Breaking Tube
Crime UP News

लव जिहाद का PAK कनेक्शन!, ट्रेंनिंग सेंटर से लेकर कानूनी लड़ाई तक फंडिंग के संकेत

कानपुर में लव जिहाद (Kanpur Love Jihad) मामलों की जांच कर रही स्पेशल इंवेस्टीगेशन टीम (SIT) के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं. शुरूआती जांच में सामने आया है कि किदवई नगर के जूही लाल कालोनी के रहने वाले सभी आरोपियों की स्थिति आर्थिक रूप से बेहद खराब है, लेकिन इसके बावजूद वे रहीसों की तरह जीवन जीते थे. इसके अलावा पैसे की तंगी के बावजूद उन्होंने अपने केस की पैरवी के लिए हाई कोर्ट के सबसे महंगे वकील को हायर किया है, जिन्हें आमतौर पर अमीर लोग भी हायर करने से कतराते हैं. ऐसे में एसआईटी को शक हैं कि आरोपियों का किसी आंतकी संगठऩ या कहें पाकिस्तान से फंडिंग हो रही है. आशंका ये भी है कि ये लोग इन लड़कियों को स्लीपिंग माड्यूल की तरह इस्तेमाल करना चाहते हैं.


वहीं इस मामले पर आईजी मोहित अग्रवाल का कहना है कि जव जिहाद के जितने भी मामले सामने आए हैं सभी आरोपी एक ही इलाके जूही लाल कालोनी के रहने वाले हैं या उनका वहां से कोई न कोई संबंध है. सभी के घरों में आर्थिक स्थिति बेहद खराब है इसके बावजूद भी ये ऐशो आराम की जिंदगी जीते हैं. इसके अलावा इन्होंंने हाईकोर्ट के सबसे महंगे वकील को अपने पक्ष में केस लड़ने के लिए खड़ा कर लिया. ऐसे में आशंका है कि हो सकता है कि इसके पीछे पीएफआई, सिमी, आईएसआई या जेएनके जैसे संगठनों का हाथ हो सकता है.


एसआईटी आरोपी युवकों के मोबाईल नंबर और सीडीआर सर्विलांस के जरिए इकट्ठा कर रही है. इसके अलावा इनके पास आने वाले रूपयों का भी स्त्रोत खंगाल रही है. अभी तक की गई जांच के मुताबिक आशंका है कि ये लोग हिंदू लड़कियों को बरगलाकर बतौर स्लीपिंग माड्यूल इस्तेमाल करना चाहते हैं. बता दें कि फिजा फातिमा बन चुकी शालिनी यादव के भाई अभिषेक यादव ने शालिनी को चुपके से विदेश भेजने का आरोप लगाया है. भाई के मुताबिक फैसल इसके लिए वीजा लेने की कोशिश कर रहा है.


CDR बताएगा लव या हेट स्टोरी?

IG का कहना है कि लगातार फंडिंग की बात सामने आ रही थी तो ऐसे में सभी युवकों की सीडीआर की जांच होगी. CDR के जरिये पता लगाया जाएगा कि कहीं इन लोगों का पीएफआई, सिमी और दुश्मन देशों से तो संपर्क नहीं है, जो इन्हें इस काम के लिए फंडिंग कर रहे थे. 


‘लव जेहाद’ का ट्रेनिंग सेंटर बनी जूही लाल कॉलोनी

कानपुर की जूही लाल कॉलोनी के निवासी फैसल और शालिनी यादव का वीडियो सामने आने के बाद शहर में लव जेहाद पर खोजबीन हुई तो यहां 10 मामले सामने आए. पांच मामले एक ही कॉलोनी के थे, जिनमें मुस्लिम लड़कों ने लड़कियों को प्रेमजाल में फंसाया और बहला-फुसलाकर या तो उन्हें घर से भगा लिया या फिर भगाने की तैयारी में थे. कुछ केसेज में तो लड़कियों ने धर्म बदलकर निकाह भी कर लिया था. ऐसे में परिजनों ने पुलिस से मामले की शिकायत की थी. मामले में पुलिस दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर चुकी है. 


5 नहीं बल्कि एक साथ 9 मामले आए सामने

बता दें कि अब तक मोहम्मद मोसीन खान, मोहम्मद फैसल, आमिर, शाहरूख , मोहम्मद शाहरूख के खिलाफ केस दर्ज हुआ है, वहीं मोसीन और आमिर की गिरफ्तारी हो चुकी है. गोविंदनगर, चकेरी, पनकी आदि थानों में 5 नहीं बल्कि ऐसे ही 10 मामले सामने आए हैं, जिनमें रिपोर्ट दर्ज कराई गई है. एक मामला बुधवार को ही आया है. बदनामी के डर से आरोपियों के परिजन मीडिया के सामने नहीं आ रहे हैं, वहीं पुलिस इन सभी संपर्क साधने की कोशिश कर रही है. पुलिस के पास जो आरोपियों को पते थे वे गलत निकले अब पुलिस उनतक पहुचंने की जानकारी जुटी रही है.


Also Read: फार्मूला लव जिहाद: टीनएज में हिंदू लड़कियों को फँसाओ, बालिग़ होते ही भगा कर इस्लाम क़बूल कराओ


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी: कासगंज में पुलिस टीम पर हमले का आरोपी एनकाउंटर में ढेर, अन्य की तलाश जारी

BT Bureau

लव जिहाद: 15 साल की दलित बच्ची को अगवा कर ले गया इरशाद, परिजनों ने की शिकायत तो भाई अब्दुल ने कहे जातिसूचक शब्द, जान से मारने की धमकी

BT Bureau

प्रत्येक हिंदू को कराओ एहसास, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण में खास है उसकी भूमिका: RSS

Jitendra Nishad