Diwali 2021: दीपावली पर अपनाएं ये 10 वास्तु टिप्स, घर में सदा के लिए होगा मां लक्ष्मी का वास

कल यानी कि 4 नवंबर को दिवाली का बड़ा त्योहार है। इस त्योहार पर श्री गणेश और लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है। ऐसी मान्यता हैं कि दिवाली के दिन वास्तु शास्त्र का भी महत्‍व है और इसे शुभ माना जाता है। दिवाली के दिन वास्‍तु टिप्‍स को अपनाकर मां लक्ष्मी का आशीर्वाद आसानी से हासिल किया जा सकता है। ज्योतिषों की मानें तो कई ऐसे उपाय हैं जिनकी अपनाकर आप अपने घर में सुख समृद्धि ला सकते हैं। ये दस उपाय आपके जीवन को सफल बनाने में काफी कारगर रहेंगे।

1. कबाड़ करें बाहर

दिवाली के पहले टूटा-फूटा फर्नीचर, टूटा इलेक्ट्रिक सामान, पुरानी चीजें, पुरानी मैग्जीन, टूटा हुआ कांच, टूटे बर्तन और टूटी मूर्तियों को घर से बाहर निकाल दें। सफाई की पुरानी चीजें फेंककर नई चीजें घर लाएं।

2 .घर की पुताई

दिवाली में पुताई और दिशा के आधार पर रंगों का चुनाव भी महत्‍वपूर्ण माना जाता है। जैसे उत्तर में हरा, पिस्ता या आसमानी, ईशान में पीला आसमानी या सफेद, पूर्व में सफेद या हल्का नीला, आग्नेय में नारंगी, पीला, सफेद या सिल्वर, दक्षिण में नारंगी, गुलाबी या लाल, नैऋत्य में भूरा या हरा, पश्‍चिम में नीला या हल्का नीला, वायव्य में हल्का स्लेटी, क्रीम या सफेद रंग कराना चाहिए।

3. द्वार पर लगाएं बंदनवार

दिवाली के दिन आम या पीपल के नए कोमल पत्तों की माला यानी बंदनवार जरूर बांधें। माना जाता है कि देवगण इन पत्तों की भीनी-भीनी खुशबू से घर में खींचे चले आते हैं। दरवाजे पर आसपास शुभ-लाभ लिखें और स्वस्तिक का चिन्ह बनाएं। द्वार के उपर गणेशजी का चित्र या मूर्ति लगाएं। कभी भी नकली फूलों से या नकली वस्तुओं से सजावट न करें।

4. देहरी पूजा

वास्तु के अनुसार दहलीज़ टूटी-फूटी नहीं होनी चाहिए। बेतरतीब दहलीज वास्तुदोष ला सकती है। हमेशा दरवाजा मजबूत और सुंदर होना चाहिए। चौखठ पर कभी पैर नहीं रखें। दिवाली के दिन देहरी के आसपास घी का दीपक लगाना चाहिए। ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का प्रवेश आसान होता है।

5. रंगोली या अल्‍पना

दिपावली के पांच दिन रंगोली और मांडना (बनाना) ‘चौंसठ कलाओं’ में से एक है जिसे ‘अल्पना’ कहा गया है। वास्तुशास्त्र में इसका बहुत महत्व है। रंगोली में श्री जरूर बनाएं ये समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। माना जाता है कि सुंदर अल्‍पना या रंगोली लक्ष्मी का घर में स्‍थाई बनाता है।

6. मिट्टी का दीपक जलाना

धनतेरस से भाईदूज तक घर में मिट्टी का दीपक जलाने से घर का वास्तु दोष दूर होता है और सभी तरह के संकट समाप्त हो जाते हैं।

7. तिजोरी का वास्तु

तिजोरी ऐसी रखें कि वह उत्तर की दिशा में खुले। तिजोरी में स्वर्ण को पीले या लाल वस्त्र में लपेटकर रखें। दोनों ही जगहों पर सुगंध फैलाने के लिए इत्र का उपयोग कर सकते हैं, परंतु इत्र न रखें। दीपावली के पांचों दिन रोज एक फूल जरूर रखें और उसे उत्तर या ईशान दिशा में रखकर उसकी पूजा करें।

8. सेंधा नमक का पोछा

नमक या सेंधा नमक का पोछा लगाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा बाहर निकल जाती है। इसमें चुटकी भर हल्दी डाल लेंगे तो सोने पर सुहाग। इसके बाद घर में गुग्गुल या चंदन से वातावरण को सुंगंधित बनाएं।

9. कपूर जलाएं

घर में सुबह और शाम को कपूर जरूर जलाएं। यह हर तरह के वास्तु दोष को समाप्त कर देता है और कई तरह से वास्‍तु लाभ देता है।

10. दिवाली में उत्तर दिशा और पीले या लाल वस्त्र का विशेष महत्‍व

दीवाली की पूजा उत्तर दिशा या फिर उत्तर-पूर्व दिशा में करनी चाहिए और पूजा करने वाले का मुख घर की उत्तर या पूर्व दिशा में होना चाहिए। पूजा के समय पीले या लाल रंग के वस्त्र पहनना चाहिए और घर के सभी सदस्यों को मिलकर पूजा करना चाहिए।

ALSO READ: कार्तिक मास: सुख समृद्धि के लिए इन उपायों को अपनाकर करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न, बरसेगी विशेष कृपा

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )