Breaking Tube
Politics

खालिस्तानी आतंकियों ने सुनियोजित तरीके से दिया हिंसा को अंजाम, कांग्रेस सांसद का आरोप

गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड मामले में कई पहलू सामने आ रहे हैं. इसी बीच पंजाब से कांग्रेस सांसद रवनीत सिहं बिट्टू (Ravneet Singh Bittu) ने हिंसा में खालिस्तान (Khalistan) आतंकवादियों का हाथ बताया है. उनका कहना है कि आतंकियों ने सुनियोजित तरीके से इस घटना को अंजाम दिया गया. उन्होंने कहा कि एक दिन पहले ही पूरे आंदोलन को हाईजैक कर लिया गया था.


रवनीत सिंह बिट्टू ने दावा कि इस हिंसा के लिए SFJ ने किसान संगठनों में बड़े पैमाने पर घुसपैठ की. दीप सिद्धू (Deep Sidhu) के नेतृत्व में SFJ के लोगों ने सोमवार देर रात दिल्ली में किसानों के स्टेज पर कब्जा कर लिया. उसी दौरान यह कर कर लिया गया कि मंगलवार को गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर झंडा फहराया जाएगा. 


रवनीत सिंह ने कहा कि 26 जनवरी के दिन देश को गहरा घाव देने के लिए ये एक बड़ी साजिश थी. लाल किले पर जो झंडा लगाया गया है, वह निशान साहिब का ध्वज नहीं है. हमारा धार्मिक झंडा केसरी होता है पीला नहीं. जिन्होंने लाल क़िला पर कब्जा किया और उपद्रव मचाया वो खालिस्तानी (Khalistan) थे. किसान आज के उपद्रव में शामिल नहीं था. NIA की जांच हो और जो भी इसके पीछे है उसको आज ही रात में जेल में डाला जाये.


बता दें कि बिट्टू पहले भी कह चुके हैं किसान आंदोलन के पीछे खालिस्तान समर्थकों का हाथ है. बिट्टू लुधियाना लोकसभा सीट से सांसद हैं. बिट्टू के साथ किसान आंदोलन में मार-पीट की घटना भी हुई थी. एक दिन पहले उन्होंने बताया था, ‘किसान नेताओं की ओर से बुलाई गई एक मीटिंग में हिस्सा लेने के लिए मैं गया था, लेकिन वहां पहुंचते ही कुछ लोगों ने गुरिल्ला की तरह मुझ पर डंडे और हथियारों के साथ हमला बोल दिया.’


Also Read: ट्रैक्टर परेड: किसानों की हिंसा में 109 पुलिसकर्मी घायल, 45 ट्रामा सेंटर में भर्ती


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कुछ ऐसी हो सकती है PM मोदी की नई कैबिनेट, इन नई पार्टियों को मिल सकती है जगह

BT Bureau

SC ने राजनीतिक दलों को RTI कानून में लाने की याचिका की मंजूर, क़ानून मंत्रालय और चुनाव आयोग को भेजा नोटिस

BT Bureau

ममता बनर्जी ने की इस्तीफे की पेशकश, बोलीं- अब मैं राज्य की मुख्यमंत्री नहीं रहना चाहती

BT Bureau