Breaking Tube
Politics

CM योगी का विपक्ष पर वार, कहा- जिन्होंने राम भक्तों पर चलवाईं गोलियां, वही उपद्रवियों पर कार्रवाई का जवाब मांग रहे

Chief minister yogi adityanath

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief minister yogi adityanath) ने विधानसभा में बुधवार को राज्यपाल के अभिभाषण पर जवाब देते हुए अपने संबोधन में विपक्ष पर जमकर निशाना साधा। इस दौरान सीएम योगी ने सख्त लहजे में कहा कि नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ हिंसा फैलाने वाले उपद्रवियों को बख्शा नहीं जाएगा, उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर कोई शांतिपूर्वक प्रदर्शन करता है तो वह कर सकता है, लेकिन उपद्रव करने पर कठोर कार्रवाई होगी।


इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ (Chief minister yogi adityanath) ने कहा कि दिल्ली के जामिया मिलिया इस्लामिया में हुई हिंसा के बाद मैंने अलीगढ़ प्रशासन को अलर्ट किया। इस दौरान प्रशासन ने बताया कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के करीब 15 हजार छात्र सड़कों पर उतरकर पूरा अलीगढ़ जला देना चाहते थे, लेकिन पुलिस की सक्रियता से वो कामयाब नहीं हो सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश की पुलिस को इसका श्रेय देना चाहिए कि प्रदेश में कोई दंगा नहीं हुआ।


Also Read: अनाथ और मजदूरों के बच्चों को पढ़ाएगाी योगी सरकार, अटल आवासीय विद्यालयों की हो रही स्थापना


वहीं, समाजवादी पार्टी पर निशाना साधते हुए सीएम योगी ने कहा कि जिन लोगों ने अयोध्या में राम भक्तों पर गोलियां चलवाकर अयोध्या की मान्यता को दूषित करने का प्रयास किया, वो आज हमसे उपद्रवियों पर होने वाली कार्रवाई का जवाब मांग रहे हैं। सीएम ने कहा कि सीएए का विरोध करने वालों को राजनीतिक संरक्षण मिल रहा है, मैं तो सुनता था कि एक अपराधी भी अपने बच्चों को अपराधी नहीं बनाना चाहता है पर मैं देख रहा हूं कि बड़े-बड़े लोग अपने बच्चों को सीएए का विरोध करने वालों के समर्थन में नारेबाजी करने के लिए भेज रहे हैं।


Also Read: गरीब सवर्णों को 10% आरक्षण देने के लिए विधेयक लाएगी योगी सरकार, 175 करोड़ से होगा OBC छात्रों का कल्याण


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में सीएए के विरोध में हुई हिंसा में देशविरोधियों के षडयंत्र का पर्दाफाश हुआ है। हिंसा फैलाने वाले पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) के लोग हैं। पीएफआई सिमी (स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ इंडिया) का नया वर्जन है। उन्होंने कहा कि 19 व 20 दिसंबर को लखनऊ में हुई हिंसा में पुलिस की गोली से एक भी उपद्रवी की मौत नहीं हुई। उपद्रवियों की मौत उपद्रवियों की गोली से ही हुई।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

अयोध्या फैसले से पहले पीएम मोदी की अपील- किसी की हार-जीत नहीं, शांति-सौहार्द बनाए रखें

BT Bureau

यूपी: बयानबाजी कर बुरे फंसे कांग्रेस अध्यक्ष, ऊर्जा मंत्री ने भेजा मानहानि का नोटिस

BT Bureau

अब असदुद्दीन ओवैसी बोले- अमित शाह कब बदल रहे हैं अपना नाम

Jitendra Nishad