Breaking Tube
International Sports

‘गजवा-ए-हिंद’ का ख्वाब देख रहे शोएब अख्तर, बोले- हिंदुस्तान पर हमला कर कब्जाएंगे कश्मीर, खून से लाल हो जाएंगी नदियां

‘गजवा-ए-हिंद’ का जिन्न का एक बार फिर सामने निकलकर आया है. ग़ज़वा-ए-हिंद पाकिस्तान का सपना है और वहां के कट्टर मौलवी, आतंकवादी और सेना अक्सर भारत के खिलाफ गज़वा-ए-हिंद की धमकी देते रहे हैं. लेकिन अब यही धमकी पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शोएब अख्तर ने दी है. उन्होंने आक्रमण के द्वारा कश्मीर को कब्जाने और हिंदुस्तान को गजवा-ए-हिदं बनाने की बात कही है. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि इस दौरान खून से नदियां लाला हो जाएंगी. ‘गजवा-ए-हिंद’ को लेकर शोएब अख्तर का सोशल मीडिया पर वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है.


वायरल वीडियो समा टीवी के इंटरव्यू का बताया जा रहा है. जिसमें शोएब अख्तर को ‘गजवा-ए-हिंद’ के बारे में बात करते हुए देखा और सुना जा सकता है. ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ का मतलब है- ‘भारत के खिलाफ पवित्र युद्ध’. इस इंटरव्यू में शोएब अख्तर को कहते हुए सुना जा सकता है,


दो बार खून ले लाल होगी नदी

पाक क्रिकेटर कहते हैं, ”हमारी पाक किताब में लिखा है कि ‘ग़ज़वा-ए-हिंद’ जगह लेगा और अटक में जो नदी है, वह दो बार खून से लाल रंग की होगी. अफगानिस्तान से सेना अटॉक तक पहुंचेगी. शमल मशरिक से उठने के बाद, उज्बेकिस्तान से अलग-अलग दल पहुंचेंगे. यह सब एक ऐतिहासिक क्षेत्र खोरासन को बताता है, जो लाहौर तक फैला हुआ था.”


जब एंकर उनसे कहती है कि लोगों को यह पढ़ना चाहिए तो अख्तर कहते हैं, हां…. फिर वहां से शामल मशरिक निकलेंगी… तब आप वो कश्मीर फतह करेंगे. उसके बाद इंशाअल्लाह आगे चलेंगे.” शोएब अख्तर का यह वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है और लोग उनकी इस सोच की आलोचना भी कर रहे हैं.


बता दें कि यह कोई पहला मौका नहीं हैं, जब किसी पाकिस्तानी क्रिकेटर ने कश्मीर और भारत के खिलाफ जहर उगला है. इससे पहले शाहिद अफरीदी, जावेद मियांदाद जैसे क्रिकेटर भी भारत के खिलाफ बोलते रहे हैं. वहीं अख्तर भी भारत के खिलाफ जहर उगलते आए हैं.


क्या है गजवा-ए-हिंद ?

ग़ज़वा-ए-हिंद का अर्थ है एक ऐसा युद्ध जो मोहम्मद साहब के निर्देश के मुताबिक लड़ा जाए. इस मान्यता के अनुसार हर मुसलमान का कर्तव्य है कि वो सुनिश्चित करे- दुनिया भर में बुत-परस्ती यानी मूर्ति पूजा बंद होनी चाहिए. क्योंकि मूर्ति पूजा बंद होने के बाद ही दुनिया में इस्लाम का राज कायम हो सकेगा. आप इस बात को ऐसे समझिए कि भारत में सबसे ज्यादा हिंदू रहते हैं. यानी भारत में सबसे ज्यादा मूर्ति पूजा की जाती है. इसीलिए भारत के हिंदुओं का जब तक धर्म परिवर्तन नहीं होगा, तब तक ग़ज़वा-ए-हिंद का सपना पूरा नहीं हो सकेगा.


इस मानसिकता के अनुसार ग़ज़वा-ए-हिंद तभी संभव है जब या तो भारत के कई टुकड़े हो जाएं या फिर भारत पूर्ण रूप से इस्लामिक देश बन जाए. भारत में Two Nation Theory और इस्लामिक राष्ट्र की Ideology इसी मानसिकता का नतीजा है. ग़ज़वा-ए-हिंद पाकिस्तान का सपना है और वहां के कट्टर मौलवी, आतंकवादी और सेना अक्सर भारत के खिलाफ गज़वा-ए-हिंद की धमकी देते रहे हैं. वर्ष 710 तक भारत में इस्लाम का नामो-निशान नहीं था. 711 में मोहम्मद बिन कासिम नें सिंध पर आक्रमण करके. पहला इस्लामिक राष्ट्र बनाने की कोशिश की थी. ये कोशिश अगले 12 सौ वर्षों तक चलती रही.


Also Read: बरेली: कम बच्चे पैदा करने की अपील पर मौलाना बोले- इस्लाम इसकी इजाजत नहीं देता, अगर कोई हमें रोकेगा तो विरोध करेंगे


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अल्पसंख्यकों पर अत्याचार को लेकर अमेरिका ने की पाकिस्तान की निंदा

BT Bureau

100 मी. रेस जीत गोल्ड मेडल लाने वाली पहली भारतीय महिला बनीं दुती चंद, राष्ट्रपति और पीएम ने दी बधाई

S N Tiwari

Lockdown के बीच दिखी Spider-Man की दरियादिली, घर-घर जाकर ऐसे की लोगों कि मदद, तस्वीरें वायरल

Satya Prakash