Breaking Tube
Politics UP News

लखनऊ: सुनील आंबेकर की पुस्तक ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-स्वर्णिम भारत के दिशा सूत्र’ का हुआ लोकार्पण

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख सुनील आंबेकर (Sunil Ambekar) द्वारा लिखी पुस्तक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ‘स्वर्णिम भारत के दिशा सूत्र’ का शुक्रवार को सीएम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) की मौजूदगी में लोकार्पण किया गया. इस दौरान कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) को समझने के लिए उसके सेवाभाव को समझना होगा. उन्होंने कहा कि आरएसएस एक ऐसा संगठन है, जो बिना किसी सरकारी सहयोग के सेवा कार्य करता है.


सीएम योगी ने कहा कि ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ-स्वर्णिम भारत के दिशा सूत्र’ मात्र एक पुस्तक नहीं है, यह एक दृष्टि है. उन्होंने कहा कि संघ का सेवा कार्य लोगों को बरबश ही अपनी ओर खींचता है. बूंद और शक्कर के मिलन की तरह ही आरएसएस अपनी उपस्थिति का एहसास कराता रहा है. उन्होंने कहा कि शक्कर की तरह इसे हर कोई एहसास करता है. यही इस पुस्तक में भी दिया है. यदि संघ को समझना है तो उसके सेवा भाव को समझना होगा.


उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में भी संघ ने अपना एहसास कराया. हर लोग चिंतित थे कि कैसे लॉकडाउन में परिस्थितियों को संभाला जाए. जहां दुनिया का हर व्यक्ति स्वतंत्रता का सदुपयोग व दुरपयोग दोनों करना जानता है, ऐसे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पहला संगठन था, जो लोगों को घर-घर जाकर सहायता पहुंचाने के लिए आगे आया था. राज्य सरकारों ने उपेक्षा की होगी लेकिन आरएसएस ने किसी की उपेक्षा नहीं की. सेवा की यह पराकाष्ठा रही कि लोगों को चप्पल पहनाने से लेकर घर पहुंचाने तक का काम किया था. आरएसएस ने किसी की जाति किसी का धर्म नहीं पूछा था. उन्होंने कहा कि इसी का नतीजा रहा कि मजदूरों को उनके घर तक पहुंचाने में सरकारों को सहायता मिल पाई.


मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि संघ को समझना है तो उसके सेवा भाव को समझना होगा. देश में कहीं भी आपदा आती है तो स्वयंसेवक स्व स्फूर्त रूप से वहां के सेवा भाव से जुड़ता है. यही तो राष्ट्रवाद है. आपदा के समय खुद की परवाह नहीं करते हुए गरीबों के जीवन में किस तरह संघ ने आनंद भरा, यह पूरी दुनिया ने देखा है. यदि आपके विरोध में कोई बोलने वाला नहीं है तो आपने अच्छा काम नहीं किया. संघ ने यही काम किया है. संघ ने हमेशा सेवा भाव से सेवा काम किया है. यहां से निकलकर स्वयंसेवक निकलकर सुदुर दक्षिण भारत में सेवा काम कर सकता है, तो वह स्वयं सेवक ही कर सकता है. ऐसी सोच भी संघ ही सकता है.


दत्तात्रेय होसबाले ने कहा कि जिस तरह से किसी एक बिंदू को देखकर पूरे हिन्दू समाज के बारे में कह देना उपयुक्त नहीं होगा. वैसे ही किसी जगह को देखकर पूरे भारत के बारे में नहीं कह सकते. हिन्दुस्तान की पहचान हिन्दू है. इसकी पहचान हिन्दुत्व है. हिन्दुत्व का अर्थ हिन्दु धर्म नहीं है. इसको संकुचित रूप से नहीं देखना चाहिए. संकुचन के कारण ही कुछ लोगों ने संघ के बारे में संकुचित विचार रख दिया. पूर्व में वरिष्ठ स्तम्भकार नरेन्द्र भदौरिया और गोविंद वल्लभ पंत संस्थान के निदेशक बद्री नारायण ने पुस्तक के बारे में विस्तार से बताया.


पुस्तक के लेखक सुनील आंबेकर ने कहा कि वह विश्वविद्यालयों में जाते थे तो बहुत सारी जिज्ञासाओं के बारे में पता चलता था. हमें यह भी पता चला कि एक ऐसी पीढ़ी भी है, जिन्हें पूरी दुनिया के बारे में जानकारी मिलती है और उनके तुलनात्मक अध्ययन करना चाहते हैं. ऐसे लोग भी आने लगे कि भारत के बारे में जो भी उन्होंने जाना कि जो भी भारत के बारे में जाना वह संपूर्ण नहीं है. ऐसे हमारे भीतर यह भाव जागा कि हम इसके लिए क्या कर सकते हैं. विदेशों में रह रहे भारतीयों में यह विचार देखा गया कि हम भारत के लिए क्या कर सकते हैं.


इसी विचार के आने के बाद हमने इस पुस्तक के बारे में विचार किया और संगठन के प्रति उठ रहे जिज्ञासाओं के समाधान करने का हमने किताब के माध्यम से प्रयास किया. इस किताब में संघ को समाहित नहीं किया जा सकता लेकिन मैं जो भी समझ पाया, उसे समझाने का प्रयास किया.


गौरतलब है कि सुनील आंबेकर ने पूर्व में ‘द आरएसएस-रोडमैप्स फॉर द 21 सेंचुरी’ नामक पुस्तक अंग्रेजी में लिखी थी, जिसका वर्ष 2019 में संघ प्रमुख मोहन राव भागवत ने लोकार्पण किया था. शुक्रवार को जिस पुस्तक का लोकार्पण हुआ है, वह अंग्रेजी पुस्तक का ही हिन्दी रुपान्तरण है. इसका हिंदी में अनुवाद डा. जितेंद्र वीर कालरा ने किया है. प्रभात प्रकाशन ने इसे प्रकाशित किया है. 272 पृष्ठों की इस पुस्तक के माध्यम से सुनील आंबेकर ने संघ और संघ की आंतरिक कार्यप्रणाली को दस अध्यायों में सम्पूर्ण विश्व के सामने रखा है. इनमें संघ की भावभूमि, संघ की मूल अवधारणाएं, संघ की कार्यप्रणाली, शाखा पद्धति तथा संरचना, संघ की दृष्टि में भारत का इतिहास, हिंदुत्व का पुनरोदय, जाति प्रथा और सामाजिक न्याय, भूमंडलीकरण, आधुनिकता और महिला आंदोलन प्रमुख हैं. यह पुस्तक संघ की कार्यप्रणाली और उसकी भावी योजनाओं को विस्तार से समझाती है.


लोकार्पण कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सह सरकार्यवाह डॉ कृष्ण गोपाल, पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्र प्रचारक अनिल जी अवध प्रांत के प्रांत प्रचारक कौशल जी, संघ के संयुक्त क्षेत्र प्रचार प्रमुख कृपाशंकर, वरिष्ठ प्रचारक मनोजकांत, अवध प्रान्त के प्रचार प्रमुख डॉ. अशोक दुबे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के छात्र संगठन मंत्री रमेश गरिया, प्रांत संगठन मंत्री घनश्याम शाही और अवध प्रान्त के सह प्रान्त प्रचार प्रमुख दिवाकर अवस्थी प्रमुख रूप से उपस्थित रहे. कार्यक्रम का संचालन प्रभात प्रकाशन के प्रमुख प्रभात कुमार ने किया और धन्यवाद ज्ञापन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पूर्वी उत्तर प्रदेश क्षेत्र के क्षेत्र प्रचार प्रमुख नरेंद्र सिंह ने किया.


Also Read: यदि RSS को समझना है तो उसके सेवा भाव को समझना होगा: सीएम योगी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

आगरा में बच्ची की मौत पर प्रियंका गांधी बोलीं- मुखमरी से मर जाना सरकार के माथे पर कलंक

Jitendra Nishad

आंतकी मसूद अजहर को मानती है आदर्श, पाकिस्तान-दुबई से जुड़े मिले तार, हीर खान को रिमांड पर लेकर पूछताछ की तैयारी

BT Bureau

अखिलेश यादव का ऐलान- UP में सपा सरकार बनी तो लागू करेंगे पदोन्नति में आरक्षण व्यवस्था

Jitendra Nishad