Breaking Tube
Politics UP News

योगी सरकार पर बरसीं प्रियंका, बिजली मीटरों के लिए प्रयोगशाला बन गया है UP, ताला लगे घरों से आ रहे हजारों रुपए के बिल

Priyanka Gandhi Vadra

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने उत्तर प्रदेश में बढ़ते बिजली के बिल को लेकर सरकार पर निशाना साधा और कहा कि बिजली के बढ़ते बिलों और बिजली मीटरों का आतंक व्याप्त है। प्रियंका ने शुक्रवार को अपने जारी बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश तो बिजली मीटरों के लिए प्रयोगशाला बन गया है, बिजली के मीटर कई गुना तेज चलते पाए गए हैं। जिन घरों में ताले लगे हुए हैं, बिजली की कोई खपत नहीं हुई है, उन घरों में सात-आठ हजार रुपये तक का बिल आ रहा है।


प्रियंका गांधी ने कहा कि प्रदेश के कई जिलों में तो यह भी देखा गया कि बिना बिजली के मीटर लगे ही बिल आ गए। यूपी में बिजली के बढ़ते बिलों और मीटरों का आतंक व्याप्त है। पिछले कुछ वर्षों में बिजली दरों में व्यापक बढ़ोतरी हुई है। उन्होंने कहा कि पिछले आठ साल में ग्रामीण घरेलू उपभोक्ताओं की दरों में 500 फीसदी, शहरी घरेलू बिजली की दरों में 84 फीसदी और किसानों को मिलने वाली बिजली की दरों में 126 फीसदी की वृद्धि हुई है। पूरे प्रदेश में बिजली के बढ़ते रेट से हाहाकार मचा हुआ है।


Also Read: UP: बाहुबली विधायक विजय मिश्रा के खिलाफ बड़ी कार्रवाई, करोड़ों के आलीशन बगले पर चला बुलडोजर


कांग्रेस महासचिव ने कहा कि जनता महंगाई की मार से त्रस्त है। छोटे कारोबारियों का व्यापार चौपट हो गया है। किसानों की फसलों की खरीद नहीं हो रही है। बाढ़, ओला एवं प्राकृतिक आपदाओं की स्थिति में उनकी कोई मदद नहीं होती। फसल बीमा योजना बड़ी कम्पनियों की कमाई का साधन बनकर रह गई है। ऐसी स्थिति में बिजली के लगातार बढ़ रहे दाम, मीटरों की अनियमितताओं की मार उपभोक्ता अब नहीं सह सकते हैं।


प्रियंका ने कहा कि इस महामारी में होना तो यह चाहिए कि बिजली बिलों की दरों में बड़े पैमाने पर कमी करके जनता को राहत दी जाती। किसानों के बिजली के बिल माफ किए जाते। बुनकरों-दस्तकारों, छोटे लघु उद्योगों को बिजली बिल भुगतान में रियायत मिलती।


Also Read: मुख्तार पर एक और प्रहार, बुलडोजर कार्रवाई के बाद अब विधायकी से भी धो बैठेगा हाथ!


प्रियंका गांधी ने कहा कि किसानों को मिल रही बिजली का रेट तत्काल प्रभाव से हाफ किया जाए। बिजली मीटर घोटाले का सच सामने लाया जाए और दोषियों पर कार्रवाई हो। बुनकरों-दस्तकारों, छोटे लघु उद्योगों को बिजली भुगतान में रियायत दी जाए।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

आशुतोष के इस्तीफे पर विश्वास का तंज, कहा एक और साथी की राजनीतिक हत्या

BT Bureau

जींद उपचुनाव: राजनीति के रण में परास्त हुए रणदीप, बीजेपी के कृष्ण लाल मिड्ढा 12248 वोटों से विजयी

BT Bureau

बागपत: जयंत चौधरी की सभा में अश्लील डांस, भीड़ इकट्ठा करने के लिए लगवाये गए बार बालाओं के ठुमके

BT Bureau