Breaking Tube
Politics UP News

सीएम योगी ने दिया आजम खां को एक और झटका, जौहर यूनिवर्सिटी की 70 हेक्टेयर जमीन पर सरकार का कब्जा

Azam khan jauhar university

समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता और रामपुर (Rampur) से सांसद आजम खां (Azam Khan) की जौहर यूनिवर्सिटी (Jauhar University) की जमीन पर अब यूपी सरकार का कब्जा हो गया है. जौहर यूनिवर्सिटी पहुंचकर रामपुर प्रशासन ने सारी जमीन कब्जा में कर ली है. इसी के साथ आजम खान को वहां से बेदखल कर दिया गया है. यह जमीन करीब 70.005 हेक्टेयर बताई जा रही है. जानकारी के लिए बता दें, जौहर ट्रस्ट ही यूनिवर्सिटी का संचालन करती है और इसके अध्यक्ष आजम खान ही हैं. साथ ही, उनकी पत्नी तजीन फातिमा यहां की सचिव हैं.


बता दें कि हाईकोर्ट ने एडीएम प्रशासन के आदेश को बहाल करते हुए पिछले दिनो जौहर ट्रस्ट की याचिका खारिज कर दिया था. हाईकोर्ट से याचिका खारिज होने के बाद प्रशासन ने अब यूनिवर्सिटी के भीतर स्थित सरकारी जमीन पर कब्जा लेने की कार्रवाई शुरू कर दी है. तहसीलदार सदर प्रमोद कुमार के नेतृत्व में राजस्व और पुलिस की टीम गुरुवार को जौहर यूनिवर्सिटी पहुंची. टीम ने यहां पर जमीन का दखल लेने का काम शुरू किया.


करीब आधे घंटे की कार्रवाई के दौरान टीम ने यहां पर पहले यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर सुल्तान मोहम्मद खां से दखलनामे पर हस्ताक्षर करने को कहा, जिस पर उन्होंने हस्ताक्षर करने से इंकार कर दिया. इसके बाद प्रशासनिक टीम ने यूनिवर्सिटी में मौजूद दो लोगों को गवाह बनाते हुए उनके हस्ताक्षर ले लिए. यूनिवर्सिटी की जमीन पर कब्जा (दखल) लेने की कार्रवाई कर दी. एसडीएम सदर मनीष मीणा के अनुसार राजस्व विभाग की टीम ने यूनिवर्सिटी में स्थित सरकारी जमीन पर दखल ले लिया है. तहसीलदार सदर प्रमोद कुमार के अनुसार सरकारी जमीन पर कब्जा लेने की कार्रवाई पूरी हो गई है.


दरअसल, जौहर यूनिवर्सिटी के पास 265 एकड़ जमीन थी. अब 12.50 एकड़ शेष है. बताया जाता है कि इस जमीन को जौहर ट्रस्ट ने सबसे पहले खरीदा था. इसलिए इसे जौहर ट्रस्ट के पास छोड़ा है. इसके अलावा, पूरी भूमि सरकार की हो गई है.


गौरतलब है कि मौलाना मोहम्मद अली जौहर ट्रस्ट को वर्ष 2005 में कुछ शर्तों पर इस विश्वविद्यालय का निर्माण करने के लिए जमीन दी गई थी. इन शर्तों का पालन नहीं करने के लिए राज्य सरकार ने जमीन अधिग्रहण की कार्यवाही शुरू की. आजम खान ने इसे हाईकोर्ट में चुनौती दी थी जहां से उन्हें कोई राहत नहीं मिली. आजम खान इस ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं, जबकि उनकी पत्नी डॉक्टर तजीन फातिमा ट्रस्ट की सचिव और उनके बेटे अब्दुल्ला आजम खान इस ट्रस्ट के सक्रिय सदस्य हैं.


Also Read: मायावती ने काटा टिकट तो माफिया को बढ़ाने आगे आई ओवैसी की पार्टी, कहा- मुख्तार अंसारी को टिकट देने के लिए हैं तैयार


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

योगी सरकार को बड़ा झटका, HC ने 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर लगाई रोक

BT Bureau

शिवपाल और अखिलेश को एक मंच पर लाने में जुटे नेताजी ने निकाला ये बीच का तरीका

Jitendra Nishad

पंचायत चुनाव: इस App के जरिये अफवाहों पर लगाम लगाएगी मेरठ पुलिस, IG ने बताया खास प्लान

Shruti Gaur