Breaking Tube
Politics UP News

बर्थडे स्पेशल: जब अपनी पार्टी कार्यकर्ता को दिल दे बैठे मुलायम, बेहद दिलचस्प है ये Love Story

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के संरक्षक मुलायम सिंह यादव (Mulayam Singh Yadav) का आज 82वां जन्मदिन है. समाजवादी पार्टी ने प्रदेश भर में विविध आयोजन किए हैं. इसी क्रम में रविवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) ने मुलायम सिंह को फोन करके बधाई दी. मुलायम सिंह यादव की दीर्घायू की कामना वाले कई होर्डिंग सपा मुख्यालय पर लगाए गए हैं. चूंकि मुलायम सिंह यादव का स्वास्थ्य इन दिनों ठीक नहीं है. इसलिए उनका आयोजन में शामिल होना अभी तय नहीं है. वैसे मुलायम की सियासी जीवन पर तो आपने काफी कुछ पढ़ा होगा लेकिन आज हम आपको बताने जा रहे हैं मुलायम मुलायम सिंह यादव और साधना गुप्ता की प्रेम कहानी के बारे में.


Image result for mulayam singh yadav chieldhood photos

मुलायम सिंह यादव का जन्म उत्तर प्रदेश के इटावा जिले के सैफई में 22 नवम्बर, 1939 को हुआ था. इनके पिता का नाम सुघर सिंह और माता का नाम मूर्ति देवी है. मुलायम सिंह ने आगरा विश्वविद्यालय से स्नातकोत्तर (एम.ए) एवं जैन इन्टर कालेज करहल (मैनपुरी) से बी0 टी0 सी की शिक्षा हासिल की और फिर एक इन्टर कालेज में अध्यापन कार्य शुरू किया.


Related image
साधना गुप्ता (दाएं)

कहते हैं मुलायम सिंह का राजनीतिक सितारा जब बुलंदियों पर था तो साधना गुप्ता उनकी जिंदगी में आई थी. दोनों की मुलाकात 1982 मेंं उस दौरान हुई जब मुलायम लोकदल के अध्यक्ष बने थे. उस वक्त साधना पार्टी में महज एक कार्यकर्ता के बतौर काम कर रही थी. बेहद खूबसूरत और तीखे नैन-नक्श वाली साधना पर जब मुलायम की नजर पड़ी तो वह भी बस उन्हें देखते रह गए. अपनी उम्र से 20 साल छोटी साधना को पहली ही नजर में मुलायम दिल दे बैठे थे. साधना गुप्ता यूपी के इटावा के बिधुना तहसील की रहनेवाली हैं. 4 जुलाई 1986 में उनकी शादी फर्रुखाबाद के चंद्रप्रकाश गुप्ता से शादी हुई थी. तो इस तरह मुलायम भी पहले से शादीशुदा थे और साधना भी.


साधना गुप्ता

वहीं अखिलेश यादव की बायोग्राफी ‘बदलाव की लहर’ में मुलायम और साधना के रिश्ते का जिक्र हैं. एक न्यूज वेबसाइट के मुताबिक, मुलायम की मां मूर्ती देवी अक्सर बीमार रहती थीं. साधना गुप्ता ने लखनऊ के एक नर्सिंग होम और इसके बाद में सैफई मेडिकल कॉलेज में इलाज के दौरान मूर्ति देवी की देखभाल की थी. एक बार मेडिकल कॉलेज में एक नर्स मूर्ति देवी को गलत इंजेक्शन लगाने जा रही थी. उस समय वहां मौजूद साधना ने नर्स को रोक दिया. उस वक्त साधना की वजह से मुलायम की मां मूर्ति देवी की जान बची गई थी. इस बात से मुलायम काफी प्रभावित हुए थे. यही से दोनों एक-दूसरे के नजदीक आए थे. बताया जाता है कि 1994 में प्रतीक यादव के स्कूल फॉर्म में पिता के नाम पर एमएस यादव और पते की जगह मुलायम सिंह यादव के ऑफिस का एड्रेस दिया हुआ था. यह भी कहा जाता है कि साल 2000 में प्रतीक के अभिभावक के रूप में मुलायम का नाम दर्ज हुआ था.


