Prophet Row: कुवैत में नूपुर शर्मा के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों की गिरफ्तारी, वीजा रद्द कर किया जा रहा डिपोर्ट, प्रवेश पर स्थाई प्रतिबंध

पैगंबर पर भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा (Nupur Sharma) और नवीन कुमार जिंदल के बयान के विरोध में प्रदर्शन करने वाले विदेशी नागरिकों को कुवैत सरकार (Kuwait Government) ने कड़ा रूख अख्तियार किया है. सरकार प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार करके वापस उनके देश भेजेगी. इसके साथ ही उनका वीजा रद्द कर दिया जाएगा और उनके कुवैत में प्रवेश करने पर स्थाई रूप से प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है.

भारतीयों समेत अप्रवासी एशियाई कर रहे थे प्रदर्शन

भाजपा की निलम्बित नेता नूपुर शर्मा के खिलाफ 10 जून को कुवैत के फहाहील इलाके में प्रदर्शन करने वाले भारतीयों समेत कई अन्य एशियाई देशों के लोग विरोध कर रहे थे. तभी वहां भारी संख्या में पुलिस बल वहां पहुंच गया. इन सभी को ट्रकों में भरकर ले जाया गया. वहां के कानून के उल्लंघन के आरोप में इन सभी प्रवासियों के वीजा रद्द कर दिए गए और निर्वासन केंद्र भेजा गया है. अब इन सभी प्रवासियों को वापस उनके देश भेज दिया जाएगा. साथ ही पुलिस यह भी जांच कर रही है कि इन लोगों को प्रदर्शन करने के लिए किसने उकसाया था?

कर दिए जाएंगे ब्लैकलिस्ट, कभी नहीं जा पाएंगे कुवैत

निर्वासन केंद्र भेजे गए भारतीयों समेत सभी एशियाइयों प्रदर्शनकारियों के नाम अब कुवैत में प्रतिबंधित लोगों की सूची में शामिल हो जाएंगे. ये अब कभी दोबारा कुवैत में प्रवेश नहीं कर सकेंगे. आपको बता दें कि अरब देशों में धरने-प्रदर्शन के आयोजन पर प्रतिबंध लागू है. किसी भी तरह के प्रदर्शन को नियमों और कानूनों का उल्लंघन माना जाता है और इसमें शामिल लोगों को उनके देश भेज दिया जाता है.

एक बयान में कुवैत सरकार ने कहा, “यहां रहने वाले सभी लोगों को देश के कानूनों का पालन करना होगा. किसी भी तरह के धरने-प्रदर्शन से दूर रहना जरूरी है. कुवैत में प्रदर्शन करने वाले प्रवासियों में ज्यादातर भारतीय, पाकिस्तानी और बांग्लादेशी मुसलमान थे. रिपोर्ट के अनुसार पुलिस इन प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर निर्वासन केंद्र भेजेगी। वहां से उन्हें उनके देशों में भेज दिया जाएगा. उनका वीजा भी रद्द कर दिया जाएगा. ”

गिरफ्तार किए जा चुके हैं प्रदर्शन करने वाले लोग भारतीय

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कुवैत सरकार अपने कानूनों को लेकर काफी सख्त है. अगले कुछ हफ्तों के भीतर नूपुर शर्मा के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले भारतीयों को वापस भेज दिया जाएगा. कुवैत सरकार के अनुसार, पैगंबर मुहम्मद के समर्थन में जुमे की नमाज के बाद फहील इलाके में प्रदर्शन करने वाले प्रवासियों को गिरफ्तार करने के निर्देश जारी किए गए हैं. उन प्रदर्शनकारियों ने कुवैत के नियमों का उल्लंघन किया है, जो निर्धारित करता है खाड़ी देशों में प्रवासियों को धरना-प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं होती.

क्या कहता है नियम?

कुवैत में रहने वाले प्रवासियों के लिए एक कानून है, जिसके अनुसार उन्हें किसी भी प्रदर्शन या फिर धरने में शामिल होने की मनाही होती है. इसके अलावा कुवैत में वैसे भी प्रदर्शन वाले नियमों को लेकर काफी सख्ती है, जिसकी वजह से वहां काफी कम प्रदर्शन होते हैं.

Also Read: ब्रिटेन में पैगंबर मोहम्मद की बेटी फातिमा पर बनी फिल्म का विरोध करना इमाम को पड़ा भारी, सरकार ने नौकरी से किया बर्खास्त

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )