Breaking Tube
Special News

जानिए रावण दहन का शुभ मुहूर्त, ग्रहों की स्थिति लाएगी इन कामों से घर में सुख-शांति

स्पेशल न्यूज़: हर साल अक्टूबर के महीने से त्यौहारों का सिलसिला शुरू हो चूका है. नवरात्रि के साथ-साथ अब लगातार कई त्यौहार पड़ रहे हैं जिसमें नवरात्रि के अगले दिन यानी आज ( 25 अक्टूबर ) को दशहरे का त्यौहार मनाया जा रहा है. हिंदू शास्त्रों के मुताबिक इस दिन भगवान श्री राम ने लंका के अधिपति रावण का विनाश किया था. जिसके बाद हर साल दशहरे पर रावण का दहन किया जाता है. चलिए बताते हैं आपको दशहरे का शुभ मुहूर्त.


इस दिन कई ग्रहों की स्थिति में बदलाव होंगे. जिसमें दशहरे के दिन शाम चार बजकर 57 मिनट तक मकर राशि से कुंभ राशि में गोचर करेगा. इसके साथ ही सूर्य इस दिन तुला राशि में, शुक्र कन्या राशि में, गुरू स्वराशि धनु में, शनि स्वराशि मकर में, बुध अपनी मित्र राशि तुला में वक्री रहेंगे. इसके अलावा मंगल अपनी मित्र राशि मीन में वक्री, केतु वृश्चिक राशि और राहु वृषभ राशि में रहेंगे.


पौराणिक कथाओं के मुताबिक जब दुर्योधन ने पांडवों को बारह वर्ष तक वनवास और एक वर्ष तक अज्ञातवास दिया था. तो अज्ञातवास के वक्त अर्जुन अपने धनुष वाण शमी के वृक्ष में छिपा कर विराट राजा के यहां नौकरी करने लगे थे.


एक दिन विराट राजा के बेटे ने गायों की रक्षा के लिए कौरवों से लड़ने गया, तब शत्रुओं की प्रबल सेना को देखकर रणभूमि से भागने का प्रयास किया. पर अर्जुन ने उसे रोककर अपने धनुष वाण शमी के पेड़ से निकालें और शत्रुओं पर विजय प्राप्त की. इसी तरह विदयादशमी प्राचीन काल से राक्षसत्व पर देवत्व की विजय का दिन है.


घर में सुख-शांति के लिए करें ये काम-


महान ज्योतिषों के अनुसार, रावण दहन के बाद बची हुई लकड़ियों को घर में लाकर किसी सुरक्षित स्थान पर रख देना चाहिए. इससे घर में सारी नकारात्मक शक्ति प्रवेश नहीं करती . साथ ही घर पर कोई भी तंत्र-मंत्र काम नहीं करता है.


इसके अलावा इस दिन मीठे दही के साथ शमी के पेड़ की अपराजिता मंत्रों से पूजा करें. इससे घर पर देवी-देवताओं की कृपा बनी रहेगी और आपको सफलता भी मिलेगी.


लंका दहन के बाद किसी गरीब को गुप्त दान करना चाहिए. साथ ही नई झाड़ू को मंदिर में किसी ऐसी जगह रख दें, जहां उसे कोई देख ना पाए. ऐसा करने से आपकी पैसों से जुड़ी समस्या से छुटकारा मिल जाता है.


इसके अलावा रावण दहन से पहले घर के उत्तर-पूर्व में कुमकुम, चंदन और लाल फूल से अष्टदल कमल की तस्वीर बनाएं और पूजा करें. फिर इनकी पूजा के बाद शमी के पेड़ की पूजा करके उसकी थोड़ी मिट्टी तिजोरी या पूजा स्थल पर रख दें. ऐसा करने से भी घर में सुख और समृद्धि बनी रहती है.


Also Read: भीष्म पितामह का सफलता मंत्र: अगर जीवन में होना है सफल तो इन 5 लोगों से बना लें दूरी


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

जानिए कब है हिंदी दिवस, हिंदी भाषा को समर्पित इस दिन का इतिहास और महत्त्व

Satya Prakash

बुद्ध पूर्णिमा में विधि-विधान से करें पूजा, दरिद्रता ही नहीं अकाल मृत्यु का भय भी होगा दूर

Satya Prakash

नेहा कक्कड़ जैसी नई-नवेली दुल्हन के लिए करवाचौथ टिप्स, इन चीजों के सेवन से खुद को रख सकतीं हैं डाइड्रेटेड व फ्रेश

Satya Prakash