Image result for mulayam singh yadav mother
मुलायम अपनी माँ मूर्ति देवी के साथ

कहते हैं 80 के दशक में साधना और मुलायम की प्रेम कहानी की भनक अमर सिंह के अलावा और किसी को नहीं थी. इसी दौरान 7 जुलाई 1987 को साधना ने एक पुत्र प्रतीक को जन्म दिया. कहते हैं कि साधना गुप्ता के साथ प्रेम संबंध की भनक मुलायम की पहली पत्नी और अखिलेश की मां मालती देवी को लग गई.  इसी बीच सन 1990 में साधना ने पहले पति से औपचारिक तलाक ले लिया. मालती देवी के निधन के बाद साधना ने मुलायम पर उन्हें अपनी आधिकारिक पत्नी घोषित करने का दबाव बनाया, लेकिन पारिवारिक ख़ासकर अखिलेश यादव के चलते मुलायम इस रिश्ते को नाम देने से पीछे हटते रहे.


Image result for mulayam singh yadav  AMAR SINGH OLD PICTURES

वहीं नब्बे के दशक में जब मुलायम मुख्यमंत्री बने तो धीरे-धीरे बात फैलने लगी कि उनकी दो पत्नियां हैं लेकिन किसी की मुंह खोलने की हिम्मत ही नहीं पड़ती थी. इसके बाद 90 के दशक के अंतिम दौर में अखिलेश को साधना गुप्ता और प्रतीक गुप्ता के बारे में पता चला. कहते हैं कि उस समय मुलायम साधना गुप्ता की हर बात मानते थे.


मुलायम के राजनीतिक और व्यक्तिगत जीवन के किस्से

साल 2003 में अखिलेश की मां मालती देवी की बीमारी से निधन हो गया और मुलायम का सारा ध्यान साधना गुप्ता पर आ गया. हालांकि, मुलायम अब भी इस रिश्ते को स्वीकार करने की स्थिति में नहीं थे. मुलायम और साधना के संबंध की जानकारी मुलायम परिवार के अलावा अमर सिंह को थी. मालती देवी के निधन के बाद साधना चाहने लगी कि मुलायम उन्हें अपना आधिकारिक पत्नी मान लें, लेकिन पारिवारिक दबाव, ख़ासकर अखिलेश यादव के चलते मुलायम इस रिश्ते को कोई नाम नहीं देना चाहते थे.


Related image
मुलायम और उनकी पहली पत्नी मालती देवी

2006 में साधना अमर सिंह से मिलने लगीं और उनसे आग्रह करने लगीं कि वह नेताजी को मनाएं. अमर सिंह नेताजी को साधना गुप्ता और प्रतीक गुप्ता को अपनाने के लिए मनाने लगे. साल 2007 में अमर सिंह ने सार्वजनिक मंच से मुलायम से साधना को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार करने का आग्रह किया और इस बार मुलायम उनकी बात मानने के लिए तैयार हो गए लेकिन अखिलेश इसके लिए कतई तैयार नहीं थे. इसके बावजूद मुलायम सिंह यादव ने 23 मई 2003 को मुलायम ने साधना गुप्ता से शादी कर उन्हें अपनी पत्नी का दर्जा दिया.


Also Read: UP में भाजपा को हराने के लिए भतीजे से हाथ मिलाएंगे शिवपाल, बोले- लेकिन प्रसपा का नहीं होगा सपा में विलय


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

योगी का ‘ऑपरेशन नेस्तनाबूत’ जारी, अतीक के शूटर जुल्फिकार उर्फ तोता की आलीशान कोठी जमींदोज

BT Bureau

राज्यमंत्री अशोक चांदना ने पुलिसकर्मियों को जमकर लताड़ा, बोले- ‘नौकरी छुड़वाकर टोल पर लगवा दूंगा’, वीडियो वायरल

BT Bureau

कानपुर शूटआउट कांड की जांच पूरी, 5700 पन्नों की बनी है रिपोर्ट, कई पुलिसकर्मियों की भूमिका तय

BT Bureau