Breaking Tube
Social

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की बेटी अनीता बोस ने PM मोदी से किया अनुरोध, कहा- उनकी अस्थियों की हो DNA जांच

Netaji Subhash Chandra Bose Daughter Anita Bose requested PM Narendra Modi to DNA test of bones keeping in Japanese Temple

नेताजी सुभाष चंद्र बोस (Netaji Subhash Chandra Bose) की बेटी अनीता बोस (Anita Bose) ने पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) से अनुरोध किया है कि वह जापानी मंदिर में रखी नेताजी की अस्थियों की डीएनए (DNA) जांच कराएं ताकि उनके मृत्यु के रहस्य से पर्दा उठे. अनीता ने कहा कि जब तक कि कुछ और साबित नहीं हो जाता, उन्हें लगता है कि उनके पिता की मृत्यु 18 अगस्त 1945 को विमान दुर्घटना में हुई थी. उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री से व्यक्तिगत रूप से और जापानी अधिकारियों से भी मिलना चाहती हैं ताकि रेनकोजी मंदिर में रखी अस्थियों के डीएनए परीक्षण की अनुमति के लिए अनुरोध कर सकें.


Also Read: यूपी: Fake Calls से परेशान 108 एम्बुलेंस सेवा, किसी की नहीं हो रही शादी तो किसी के पति है शराब के आदी…


अनीता ने जर्मनी से टेलिफोन पर दिए साक्षात्कार में कहा, ‘जब तक कुछ और साबित नहीं हो जाए, मुझे विश्वास है कि उनकी मृत्यु 18 अगस्त 1945 को विमान दुर्घटना में हुयी लेकिन बहुत लोग इसे नहीं मानते’. अनीता ने कहा, ‘मैं निश्चित रूप से चाहूंगी कि रहस्य सुलझ जाए. मुझे लगता है कि रहस्य को सुलझाने का सबसे अच्छा तरीका जापान में मंदिर में रखी अस्थियों का डीएनए परीक्षण करना है. डीएनए परीक्षण से सच साबित हो जाएगा’.


Also Read: यूपी: प्राइमरी-जूनियर स्कूलों में सेल्फी से देनी होगी हाजिरी, भड़के शिक्षक बोले- अविश्वास जताकर हमारा अपमान किया जा रहा, विरोध करेंगे


साथ ही उन्होंने कहा कि वह केंद्र सरकार के पास रखी गई फाइलों को सार्वजनिक करके रहस्य को सुलझाने के प्रयासों को लेकर धन्यवाद देने के लिए प्रधानमंत्री मोदी से मिलना चाहेंगी. उन्होंने कहा कि वह जापानी अधिकारियों से भी अनुरोध करेंगी कि अगर उनके पास नेताजी से जुड़ी कोई फाइल है तो वे उसे सार्वजनिक करें.


अनीता बोस से जब पूछा गया कि ‘क्या उन्हें लगता है कि पिछली सरकारों ने (कांग्रेस सरकार सहित) नेताजी की मौत के रहस्य को जानबूझकर नजरअंदाज किया है’? तो इसके जवाब पर उन्होंने कहा कि ‘उनके पास ऐसा कोई सबूत नहीं है, लेकिन पिछली सरकारों में कुछ लोग नहीं चाहते थे कि यह रहस्य सुलझे और इसकी अनदेखी की गई’.


Also Read: योगी कैबिनेट विस्तार: जानें किन वजहों से गई 4 मंत्रियों की कुर्सी


बता दें प्रेस सूचना ब्यूरो (PIB) के एक ट्वीट पर पैदा हुए विवाद के बाद अनीता बोस ने यह टिप्पणी की है. पीआईबी ने 18 अगस्त को ट्वीट कर कहा था कि वह महान स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस को उनकी पुण्यतिथि पर याद करता है. हालांकि, नेताजी के परिवार के एक वर्ग द्वारा विरोध किए जाने के बाद इस ट्वीट को हटा लिया गया था.


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

अब स्मार्टफोन करेगा दूध में पानी और केमिकल मिलावट की जाँच

Satya Prakash

Video : बाइक सवार संदिग्ध युवकों ने दिखाया यूपी पुलिस को ठेंगा, साइकिल पर पैडल मारते रह गए पुलिसवाले

Jitendra Nishad

इस गांव में मुसलमानों पर टोपी पहनने और दाढ़ी रखने पर लगा प्रतिबंध, खुले में नमाज भी नहीं

Jitendra Nishad