Breaking Tube
Politics

पंजाब में यूपी-बिहार के मजदूरों से अमानवीय व्यवहार, गृह मंत्रालय ने कहा- ज्यादा काम करवाने के लिए देते हैं ड्रग्स

punjab drugs

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पंजाब (Punjab) की कांग्रेस सरकार को एक पत्र लिखा है, जिसमें राज्य के सीमावर्ती गांवों में किसानों के साथ काम करने वाले बंधुआ मजदूरों की एक गंभीर समस्या पर विचार करने के लिए कहा गया है। गृह मंत्रालय की तरफ से जिन मजदूरों को लेकर चिंता जताई गई है, उनमें अधिकांश उत्तर प्रदेश और बिहार के रहने वाले हैं।


दरअसल, ये बंधुआ मजूदर अच्छे वेतन के वादे पर पंजाब में काम करने के लिए अपने घर से सैकड़ों किलोमीटर दूर जाते हैं। लेकिन यहां खराब भुगतान के साथ ही इनका शोषण किया जाता है। इस 17 मार्च को पंजाब के मुख्य सचिव और डीजीपी को लिखे गए पत्र के जरिए इस अमानवीय व्यवहार के बारे में पता चला है।


Also Read: कोरोना संक्रमित के संपर्क में आने के बाद प्रियंका गांधी ने खुद को किया आइसोलेट, चुनावी कैंपेन रद्द


मंत्रालय ने कहा कि बंधुआ मजदूरों को अक्सर ड्रग्स दिया जाता है, जिससे उन्हें खेतों में लंबे समय तक काम करने में मदद मिलती है,। इससे उनकी मानसिक और शारीरिक स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ती है। मंत्रालय ने कहा कि समस्या ध्यान में रखते हुए, जिसमें मानव तस्करी, बंधुआ मजदूरी और मानवाधिकारों का उल्लंघन शामिल है, आपसे अनुरोध है कि इस मामले को देखें और इसके समाधान के लिए उचित कदम उठाएं।


राज्य सरकार से इस मामले पर प्राथमिकता आधार पर कार्रवाई की रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है। गृह मंत्रालय ने केंद्रीय श्रम और रोजगार मंत्रालय को इस मामले को चिह्नित किया है, जिसमें सभी राज्यों – विशेष रूप से बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश, ओडिशा को विभिन्न स्तरों पर जागरूकता पैदा करने के लिए उपयुक्त निर्देश जारी करने को कहा है।


Also Read: अनुसूचित जाति का दर्जा पाने के लिए ट्रक में भरकर पत्र PMO को भेजेगी निषाद पार्टी


राज्यों को यह सुनिश्चित करने के लिए कि बेहतर रोजगार की संभावनाओं और पारिश्रमिक आदि के लिए झूठे वादे करके गरीब और कमजोर पीड़ितों को बेईमान तत्वों द्वारा धोखा दिया जाता है। 2019 और 2020 में पंजाब के गुरदासपुर, अमृतसर, फिरोजपुर और अबोहर के सीमावर्ती गांवों से पकड़े गए लोगों के आधार पर परेशान करने की प्रवृत्ति का विवरण साझा किया गया है।


सीमा सुरक्षा बल ने इन दोनों जिलों के सीमावर्ती क्षेत्रों से 58 भारतीय नागरिकों को पकड़ा है। गृह मंत्रालय ने पत्र में लिखा है कि पूछताछ के दौरान यह सामने आया कि उनमें से ज्यादातर या तो मानसिक रूप से विकलांग थे या मानसिक रूप से कमजोर थे।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

ओम प्रकाश राजभर ने मुसलमानों से की बीजेपी के लिए वोट अपील, बोले- अपने अधिकारों की रक्षा करनी तो बीजेपी को जितायें

BT Bureau

सीएम योगी के गृह जनपद में 14 वर्षीय मासूम की अपहरण के बाद हत्या, अखिलेश-प्रियंका ने साधा निशाना

BT Bureau

Video: बेटी बबीता संग भाजपा में शामिल हुए महावीर फोगाट, कहा- PM मोदी से मिलती है प्रेरणा

S N Tiwari