को एनालिसिस, पॉलीग्राफ और ब्रेनमैपिंग टेस्ट कराने की मांग की है. उपाध्याय का कहना है कि बिना इसके सच सामने नहीं आ सकेगा.


सोमवार को अश्विनी उपाध्याय ने ट्विटर पर ब्रेकिंग ट्यूब की खबर को कोट कर लिखा, “जब तक #UnnaoCase के सभी आरोपियों, उनके माता-पिता तथा पीड़िता के माता-पिता का नार्को एनालिसिस, पॉलीग्राफ और ब्रेनमैपिंग टेस्ट नहीं होगा तबतक इस जघन्य हत्याकांड की पूरी सच्चाई सामने नहीं आएगी”.


बता दें कि उन्नाव मामले में एक-एक करके जो खुलासे सामने आ रहे हैं वे बेहद चौंकाने वाले हैं. पीड़िता और उसके वकील की एक आपत्तिजनक चैट वायरल हुई है. जिसमें पीड़ित और वकील के बीच हुई इस चैट में वकील आरोपितों से समझौते के लिए कह रहा है. इसके एवज में दो लाख रुपये दिलाने की भी बात कही गई है.


This image has an empty alt attribute; its file name is UNNAO-NSE-300x169.jpg

वकील चैट मैसेज में पीड़ित को इस पैसे से सुखद जिंदगी बिताने की बात कह रहा है. दरअसल वकील महेश सिंह राठौर ही पीड़ित का वकील था और इसी ने पूरे मामले की पैरवी की थी. अब ऐसे में कयास लगाए लगाए जा रहे हैं पीड़िता के पीछे वकील काम कर रहा था, जिसे इस पूरे मामले का मास्टरमाइंड बताया जा रहा है.



इस चैट पर आरोपी के परिवारवाले तमाम सवाल उठा रहे हैं. उनका दावा है कि घटना का राज इसी चैट में छुपा हुआ है, इसकी गहराई से जाँच होनी चाहिए.



वकील ने दी सफाई

पीड़िता के वकील ने टीवी9 भारतवर्ष को बताया कि आरोपी शिवम ने उन्हे 10-12 बार फोन किया और बताया कि लड़की के आरोप फर्जी हैं. वकील ने स्वीकार किया कि चैट उन्होने ही की है. वहीं आरोपी की बहन द्वारा वकील को मास्टरमाइंड बताए जाने के आरोप पर वकील ने कहा कि आरोप लगाना उनका काम है ऐसा कुछ नहीं है. उन्होने कहा कि हां चैटिंग मेरी ही है, चूंकी शिवम ने पीड़िता पर सवाल उठाया था इसीलिए मैने चेक करने के लिए बात की है और हां आप कह सकते हैं कि लूज टॉक हुई है.


आरोपी की बहन ने वकील पर उठाया था सवाल

आरोपी शुभम त्रिवेदी की बहन ने बताया कि शिवम पीड़िता लड़की से शादी करने को तैयार था, लेकिन उसने लड़की का वकील महेश राठौर के साथ अफेयर चलने के बाद इंकार कर दिया. बहन के मुताबिक शिवम को कहीं से पता चला कि पीड़िता के वकील के साथ संबंध हैं तो उसने लड़की की फेसबुक आइडी खोली और सभी चैट पढ़ लीं. बहन ने बताया कि शिवम ने ही लड़की की फेसबुक आइडी बनाई थी, इसीलिए उसे पासवर्ड पता था. शिवम ने जैसे ही शादी से इंकार किया तो लड़की ने शिवम और उसके भाई शुभम पर गैंगरेप का झूठा केस दर्ज करा दिया.



वकील ने दी सफाई

पीड़िता के वकील ने टीवी9 भारतवर्ष को बताया कि आरोपी शिवम ने उन्हे 10-12 बार फोन किया और बताया कि लड़की कैरेक्टरलेस है. वकील ने स्वीकार किया कि चैट उन्होने ही की है. वहीं पीड़िता की बहन द्वारा वकील को मास्टरमाइंड बताए जाने के आरोप पर वकील ने कहा कि आरोप लगाना उनका काम है ऐसा कुछ नहीं है. उन्होने कहा कि हां चैटिंग मेरी ही है, चूंकी शिवम ने पीड़िता के कैरेक्टर पर सवाल उठाया था इसीलिए मैने चेक करने के लिए बात की है और हां आप कह सकते हैं कि लूज टॉक हुई है.



एसपी बोले सभी साक्ष्य इकट्ठा कर रहे

वहीं वायरल चैट सामने आने पर एसपी विक्रांत वीर ने बताया कि जांच के लिए एसआइटी का गठन किया गया है. जांच और विवेचना पूरी तरह से साइंटिफिक हो रही है. सभी साक्ष्यों को इकट्ठा किया जा रहा है. हम जल्दी से जल्जी एविडेंस कलेक्ट करके जल्दी से जल्दी चार्जशीट अदालत में दाखिल कर सके, जिससे ट्रायल शुरू हो सके.


Also Read: क्या सिर्फ योगी सरकार को बदनाम करने के लिए उन्नाव में मीडिया ने दिखाया सफ़ेद झूठ ?


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

‘गली-गली में शोर है, हिंदुस्तान का चौकीदार चोर है’

Jitendra Nishad

इस बार पीएम मोदी जी जनता से पूछकर देंगे 15 अगस्त पर भाषण, ऐसे दे सुझाव

Satya Prakash

BJP से राजनीति में ओपनिंग की तैयारी में वीरेंद्र सहवाग, इस सीट से लड़ सकते हैं चुनाव

BT Bureau