Breaking Tube
Police & Forces Politics

किसानों ने तय रूटों का नहीं किया पालन, पुलिस पर पथराव और ट्रैक्टर चढ़ाने का किया प्रयास, कई पुलिसकर्मी घायल: ज्वाइंट कमिश्नर

Farmers protest delhi

किसान आंदोलन (Farmers Protest) के हिंसक रूप अख्तियार करने के मद्देनजर दिल्ली (Delhi) पुलिस ने किसानों से शांति बनाए रखने और कानून अपने हाथों में न लेने की अपील की है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, हम किसानों से शांति बनाए रखने और कानून अपने हाथों में न लेने का आग्रह करते हैं। ट्रैक्टरों पर सवार सैकड़ों की संख्या में आंदोलनकारियों ने कई बैरिकेड तोड़ते हुए दिल्ली में प्रवेश किया। उन्होंने पुलिस द्वारा दिए निर्देशों का उल्लंघन करते हुए इंडिया गेट और राजपथ तक पहुंचने की कोशिश की। कई स्थानों पर उन्होंने पुलिस पर पथराव करने की भी घटनाएं सामने आई हैं।


ज्वांइट कमिश्नर शालिनी सिंह ने बताया कि हम सुबह से किसानों से अपील कर रहे हैं कि जो रास्ता दिल्ली पुलिस के साथ बैठक में तय हुआ है उसका पालन करें। काफी लोग उस रास्ते से चले गए हैं लेकिन कई लोगों ने पुलिस पर पथराव किया, ट्रैक्टर चढ़ाने की कोशिश की, बैरिकेड तोड़े। हमारे कुछ लोग घायल हुए हैं। ऐसे में मजबूरन पुलिस को आंसू गैस के गोले दाने पड़े।


मौजूदा स्थिति के मद्दनेजर और आईटीओ पर पुलिस के साथ किसानों की हिंसप झड़प के कारण रायसीना हिल्स समेत सभी महत्वपूर्ण ठिकानों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। करनाल बाईपास, मुकारबा चौक, ट्रांसपोर्ट नगर, अक्षरधाम, गाजीपुर और टिकरी बॉर्डर पर भी हिंसक झड़प हुई जिसमें कई पुलिसकर्मी और किसान भी जख्मी हुए हैं।


Also Read: दिल्ली: ITO के पास आंदोलनकारियों की सुरक्षाबलों से झड़प, कई पुलिसकर्मी घायल


उधर, मार्च में शामिल किसान लाल किला में दाखिल हो गए। लाल किला पर राष्ट्रीय ध्वज उतारकर किसानों ने पीले रंग का झंडा लगा दिया। हालांकि, पुलिसकर्मी इन आंदोलकारियों को लाल किला परिसर से निकालने के प्रयास कर रही है। बता दें कि देश की राजधानी सीमाओं पर मंगलवार को स्थित विभिन्न धरना स्थलों से रवाना हुई किसानों की ट्रैक्टर रैली निर्धारित रूटों की सीमाओं को तोड़ते हुए आईटीओ और लाल किला पहुंच गई। लाल किला परिसर में भारी तादाद में किसान जमा हो गए।


Also Read : ट्रैक्टर मार्च के नाम पर उत्पात, दिल्ली में पत्थरबाजी, सुरक्षाकर्मियों को तलवार लेकर दौड़ाया, सार्वजनिक संपत्ति को पहुंचा रहे नुकसान


दिल्ली की सीमाओं पर बीते दो महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसानों को गणतंत्र किसान परेड निकालने के लिए जो रूट और समय तय किए गए थे उसकी अवहेलना करते हुए किसान समय से पहले टिकरी और सिंघु बॉर्डर पर लगे बैरीकेड को तोड़ते हुए राष्ट्रीय राजधानी की सीमा में प्रवेश कर गए। आईटीआई के पास पहुंचे किसानों को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा और आंसू गैस के गोले भी दागे गए।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

लखीमपुर खीरी: शराब के नशे में धुत सिपाही ने SP दफ्तर के बाहर काटा हंगामा, सस्पेंड

BT Bureau

लखनऊ: लापता हुईं पेट्रोलिंग को आयीं 58 साइकलें, बेखबर है आलाकमान

BT Bureau

प्रियंका गांधी का शिक्षा व्यवस्था को लेकर योगी सरकार पर निशाना, आर्थिक तंगी के कारण पढ़ाई जारी नहीं रख सकने की वजह से छात्रा ने दे दी जान

BT Bureau