सोनभद्र नरसंहार को अंजाम देने वाला ग्राम प्रधान है समाजवादी पार्टी का क़रीबी, पीड़ितों के मुताबिक़ साइकिल का करता था प्रचार

सोनभद्र के घोरवेल तहसील के उम्भा गांव में 10 लोगों की गोली मारकर हत्या करने के सनसनीखेज मामले में राजनीति तेज होती जा रही है। विपक्ष जहा योगी सरकार की कानून व्यवस्था पर विधानसभा में सवाल उठा रहा है, तो कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी भी प्रदेश सरकार पर निशाना साधने में कोई कसर नहीं छोड़ रहीं है। लेकिन इस बीच नरसंहार के एक पीड़ित युवक ने बड़ा खुलासा किया है। पीड़ित ने बताया कि मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर साइकिल के लिए प्रचार कर रहा था और समाजवादी पार्टी का करीबी बताया जाता है।


विधानसभा चुनाव में साइकिल का प्रचार कर रहा था आरोपी ग्राम प्रधान

पीड़ित युवक हरिशंकर ने बताया कि उनके चाचा-चाची और छोटे लड़के को गोली लगी है, उन्हें घायल अवस्था में बीएचयू अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पीड़ित ने बताया कि ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर समाजवादी पार्टी की साइकिल का प्रचार कर रहा था। हरिशंकर ने बताया कि हमारे गांव को छोड़कर उसकी जहां पहचान थी, वहां प्रचार करता था। पीड़ित ने बताया कि दो साल से नहीं आया था लेकिन विधानसभा चुनाव के दौरान साइकिल का प्रचार करने आया था।


Also Read: सोनभद्र नरसंहार: पीड़ितों के रिश्तेदारों से मिलीं प्रियंका गाँधी, सरकार से पूछा- इन आंसुओ को पोंछना अपराध है क्या ?


बता दें कि सोनभद्र नरसंहार में 10 लोगों की मौत के तीन दिन बाद भी समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव मौन धारण किए हुए हैं। हालांकि, अखिलेश यादव की खामोशी पर सपा नेता अनुराग भदौरिया ने बताया कि घटना के बाद मौके पर सपा का एक प्रतिनिधिमंडल भेजा गया है। लेकिन पुलिस ने सपा नेताओं को बीच रास्ते में रोक लिया। भदौरिया कहते हैं कि 17 जुलाई को राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सोनभद्र कांड पर ट्वीट किया था।


रसूखदार है यज्ञदत्त, प्रभाव में था जिला प्रशासन

जिस 90 बीघे जमीन पर कब्जे के लिए यह हत्याकांड हुआ, उस पर गोंड आदिवासियों का दशकों से कब्ज़ा था, जबकि मूर्तिया का ग्राम प्रधान यज्ञदत्त ने इस जमीन को दो साल पहले एक पूर्व आईएएस से औने-पौने दाम में ख़रीदा था। यज्ञदत्त का परिवार वर्षों पहले पश्चिम यूपी से आकर यहां बस गया था। यज्ञदत्त गुर्जर बिरादरी से है।


Also Read: प्रियंका गांधी ने रातभर दिया धरना, बोलीं- जमानत में एक पैसा नहीं भरुंगी, डाल दीजिये जेल में, पीड़ित परिवारों से बिना मिले यहां से नहीं जाउंगी


ग्रामीणों का आरोप है कि पूरी घटना प्रशासनिक चूक की वजह से हुई है। डीएम, एडीएम, एसडीएम सहित राजस्व से जुड़े अन्य कर्मियों ने मामले को सुलझाने में कोई खास दिलचस्पी नहीं दिखाई। गोंड पक्ष डीएम से लेकर तहसील तक गुहार लगाता रहा, लेकिन प्रधान के परभाव के आगे प्रशासन चुप्पी साधे रहा। सपा के जिलाध्यक्ष विजय यादव ने प्रशासन की भूमिका पर सवाल खड़े किए हैं। उनका आरोप है कि अधिकारियों द्वारा विवाद का निपटारा न किए जाने की वजह से इतनी बड़ी घटना हुई।


प्रत्यदर्शियों ने बयां किया नरसंहार का खौफनाक मंजर

घटना के प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया है कि मामले का मुख्य आरोपी यज्ञदत्त जमीन पर कब्जा करने के लिए 32 ट्रैक्टर ट्रॉलियों में लगभग 200 लोगों को लाया था। आदिवासियों के विरोध के बाद, उनके लोगों ने आधे घंटे तक उन पर गोलीबारी की। वहीं, एक महिला ने बताया कि उन लोगों ने फायरिंग शुरू कर दी थी, जैसे ही लोगों ने जमीन पर गिरना शुरू किया, उन्होंने लाठियों से हमला करना शुरू कर दिया…यह बहुत खौफनाक था। एक और प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि फायरिंग करीब आधे घंटे चली।


Also Read: अखिलेश और मायावती सरकार में हुआ 24000 करोड़ का राजस्व घोटाला, CAG रिपोर्ट ने खोली बुआ-बबुआ की पोल


प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हम नहीं जानते थे कि वे लोग हथियारों-बंदूकों के साथ आए थे, जब उन्होंने फायरिंग शुरू की। हम खुद को बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे और पुलिस को बुलाना शुरू कर दिया। पुलिस एक घंटे के बाद आई। फायरिंग करीब आधे घंटे चली। बता दें कि उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में जमीन से जुड़े विवाद को लेकर हुए नरसंहार में ग्राम प्रधान सहित 11 नामजद और 50 अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है और नरसंहार में इस्तेमाल किए गए हथियारों को पुलिस ने बरामद कर लिया है। इस मामले में ग्राम प्रधान के भतीजे समेत 24 लोग गिरफ्तार किए जा चुके हैं।


Also Read: कांग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित का 81 वर्ष की आयु में निधन, 15 साल तक रहीं थी दिल्ली की मुख्यमंत्री


इस हत्याकांड के मुख्य आरोपी ग्राम प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर को पुलिस को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। प्रधान के साथ उसके भाई को भी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। इस हत्याकांड में 10 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई थी जबकि करीब 23 लोग जख्मी हो गए थे। फिलहाल, मामले की जांच की जा रही है।


देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करेंआप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )