Breaking Tube
Politics UP News

अयोध्या में 5 एकड़ जमीन पर बनेगा अस्पताल, लाइब्रेरी और रिसर्च सेंटर, CM योगी को शिलान्यास का न्योता देगा सुन्नी वक्फ बोर्ड

Industrial investment

अयोध्या(Ayodhya) में राम मंदिर के भूमि पूजन के साथ ही मंदिर निर्माण का काम शुरू हो गया है. इससे पहले सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मस्जिद के लिए 5 एकड़ जमीन (5 acre land for Masjid) पहले ही चिन्हित करके एलॉट कर दी गई है. शुक्रवार को सुन्नी वक्फ बोर्ड की गठित ट्रस्ट इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन ने प्रेस नोट के माध्यम से साफ किया है कि अयोध्या में बाबर के नाम पर किसी भी मस्जिद या अस्पताल का निर्माण नहीं होगा. ट्रस्ट ने कहा है कि मिली पांच एकड़ की जमीन पर अस्पताल, रिसर्च सेंटर और लाइब्रेरी बनाया जाएगा.


‘इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन’ ट्रस्ट के सचिव और प्रवक्ता अतहर हुसैन ने शनिवार को बताया कि उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर अयोध्या जिले के धन्नीपुर गांव में वक्फ बोर्ड को मिली पांच एकड़ जमीन पर अस्पताल, लाइब्रेरी, सामुदायिक रसोईघर और रिसर्च सेंटर बनाया जाएगा. यह सभी चीजें जनता की सुविधा के लिए होंगी और जनता को सहूलियत देने का काम मुख्यमंत्री का होता है. इसी हैसियत से इनके शिलान्यास के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को आमंत्रित किया जाएगा.


उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम में न सिर्फ शिरकत करेंगे, बल्कि इन जन सुविधाओं के निर्माण के लिए सहयोग भी करेंगे. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को एक टीवी चैनल को दिए गए इंटरव्यू में अयोध्या में मस्जिद के शिलान्यास कार्यक्रम में शिरकत किए जाने की संभावना संबंधी सवाल पर कहा था कि ना तो उन्हें बुलाया जाएगा और ना ही वह जाएंगे.


सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर मिली इस जमीन पर एक मस्जिद, एक सांस्कृतिक और शोध केंद्र एक अस्पताल, एक पुस्तकालय बनाया जाएगा. प्रेस नोट में यह भी कहा गया कि भिन्न-भिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर एक झूठी खबर फैलाई जा रही है कि उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड ने एक बाबरी अस्पताल बनाने का फैसला किया है और खलील खान उसके डायरेक्टर होंगे.


गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने गत 9 नवंबर को अपने फैसले में अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण कराने और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या में किसी प्रमुख स्थान पर 5 एकड़ जमीन देने का आदेश जारी किया था. अयोध्या जनपद के सोहावल तहसील में जनपद मुख्यालय से करीब 18 किलोमीटर दूर लखनऊ-गोरखपुर राष्ट्रीय राजमार्ग से सटे थाना रौनाही के पीछे धन्नीपुर में जमीन मस्जिद के लिए दी गयी है. बता दें कि मस्जिद के लिए चिन्हित जमीन कृषि विभाग की है. 5 एकड़ भूमि जिस इलाके में दी गई है, वहां पर प्रसिद्ध शहजाद शाह की दरगाह है.


Also Read: कभी जिस दलित के घर योगी ने खाया था खाना, आज उसी को मिला राम मंदिर भूमिपूजन का पहला प्रसाद


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

लखनऊ: CAA विरोध में हिंसा के लिए भड़काया, कांग्रेस माइनॉरिटी सेल के चेयरमैन शाहनवाज आलम गिरफ्तार

BT Bureau

लोगों से चंदा मांग रहें है सीएम अरविंद केजरीवाल, बोले- हमारे पास चुनाव लड़ने के लिए पैसे ही नहीं है

S N Tiwari

बिकरु कांड में दर्ज हुए पुलिसकर्मियों के बयान, पूछा गया- विकास दुबे से दोस्ती का क्या मिला फायदा?

BT Bureau