Breaking Tube
Social

कोरोना: खाली ट्रेनें महामारी से लड़ने में साबित हो सकती हैं बड़ा हथियार, डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड बनाने की तैयारी!

Worlds First Hospital Train Life Line Express will run in Korba Railway Station

कोरोनावायरस से लड़ने के लिए केंद्र सरकार की सभी विभाग कुछ न कुछ योजनाएं सामने लेकर आ रही हैं। ऐसे में अब खबर है कि भारतीय रेल कोरोनावायरस संक्रमितों को आइसोलेशन में रखने के लिए यात्री डिब्बों (Train coaches) और केबिन को देने पर विचार कर रहा है।


बता दें कि कोरोना के कहर से चीन को महज 10 दिन के अंदर 1000 बेड का अस्पताल बनाना पड़ा था। भारत में भी कोरोना के मरीजों की संख्या दिनोंदिन बढ़ रही है। ऐसे में अस्पतालों पर बढ़ते बोझ को देखते हुए यह विचार किया जा रहा है कि क्यों न हम यार्ड में बेबस खड़ी कुछ विशेष ट्रेनों को ही अस्थायी अस्पताल में तब्दील कर दें।


Also Read: लखनऊ: था लॉकडाउन और बुजुर्ग की खत्म हो गई दवाई, एक कॉल पर सिपाही ने पहुंचाई, हो रही सराहना


क्योंकि यहां बेड हैं, टॉयलेट हैं और इन्हें कहीं लाना-ले जाना भी बेहद आसान है। साथ ही अन्य सुविधाएं भी मौजूद हैं। ट्रेनों में फर्स्ट एसी और सेकेंड एसी के डिब्बे इसके लिए सबसे उपयुक्त हो सकते हैं। यही नहीं, इन डिब्बों का इस्तेमाल आइसोलेशन वार्ड के रूप में भी किया जा सकता है।


चूंकि, देशभर में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित हो चुका है। ऐसे में ये खाली ट्रेनें महामारी से लड़ने में बड़ा हथियार साबित हो सकती हैं। वैसे भी अगर देश में कोई बड़ी आपदा आती है तो घायलों को लाने, ले जाने और प्राथमिक उपचार देने के लिए ट्रेनों का इस्तेमाल किया जाता रहा है। ऐसे में कोरोना रिलीफ ट्रेनें क्यों नहीं तैयार की जा सकतीं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )


Related news

जानिए दूरदर्शन चैनल का 59 साल पुराना इतिहास

Satya Prakash

अयोध्या में सीएम योगी ने किया कोदंड राम प्रतिमा का किया अनावरण, जानें इसकी खासियत

BT Bureau

मस्जिदों पर लाउडस्पीकर की अनुमति वाली याचिका खारिज, ‘आपका धर्म दूसरे की निजता प्रभावित नहीं कर सकता’ आदेश का दिया हवाला

Jitendra Nishad