Breaking Tube
Government UP News

ब्राजील ने धन्यवाद देते हुए संजीवनी बूटी से की भारत द्वारा दी गई वैक्सीन की तुलना, CM योगी बोले- यह है ‘आत्मनिर्भर भारत’ की ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ भावना

कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण से मुकाबला करने के लिए भारत ना सिर्फ अपने नागरिकों की मदद करने में सक्षम दिख रहा है, बल्कि अन्य देशों की मदद के लिए भी आगे आ रहा है. इसी कड़ी में भारत सरकार ने शुक्रवार को ब्राजील (Brazil) मोरक्को के लिए कोवीशील्ड की खुराकें भेजीं. इस बाबत ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोल्सनारो (Jair Bolsonaro) ने एक ट्वीट कर भारत की प्रशंसा की और उसे धन्यवाद कहा. उन्होंने एक तस्वीर ट्वीट कर भारत को संजीवनी भेजने वाला बताया.


ब्राजीली राष्ट्रपति ने अपने ट्वीट में हनुमान जी की संजीवनी बूटी (Sanjeevani Booti) ले जाते हुए फोटो साझा करते हुए धन्यवाद भारत लिखा है और पीएम मोदी का आभार जताया है. उन्होंने दोनों देशों को एक प्रमुख भागीदार बताया है. उन्होंने लिखा, “नमस्कार, प्रधानमंत्री @narendramodi..ब्राजील ऐसे प्रयासों में शामिल होकर वैश्विक बाधा को दूर करने के लिए एक महान भागीदार होने के लिए सम्मानित महसूस करता है.. भारत से ब्राजील टीकों का निर्यात कर हमारी सहायता करने के लिए धन्यवाद. Dhanyavaad!”


ब्राजील के राष्ट्रपति द्वारा कोरोना वैक्सीन की तुलना संजीवनी से करने पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कहा, “वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव हेतु भारत द्वारा ब्राजील को कोविड-19 वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए आदरणीय प्रधानमंत्री श्री @narendramodi जी का हार्दिक अभिनंदन। यह ‘आत्मनिर्भर भारत’ की ‘वसुधैव कुटुम्बकम’ भावना का प्रकटीकरण है। सर्वे सन्तु निरामयाः”.


सीएम योगी ने आगे लिखा, “भारत सदैव ही वैश्विक एकता की भावना का पोषक रहा है. आदरणीय प्रधानमंत्री श्री
@narendramodi जी के नेतृत्व में भारत-ब्राजील मैत्री के स्वर्णिम युग का आरम्भ हुआ है”.


अमेरिका ने भी दी बधाई

इसके साथ ही अमेरिका के विदेश विभाग के दक्षिण एवं मध्य एशिया मामलों के ब्यूरो की ओर से ट्वीट किया गया, ‘हम वैश्विक स्वास्थ्य में भारत की भूमिका की सराहना करते हैं जिसने दक्षिण एशिया में कोविड-19 टीके की लाखों खुराक साझा की हैं.  भारत की ओर से टीके की मुफ्त खेप की आपूर्ति मालदीव, भूटान, बांग्लादेश और नेपाल के साथ शुरू हुई और यह दूसरों के लिए भी विस्तारित होगी. भारत एक सच्चा मित्र है जो वैश्विक समुदाय की मदद के लिए अपने फार्मास्युटिकल क्षेत्र का उपयोग कर रहा है.’


नेपाल, बांग्लादेश, भूटान और मालदीव को भारत ने अपनी ‘पड़ोसी पहले’ नीति के तहत अनुदान सहायता के तौर पर कोविड-19 टीका भेजा है. भारत कोरोना वायरस टीकाकरण का अभियान पहले ही बड़े पैमाने पर शुरू कर चुका है, जिसके तहत देश भर में दो टीके- कोविशील्ड और कोवैक्सीन अग्रिम मोर्चे पर लगे कर्मियों को दिये जा रहे हैं.


भारत ने भूटान को कोविशील्ड टीके की 150,000 खुराक और मालदीव को 100,000 खुराकें भेजी हैं, जबकि बांग्लादेश को कोविड-19 टीकों की 20 लाख से अधिक खुराक और नेपाल को 10 लाख खुराक भेजी गई है.


इसके साथ ही कोविशील्ड की 20- 20 लाख खुराक लेकर दो विमान शुक्रवार की सुबह मुंबई हवाई अड्डे से ब्राजील और मोरक्को के लिए रवाना हुए. भारत दुनिया के सबसे बड़े दवा निर्माता देशों में शामिल है और कोरोना वायरस का टीका खरीदने के लिए कई देशों ने इससे संपर्क किया है.


सीएसएमआईए के अनुसार, ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा तैयार कोविशील्ड टीके की 20 लाख खुराक ले कर एक विमान छत्रपति शिवाजी महाराज अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा (सीएसएमआईए) से ब्राजील के लिए और 20 लाख खुराक लेकर दूसरा विमान मोरक्को के लिए रवाना हुआ.’


Also Read: अवध शिल्प में 24वें हुनर हाट का उद्धाटन कर CM योगी ने कहा- ODOP ने परंपरागत उद्यम को दुनिया तक पहुंचाया


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

मोदी सरकार की उज्ज्वला योजना का कमाल, रिकॉर्ड उछाल के साथ 89% घरों में पहुंचा LPG कनेक्शन

BT Bureau

उन्नाव: ‘लाउडस्पीकर पर आरती बजने से फोन कॉल में पड़ता है खलल, नहीं किया बंद तो भुगतेगा अंजाम’, पुजारी को धमकाने वाले जमील व उसके साथी गिरफ्तार

BT Bureau

आडवाणी ने की प्रणब मुखर्जी की तारीफ, कहा उनका RSS मुख्यालय जाना इतिहास की महत्वपूर्ण घटना

admin