Breaking Tube
Politics UP News

AAP विधायक ने खतरे में डाली पीड़ित परिवार की जान, यूपी पुलिस ने दर्ज की FIR

दिल्ली की कोंडली विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी के विधायक कुलदीप कुमार (AAP MLA Kuldeep Kumar) की मुश्किलें बढ़ सकती है. यूपी पुलिस ने उनके खिलाफ मुकदमा (FIR) दर्ज किया है. दरअसल, आप विधायक को कोरोना था इसके बावजूद भी हाथरस पहुंच गए, जिसके चलते पीड़ित परिवास से लेकर कइय़ों की जान पर संकट आन पड़ा है. फिलहाल टेस्टिंग टीम सैंपल लेकर गांववालों का टेस्ट कर रही है.


हाथरस के चंदपा थाने में आम आदमी पार्टी के विधायक कुलदीप कुमार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. कोतवाली निरीक्षक लक्ष्मण सिंह ने इसकी पुष्टि की है. विधायक पर आरोप है उन्होंने कोरोना फैलाने का प्रयास किया. मंगलवार को जैसे ही जानकारी सामने आई कि एक बड़े टीवी चैनल की पत्रकार समेत कई लोग कोरोना संक्रमित हो गए हैं तुरंत शासन से कोरोना टेस्टिंग के लिए गांव में टीमें भेजने का आदेश दिया गया. इसके अलावा सभी से आह्वाहन किया जा रहा है कि जो लोग भी गांव गए या वहां के निवासी हैं सभी शीघ्र ही अपना कोविड टेस्ट करवा लें.


बता दें कि दिल्ली की कोंडली विधानसभा सीट से आम आदमी पार्टी के विधायक कुलदीप कुमार 6 दिन पहले कोरोना पॉजिटिव की रिपोर्ट आने के बाद भी आप विधायक सोमवार को हाथरस (Hathras) पीड़ित परिवार से मिलने पहुंच गए. अब उनका उनका पिछला ट्वीट वायरल हो रहा है जिसमें उन्होंने कोरोना से संक्रमित होने की कही है. वहीं इस बड़ी गलती पर बीजेपी ने अरविंद केजरीवाल पर अपने विधायक के खिालफ कार्रवाई की मांग की है.


भारतीय जनता पार्टी ने कहा कि कुलदीप कुमार पर महामारी एक्ट के तहत कार्रवाई होनी चाहिए. बीजेपी ने ट्वीट किया, ’29 सितंबर को सीएम केजरीवाल के विधायक अपने आप को कोरोना पॉजिटिव बता रहे हैं और 4 तारीख को सभी की जान जोखिम में डालकर ये घटिया राजनीति करने हाथरस चले गए। कौन से प्रोटोकॉल के तहत ये 5 दिन में हाथरस गए? इनपर एपिडेमिक एक्ट के तहत तुरंत कार्यवाही होनी चाहिए.’



दरअसल, बीते 29 सितंबर को कोंडली विधानसभा क्षेत्र के AAP विधायक कुलदीप कुमार ने ट्वीट किया था कि वह कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. इसके बाद भी रविवार को उन्‍होंने उत्तर प्रदेश के हाथरस में कथित तौर पर गैंगरेप पीड़ित महिला के परिवार से मुलाकात की और उसके कई वीडियो पोस्ट किए.



अब सवाल उठता है कि जब विधायक कोरोना से संक्रमित थे तो फिर वो परिजनों से मिलने क्यों पहुंचे. क्योंकि पॉजिटिव आने के बाद 15 दिन तक क्वारंटीन होना होता है. उसके बाद टेस्ट कराना होता है अगर टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव है तभी आप बाहर निकल सकते है लेकिन करीब दो सप्ताह बाद.


Also Read: बड़ा खुलासा: पत्रकार बनकर हाथरस की आग पूरे देश में भड़काने की साजिश में थे केरल के PFI एजेंट, अतीकुर्रहमान जुटा रहा था फंडिंग


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

कानपुर एनकाउंटर पर बोले सतीश महाना, ऐसी सजा देंगे कि याद रखेगा अपराधी

BT Bureau

पहले सत्य के मार्ग पर चले तब महात्मा गांधी की बात करे बीजेपी : प्रियंका गांधी

Shruti Gaur

धनंजय सिंह: छात्र राजनीति से जरायम की दुनिया, फिर संसद तक का सफर और आज जेल की सलाखों के पीछे

Jitendra Nishad