Breaking Tube
Crime UP News

‘ब्रेकिंग ट्यूब’ की खबर का असर, उपदेश यादव के हत्यारों वाहिद-अरमान पर योगी ने लगाई रासुका, दोनों को बचाने के आरोपी इंस्पेक्टर सलीम को सस्पेंड कर शुरू कराई जांच

आगरा के चर्चित उपदेश यादव अपहरण हत्याकांड (Updesh Yadav Murder Case) मामले में ‘ब्रेकिंग ट्यूब’ की खबर का बड़ा असर हुआ है. मुख्यंमंत्री योगी आदित्य़नाथ (Yogi Adityanath) ने खुद खबर कां संज्ञान लेकर हत्यारों वाहिद अली और अरमान पर रासुका लगाने का आदेश का दिया है. वहीं इन दोनों दरिंदों को बचाने के आरोपी इंस्पेक्टर सलीम खान को सीएम के आदेश पर सस्पेंड कर दिया गया है. इतना ही नहीं मुख्यमंत्री ने आरोपी इंस्पेक्टर के खिलाफ जांच भी शुरू करा दी है.


फर्ज से ऊपर मजहब रखने का आरोप

दरअसल, इंस्पेक्टर सलीम खान पर आरोप है कि उन्होंने ड्यूटी से ऊपर मजहब रखा औऱ मामले को दबाने का प्रयास किया. ग्रामीणों में इसे लेकर काभी आक्रोश देखने को मिला, उन्होंने इंस्पेक्टर पर बेहद संगीन आरोप लगाए, जिसके चलते एसएसपी ऩे उन्हें तुरंत लाइन हाजिर कर दिया. वहीं इस मामलो को ब्रेकिंग ट्यूब ने प्रमुखता से उठाया जिसका सीएम योगी ने रविवार को संज्ञान लिया औऱ सलीम खान को निलंबित करने का आदेश दे दिया.


जानें क्या है पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक, धोर्रा गांव में रहने वाले रघुनाथ सिंह किसान हैं. उनका इकलौता बेटा 9 वर्षीय बेटा उपदेश घर के बाहर खेलते समय गायब हो गया था. परिजनों ने हर तरफ उसकी तलाश की, लेकिन वह नहीं मिला. तब शिकायत दर्ज कराने थाने पहुंचे, लेकिन तब पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. फिर परिजनों ने क्षेत्रीय बीजेपी विधायक रामप्रताप सिंह चौहान से संपर्क किया. बुधवार को विधायक के हस्तक्षेप के बाद किडनैपिंग का मुकदमा दर्ज हो पाया. इसके बाद गुरुवार सुबह रघुनाथ की पत्नी की नजर घर के पास रखे पड़ोसी के भूसे के ढेर पर गई. उन्हें लगा जैसे अंदर कुछ छिपाया गया है.


जब भूसा हटाया तो अंदर बच्चे का शव दिखा. अपने बच्चे का शव देखते ही पूरे घर में चीत्कार मच गई. माता-पिता का रो-रो कर बुरा हाल हो गया. घटना की सूचना पाकर पुलिस के भी होश उड़ गए. गांव वाले लापरवाही का आरोप लगाते हुए पुलिस के खिलाफ ही लामबंद हो गए. तनाव देख गांव में कई थानों की फोर्स तैनात कर दी गई.


दरअसल, बच्चे के पिता रघुनाथ ने मुकदमा लिखाते समय ही अपने पड़ोसी पर शक जाहिर किया था. इस पर पुलिस ने पड़ोसी को पूछताछ के लिए भी बुलाया था और भी छोड़ दिया. इस मामले में ग्रामीणों ने बताया कि पांच साल पहले उपदेश का चचेरा भाई 17 वर्षीय हिमांशु लापता हुआ था और उसका भी आज तक कोई सुराग नहीं मिला है.


घटना के समय वाहिद की मौके पर ही मौजूदगी की जानकारी मिलने पर पुलिस का शक उस पर गहरा गया. अयूब की कोई घटना में संलिप्तता नहीं मिली. पुलिस ने शनिवार सुबह छह बजे भागूपुर चौराहे के पास वाहिद को मुठभेड़ में पैर गोली लगने के बाद गिरफ्तार कर लिया. एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि वाहिद ने पूछताछ में जुर्म कुबूल लिया है. उसका कहना है कि रुपयों की जरूरत थी. ऐसे में उसने बालक के अपहरण की साजिश रची. इसमें वाहिद का दोस्त अरमान भी शामिल है.


मंगलवार को वाहिद ने चॉकलेट देने के बहाने बच्चे को उठाया. उसे जैसे ही वह बाड़े की ओर ले गया और वहां बेहोश करने की कोशिश कर रहा था. तब तक बालक शोर मचाने लग गया. खुद को फंसने के डर से गला घोंटकर उसकी हत्या कर दी. बताया जा रहा कि मृतक बच्चे के पिता ने पड़ोस में रहने वाले वाहिद अली और उसके साथियों की ताउम्र मदद की. लेकिन दरिंदो ने अहसानफरामोशी दिखाई और उसी बाप के कलेजे के टुकड़े को उससे छीन लिया.


Also Read: आगरा उपदेश यादव हत्याकांड: धर्म बड़ा या फर्ज, इंस्पेक्टर सलीम खान ने ड्यूटी के ऊपर रखा मजहब! हत्यारे वाहिद अली और अरमान को बचाने के आरोप में हुए लाइन हाजिर


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

श्री कृष्ण जन्मभूमि विवाद: शाही ईदगाह मस्जिद ने कोर्ट में दाखिल किया ऑब्जेक्शन, कल आ सकता है फैसला

BT Bureau

बुलंदशहर हिंसा: SIT और STF जाँच में बड़ा खुलासा, एक फौजी ने मारी थी इंस्पेक्टर सुबोध को गोली

BT Bureau

एटा: छुट्टी पर जाने की जिद में सिपाही ने सीनियर अफसर को दी मां-बहन की गलियां, ADG ने किया सस्पेंड

BT Bureau