Breaking Tube
Politics

यूपी: मंत्री श्रीकांत शर्मा का कांग्रेस पर हमला, बोले- चिदंबरम अगर निर्दोष हैं तो क्यों भागे-भागे घूम रहे

यूपी सरकार के प्रवक्ता और सूबे के उर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा (Shrikant Sharma) ने  बुधवार को आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media Case) को लेकर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के दिग्ग्ज नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) और कांग्रेस पर जमकर हमला बोला है. उन्होंने साफ़ शब्दों में पूछते हुए कहा कि अगर चिदंबरम वाकई निर्दोष हैं तो क्यों भागे-भागे घूम रहे हैं. इसके साथ ही शर्मा ने चिदंबरम को बचाने में जुटी कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया है.


श्रीकांत शर्मा ने कांग्रेस नेता राहुल गाँधी पर निशाने साधते हुए कहा कि मोदी सरकार की भ्रष्टाचारियों पर कार्रवाई से आकंठ भ्रष्टाचार के दलदल में डूबी कांग्रेस के फ्लॉप अध्यक्ष श्रीमान राहुल गांधी का बिलबिलाकर विलाप करना लाज़मी है, क्योंकि, वह स्वयं फ्रॉड के मामले में जमानत पर हैं.


सत्ता का दुरुपयोग करती आई कांग्रेस

एजेंसियों के दुरुपयोग के पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष के बयान पर पलटवार करते हुए ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कांग्रेस परिवार और उनके वफादार लंबे समय से ऐसा करते आए हैं. साध्वी प्रज्ञा और असीमानंद जैसे निर्दोष इसका शिकार बने. अब तो सदुपयोग हो रहा है. 307 करोड़ के INX मीडिया घोटाले समेत अन्य मामलों में एजेंसियां निष्पक्ष रूप से अपना काम कर रही हैं.


चिदंबरम निर्दोष तो क्यों भाग रहे

कानूनी प्रक्रिया का राजनीतिकरण करने पर सवाल उठाते हुए प्रदेश सरकार के प्रवक्ता ने कहा कि श्रीमान राहुल गांधी जी इतिहास गवाह है, कांग्रेस सत्ता के दुरूपयोग के लिए कुख्यात रही है. अगर पी चिदंबरम ईमानदार हैं तो भाग क्यों रहे हैं? जिन्होंने देश को लूटा है उनको क़ानून का सामना करना होगा. भ्रष्ट कांग्रेस भ्रष्टाचार का राजनीतिकरण न करे. बल्कि जांच एजेंसियों को सहयोग करे.


जो जमानत पर वो सवाल उठा रहे

इस दौरान पी चिदंबरम का बचाव करने उतरीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के आरोपों को बेबुनियाद बताते हुए ऊर्जा मंत्री ने कहा कि राजस्थान और हरियाणा में गरीब किसानों की जमीन हड़पने वाले श्रीमान वाड्रा की पत्नी कांग्रेस महासचिव श्रीमती प्रियंका रॉबर्ट वाड्रा का पी चिदंबरम का बचाव करना जायज है. क्योंकि फ्रॉड में उनके पति और भाई भी जमानत पर हैं.


जानें क्या है मामला

आरोप है कि चिदंबरम ने वित्त मंत्री रहते हुए रिश्वत लेकर आईएनएक्स को 2007 में 305 करोड़ रु. लेने के लिए विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड से मंजूरी दिलाई थी. जिन कंपनियों काे फायदा हुआ, उन्हें चिदंबरम के सांसद बेटे कार्ति चलाते हैं. सीबीआई ने 15 मई 2017 काे केस दर्ज किया था. 2018 में ईडी ने भी मनी लाॅन्ड्रिंग का केस दर्ज किया. एयरसेल-मैक्सिस डील में भी चिदंबरम आरोपी हैं.


पूरे मामले में कब-कब क्या हुआ

15 मई 2017: आईएनएक्स मीडिया मामले में सीबीआई ने मुकदमा दर्ज किया, जिसमें इस समूह पर 2007 में विदेशों से 305 करोड़ रुपये लेने के लिए एफआईपीबी की मंजूरी हासिल करने में अनियमितता का आरोप लगाया 


2018: प्रवर्तन निदेशालय ने इससे जुड़े धन शोधन का मुकदमा दर्ज किया. सीबीआई ने पूछताछ के लिए वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम को समन किया


30 मई 2018: चिदंबरम ने उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल कर सीबीआई द्वारा दर्ज भ्रष्टाचार के मामले में अग्रिम जमानत मांगी 


23 जुलाई 2018: चिदंबरम ने प्रवर्तन निदेशालय के धन शोधन मामले में भी अग्रिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल की


25 जुलाई 2018: उच्च न्यायालय ने दोनों ही मामलों में चिदंबरम की गिरफ्तारी पर रोक लगाई


25 जनवरी 2019: उच्च न्यायालय ने दोनों ही मामलों में चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर अपना फैसला सुरक्षित रखा


20 अगस्त 2019: उच्च न्यायालय ने दोनों ही मामलों में चिदंबरम को अग्रिम जमानत देने से किया इनकार


21 अगस्त 2019: सुप्रीम कोर्ट का तुरंत सुनवाई से इनकार, मगर बाद में सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को सुनवाई करने का फैसला लिया है.


Also Read: ‘शौचालय बने कम, तो ज्यादा कैसे बताए’, CM योगी ने कई जिलों के DM को भेजा कारण बताओ नोटिस


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

भारतीय मुसलमानों को ‘पाकिस्तानी’ कहने वालों को दी जाए तीन साल की सजा : ओवैसी

BT Bureau

Video: चमकी बुखार से मर रहे बच्चे, मैच का स्कोर पूछ रहे थे बिहार के स्वास्थ्य मंत्री

BT Bureau

NRC को देशभर में लागूकर घुसपैठिए बाहर निकालेंगे, हिंदू और बौद्ध शरणार्थियों को ढूंढकर देंगे नागरिकता: अमित शाह

BT Bureau