Breaking Tube
Politics Special News

आज है BJP का 40वां स्थापना दिवस, जानिए 2 सीट से लेकर 303 तक का सफ़र

भारतीय जनता पार्टी और उसके कार्यकर्ताओं के लिए आज का दिन बेहद ख़ास है. आज ही के दिन 06 अप्रैल 1980 को इस पार्टी का गठन हुआ था (BJP Foundation day) और एक लंबे संघर्ष के बाद आज ये पार्टी देश की सबसे बड़ी पार्टी बन गई है. 38 सालों के लंबे सफर के बाद बीजेपी 2014 में भारत में अपने दम पर सरकार बनाने में कामयाब हुई. वहीं 2019 आमचुनाव में में बीजेपी ने बंपर जीते के साथ दोबारा सत्ता हासिल कर सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए.


Image result for जनसंघ

कभी लोकसभा चुनाव में मात्र 2 सीटें जीतने वाली बीजेपी आज पूरे देश की कमान संभाल रही है. बीजेपी के गठन के बाद से इसके नींव को मजबूत करने में अटल बिहारी वाजपेयी और लाल कृष्ण आडवाणी का बहुत बड़ा योगदान रहा है. 1951 में श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने भारतीय जनसंघ की स्थापना की थी. 1977 में आपातकाल के दौरान जनसंघ में कई दलों का विलय हुआ और जनता पार्टी का उदय हुआ. जनता पार्टी ने सरकार भी बनाई, हालांकि ज्यादा दिनों तक सरकार टिक नहीं पाई और कांग्रेस ने वापसी कर ली.


Image result for जनसंघ का गठन

इसके बाद जनता दल में फूट पड़ गई और बीजेपी का जन्म हुआ. पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को पार्टी का पहला अध्यक्ष बनाया गया. पार्टी को इस स्थिति तक पहुंचाने में वाजपेयी के अलावा वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी का भी अहम योगदान है. पार्टी के गठन के 4 साल बाद यानी 1984 के चुनाव में महज 2 सदस्य ही संसद पहुंच सके थे. यहाँ तक कि वाजपेयी खुद अपनी सीट नहीं बचा पाए थे, इसका कांग्रेसियों ने पार्टी का जमकर मजाक उड़ाया था.



Related image

बीजेपी को बनाने के बाद देश के पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी ने एक घोषणा की और उस घोषणा में कहा था कि, ‘मैं भारत के पश्चिमी घाट को मंडित करने वाले महासागर के किनारे खड़े होकर यह भविष्यवाणी करने का साहस करता हूं कि अंधेरा छटेगा, सूरज निकलेगा, कमल खिलेगा. वाजपेयी की ये भविष्यवाणी सच साबित हुई और साल 2014 में ऐसा कमल खिला कि आज केंद्र व देश के 21 राज्यों में बीजेपी की सत्ता रही.


Related image

ऐसा कहा जाता है जब अटल बिहारी वाजपेयी की पीठ पार्टी को अधिक मजबूती नहीं दे पा रही थी, तब वर्ष 1986 में पार्टी की कमान लालकृष्ण अडवाणी ने अपने हाथों में ले ली. जिसके बाद 1987 में तत्कालीन सरसंघचालक बालासाहेब देवरस के साथ अटल-आडवाणी की बैठक हुई. इस बैठक में देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को हराने के लिए गहरा मंथन किया गया.


Related image

ऐसा कहा जाता है कि तब से ही बीजेपी ने राम मंदिर का रास्ता चुना. जिसके बाद 1989 में बीजेपी ने वीएचपी (विश्व हिन्दू परिषद) के राम मंदिर आंदोलन को औपचारिक समर्थन दे दिया और राम मंदिर के मुद्दे पर राष्ट्रव्यापी आंदोलन शुरू हो गया. इस आंदोलन का बीजेपी को बहुत फायदा हुआ और 1989 के आम चुनाव में बीजेपी ने अकेले दम पर 85 सीटें हासिल कर ली.


Related image

इसके बाद बीजेपी की पकड़ देश की राजनीति पर बहुत मजबूत हो गई. 1996 में बीजेपी ने आम चुनावों में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए भारतीय संसद में सबसे बड़े दल के रूप में उभरी. जिस वजह से बीजेपी को केंद्र में सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया गया. जो कि महज 13 दिन ही चल पाई. इसके बाद साल 2014 के आम चुनावों में बीजेपी ने अपनी सबसे बड़ी जीत दर्ज करते हुए लोकसभा की 282 सीटों पर जीत का परचम फहराया. जबकि इसके नेतृत्व वाले राजग (NDA) को लोकसभा की कुल 543 सीटों में से 336 सीटों पर जीत प्राप्त हुई. जिसके बाद बीजेपी के संसदीय दल के नेता नरेन्द्र मोदी ने 26 मई 2014 को भारत के 15वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली. देश की सियासत में साल 1984 के बाद ऐसा पहली बार था, जब भारतीय संसद में किसी एक दल को पूर्ण बहुमत मिला हो.


Image result for Narendra Modi win 2014

मोदी-शाह की जोड़ी का करिश्मा 2019 लोगकसभा चुनाव में भी दिखा. चुनाव से 6 महीने महीने कमजोर दिख रही भारतीय जनता पार्टी ने आखिरी समय मोदी सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मुद्दों को लेकर ऐसा जोर बांधा कि पार्टी ने अकेले 303 सीटें जीतकर दोबारा सत्ता पाई. इन 40 सालों में पार्टी ने अपने मुद्दे शिफ्ट किए हैं. राम मंदिर के बाद अब NRC, CAA पर जोर है. यानी पार्टी अब भी हिंदुत्व, राष्ट्रवाद की बात करती है लेकिन मुद्दे और तरीके बदल गए हैं.


Also Read: नानाजी देशमुख: संघ का ऐसा कार्यकर्ता जिसने ठुकरा दिया था मंत्री पद, अभाव और संघर्षों में बीता पूरा जीवन, निस्‍वार्थ करते रहे समाज सेवा


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा है, अन्त्योदय हमारा दर्शन है और सुशासन हमारा मंत्र है: PM मोदी

BT Bureau

पश्चिम बंगाल : कलकत्ता हाईकोर्ट ने दी BJP की रथ यात्रा को मंजूरी, भाजपा नेता बोले- ये फैसला ‘तानाशाही’ के मुंह पर जोरदार तमाचा

Jitendra Nishad

मुलायम कामना पर आजम बोले- बयान से दुःख हुआ, लेकिन यह उनसे बुलवाया गया है

BT Bureau