Breaking Tube
Politics UP News

सपा नेता रमाकांत यादव को मुख्तार अंसारी के गुर्गों से जान का खतरा, राज्यपाल को पत्र लिखकर मांगी सुरक्षा

Azamgarh SP leader ramakant yadav

समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व बाहुबली सांसद रमाकांत यादव (SP leader ramakant yadav) ने अपनी जान को खतरा बताया है। उन्होंने अपनी सुरक्षा के लिए राज्यपाल आनंदबेन पटेल को पत्र भी लिखा है। रमाकांत यादव ने पत्र में बताया है कि उन्हें मुख्तार अंसारी के गुर्गों से जान का खतरा है।


दरअसल, बीते 4 सितंबर को आजमगढ़ (Azamgarh) के तरवां थाना क्षेत्र के महुआरी गांव में पुलिस ने मुख्तार अंसारी के 4 गुर्गों को मुठभेड़ में गिरफ्तार किया था, उनके पास से एके-47 की कारतूस और असलहे बरामद किए गए थे। समाजवादी पार्टी के नेता रमाकांत यादव ने इन्हीं गुर्गों से अपनी जान को खतरा बताया है।


रमाकांत यादव द्वारा लिखा पत्र

राज्यपाल को लिखे पत्र में उन्होंने लिखा कि मैं रमाकातं यादव पुत्र श्रीपति यादव आजमगढ़ से चार बार विधायक और चार बार सांसद रह चुका हूं। वर्तमान समय में मेरी सुरक्षा के लिए कोई भी सरकारी सुरक्षा व्यवस्था नहीं हैं और न ही जिला प्रशासन द्वारा वर्तमान में कोई सुरक्षा मिली है। जिसके कारण तमाम जिले के आपराधिक प्रवृत्ति के लोग बराबर मेरी हत्या करने की कोशिश करते हैं, जिनका नाम उल्लेख करना उचित नहीं होगा।


Also Read: लखनऊ: राज्यपाल से मिला SP का प्रतिनिधिमंडल, कोरोना के नाम पर भ्रष्टाचार, बेरोजगारी और कानून-व्यवस्था को लेकर सौंपा ज्ञापन


रमाकांत यादव ने लिखा कि जिले में तमाम ऐसे राजनैतिक लोगों से भी जो बराबर अपराधियों को सह देते रहते हैं, जिसकी वजह से हमेशा खतरा बना रहता है। मुझे विशेष सूत्रों से पता चला है कि 5 सितंबर को तरवा थाना अंतर्गत महुआरी गांव से जो लोग असलहा, एके-47 और कारतूस के साथ पुलिस मुठभेड़ में गिरफ्तार किए गए हैं, वो मेरी हत्या की साजिश कर रहे थे। जिस कारण किसी भी समय मेरे साथ कोई भी अप्रिय घटना घट सकती है।


सपा नेता रमाकांत यादव ने अनुरोध किया है कि उन्हें सुरक्षा व्यवस्था उपलब्ध कराई जाए, ताकि उनके जीवन की सुरक्षा हो सके। बता दें कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले रमाकांत यादव बीजेपी में थे। लेकिन 2019 में पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर उन्होंने कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। बीजेपी छोड़ने के बाद रमाकांत यादव को मिली वाई श्रेणी की सुरक्षा वापस ले ली गई थी। इसके बाद 6 अक्टूबर 2019 को रमाकांत यादव ने कांग्रेस पार्टी छोड़कर समाजवादी पार्टी ज्वाइन कर ली थी।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मेरठ में ‘नकली किताबें’ हुईं बरामद तो अखिलेश का योगी सरकार हमला, नक़ली ईमानदारी का चोगा ओढ़े लोगों का सामने आ रहा सच

Jitendra Nishad

8 दिन, 6 मुठभेड़, फिर कुछ यूं खत्म हुआ विकास दुबे का खेल

Shruti Gaur

जब डिफेंस एक्सपो में पीएम मोदी ने तानी रायफल, लोगो बोले- देश के गद्दारों को..

BT Bureau