Breaking Tube
Politics

वसीम रिजवी ने कहा- दिल्ली हिंसा AIMIM नेता वारिस पठान के बयान का नतीजा

Waseem rizvi

यूपी शिया वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिजवी वसीम रिजवी (Waseem rizvi) ने दिल्ली में हो रही हिंसा के लिए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन पार्टी के नेता वारिस पठान को जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने कहा कि दिल्ली हिंसा वारिस पठान के बयान का रिजल्ट है। इस दौरान रिजवी ने तंज कसते हुए यह भी कहा ये हिंसा शाहीन बाग में बैठी दादी और नानियों की जिहालत का नतीजा है।


इसके साथ ही वसीम रिजवी (Waseem rizvi) ने सभी से हाथ जोड़कर अपील है कि कांग्रेसी जहर का प्याला लोग न पिएं। कांग्रेस के जाल में फंसकर हुकूमत के खिलाफ माहौल मत बनाओ। हुकूमत, देश और सीएए कानून हमारा है। आपस में लड़कर मरने वाले को कोई शहीद नहीं कहता।


कर्नाटक के गुलबर्गा में एक जनसभा को संबोधित करते हुए अपने बयान में वारिस पठान ने कहा था, ‘ईंट का जवाब पत्‍थर से देना हमने सीख लिया है। मगर इकट्ठा होकर चलना होगा। अगर आजादी दी नहीं जाती तो हमें छीनना पड़ेगा। वे कहते हैं कि हमने औरतों को आगे रखा है…अभी तो केवल शेरनियां बाहर निकली हैं तो तुम्‍हारे पसीने छूट गए। तुम समझ सकते हो कि अगर हम सब एक साथ आ गए तो क्‍या होगा। 15 करोड़ हैं लेकिन 100 (करोड़ हिंदू)के ऊपर भारी हैं। ये याद रख लेना।


Also Read: कपिल मिश्रा बोले- जिन्होंने कभी बुरहान और अफ़ज़ल को आतंकी नहीं माना, वे मुझे आतंकी कह रहे हैं


इससे पहले रिजवी ने शाहीन बाग के प्रदर्शन को गलत ठहराया था। उन्होंने कहा था कि शाहीन बाग का धरना हक मांगने की लड़ाई नहीं, बल्कि हिंदुओं का हक छीनने की जिद है। वसीम रिजवी ने एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी पर जमकर निशाना साधते हुए कहा कि पाकिस्तान पहले ‘कसाब’ भेजता था, लेकिन अब ओवैसी वायरस से हिंदुस्तान में कसाब तैयार किये जा रहे हैं।


Also Read: CAA हिंसा: विनोद मांगते रहे मिन्नतें लेकिन रहम नहीं खाए दंगाई, ‘अल्लाह हु अकबर’ नारे के साथ पीट-पीटकर मार डाला


वसीम रिजवी ने 20 फरवरी को मीडिया में दिए अपने बयान में कहा था कि अगर ऐसे ही हालत रहे तो इस्लामिक दाढ़ी और बगैर मूंछ के डरावने चेहरे हिंदुस्तान की गंगा-जमुनी तहजीब को तार-तार कर देंगे। उन्होंने कहा कि शाहीन बाग जैसे हजारों धरने हो जाएं लेकिन सीएए (CAA) पर कोई समझौता नहीं होना चाहिए। बता दें अपने बयानों के चलते रिजवी कई बार विवादों में घिरे हैं और उन पर इस्लाम विरोधी होने का आरोप भी लगते रहे हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

महिलाओं के लिए नीतियों के क्रियान्वयन की जांच-परख महिला अधिकारियों के जिम्मे करना सरकार का अभिनन्दनीय कदम: हरिश्चन्द्र श्रीवास्तव

Praveen Bajpai

कर्म ‘योगी’: जिनके लिए परंपरा से बड़ा है फर्ज, तोड़ी वर्षों पुरानी रिवाज

BT Bureau

MeToo: विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने दिया इस्तीफ़ा, बोले- लड़ेंगे कानूनी लड़ाई

BT Bureau