अब ‘चिलमजीवी’ कहना अखिलेश यादव को पड़ा भारी, आक्रोशित संत समिति ने दी चेतावनी, कहा- अपनी ओछी राजनीति में संतों को न घसीटें, नहीं तो…

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार पर हमला करने के लिए भगवा वस्त्रधारी संतों को चिलमजीवी कहना समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) को भारी पड़ने जा रहा है। अखिल भारतीय संत समिति (Akhil Bhartiya Sant Samiti) ने अखिलेश यादव के इस अपमानजनक बयान पर कड़ी आपत्ति जाहिर करते हुए तुरंत संत समाज से माफी मांगने को कहा है।

अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा कि अखिलेश यादव से माफी मांगने की मांग की है। साथ ही उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि अखिलेश यादव के इस अनर्गल बयान से आक्रोशित देश भर से सभी संतों ने एक स्वर में भगवा व संतों और सनातन धर्म के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले नेताओं से अपनी ओछी राजनीति में संतों को नहीं घसीटने की अपील की है।

Also Read: ‘रात को मेरे घर में ताका-झांकी करते हैं प्रियंका के निजी सचिव और कांग्रेसी नेता’ लखनऊ में राज्य संपत्ति विभाग के कर्मचारी ने दर्ज कराया मुकदमा

स्वामी जितेंद्रानंद ने अखिलेश यादव को माफी नहीं मांगने पर गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है। उन्हें सख्त लहजे में कहा है कि संत समाज पूरे उत्तर प्रदेश में घर-घर जाकर ऐसे छद्म समाजवादी व कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ जनजागरण अभियान चलाएगी जो लगातार सनातन हिंदुओं और उनकी परंपराओं पर अनर्गल बयानबाजी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सनातन परंपरा के अनुसार ही विश्व भर में पूजनीय व सम्मानित मठ के पीठाधीश्वर हैं। भारत में प्राचीन काल से धर्म सत्ता राज सत्ता से हमेशा सर्वोपरि रही है।

उन्होंने कहा कि एक संत को संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकार से मुख्यमंत्री पद पर आसीन होने से किसी को भी अधिकार नहीं मिल जाता कि उन्हें गन्दी राजनीति का शिकार बनाया जाए। उन पर निशाना साधने के लिए संत समाज के विषय मे आपत्तिजनक व निचले स्तर की टिप्पणियां की जाएं। अखिलेश यादव व राहुल गांधी जैसे नेता केवल अल्पसंख्यक तुष्टिकरण के चलते सनातन धर्म के विरुद्ध ऐसी ओछी टिप्पणियां कर रहे हैं।

Also Read: किसानों के हित में PM मोदी का बड़ा फैसला, तीनों कृषि कानून वापस लेगी केंद्र सरकार

स्वामी जीतेन्द्रानंद सरस्वती ने अखिलेश यादव और उनके प्रवक्ताओं से संतों का अपमान करने के लिए, सम्पूर्ण संत व सनातन सामाज से अविलंब क्षमा याचना करने के लिए कहा। उन्होंने कहा यदि अखिलेश यादव क्षमा नहीं मांगते तो संत समाज सक्रिय रूप से पूरे देश मे घर घर जाकर इस पितृ द्रोही, सनातन द्रोही तथाकथित नेता के खिलाफ जन-समर्थन की अपील करेगी और इसका परिणाम इन्हें भुगतना ही होगा।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )