Breaking Tube
Politics UP News

BSP के पूर्व MLC मोहम्मद हाजी इकबाल की ग्लोकल यूनिवर्सिटी और मसूरी के होटल को अटैच करेगा प्रवर्तन निदेशालय!

mohammad haji iqbal Glocal University

खनन माफिया और बहुजन समाज पार्टी के पूर्व विधान परिषद सदस्य मोहम्मद हाजी इकबाल (mohammad haji iqbal) की की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। इकबाल के खिलाफ मनी लॉड्रिंग के आरोप जांच कर रहा प्रवर्तन निदेशालय जल्द ही उनकी संपत्तियां जब्त कर सकता है। विभागीय सूत्रों ने बताया कि इसकी प्रक्रिया तेजी से चल रही है।


जानकारी के मुताबिक, प्रवर्तन निदेशालय मनी लॉन्ड्रिंग रोकथान अधिनियम (पीएमएलए) के तहत केस दर्ज होने और सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर जांच कर रहा है। सीबीआई भी पूर्व एमएलसी के मामलों की जांच में जुटी है और कई बार छापेमारी भी कर चुकी है। ईडी ने हाजी इकबाल के बेटे के बयान भी दर्ज किए हैं।


Also Read: सपा नेता रमाकांत यादव को मुख्तार अंसारी के गुर्गों से जान का खतरा, राज्यपाल को पत्र लिखकर मांगी सुरक्षा


साथ ही सहारनपुर के बादशाहीबाग के पास करीब 700 एकड़ में बनी ग्लोकल यूनिवर्सिटी (Glocal University) और मसूरी के होटल सहित पूरी संपत्ति की जानकारी इकट्ठा की है। फिलहाल, प्रवर्तन निदेशालय इन दोनों संपत्तियों को बेनामी मानते हुए अटैच करने की तैयारी में है।


सूत्रों के मुताबिक, सपा सरकार में इकबाल की गिनती बेहद प्रभावशाली लोगों में होती थी। वह तत्कालीन खनन मंत्री बाबू सिंह कुशवाहा के भी बेहद करीब थे। बसपा शासनकाल में हुए बहुचर्चित एनआरएचएम और खनन घोटाले के अलावा चीनी मिलों की बिक्री में हुए घोटाले में भी इकबाल का नाम आया था।


माना जाता है कि इकबाल ने अपनी काली कमाई विश्वविद्यालय के निर्माण और होटल के कारोबार में लगाई। सीबीआई के बाद उन पर ईडी ने भी शिकंजा कसा। गहन जांच में आय से अधिक संपत्ति का मामला पाए जाने के बाद अब संपत्तियों को अटैच करने की प्रक्रिया शुरू की जा रही है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

UP में अब संस्कृत भाषा में जारी हो रहा प्रेस नोट, CM योगी ने दिया था निर्देश

BT Bureau

कांग्रेस कार्यालय में पूजा-पाठ कर नामांकन के लिए निकलेंगी सोनिया, अमेठी में स्मृति भरेंगी पर्चा

BT Bureau

विकास दुबे के एनकाउंटर से डरकर MP भागा अतीक अहमद का गुर्गा मो. अख्तर, गिरफ्तार

BT Bureau