Breaking Tube
UP News

Lucknow University का सराहनीय कदम, कोरोना से अनाथ हुए बच्चों की शिक्षा का खर्च उठायेगी यूनिवर्सिटी

Lucknow university

कुछ समय पहले ही योगी सरकार ने उन बच्चों को गोद लेने की प्रक्रिया शुरू की थी, जिन्होंने कोरोना वायरस की वजह से अपने माता पिता को खो दिया था। इसी तर्ज पर अब लखनऊ यूनिवर्सिटी ने कुछ ऐसा ही कदम उठाया है। जिसके अंतर्गत कोविड-19 में जिन बच्चों ने अपने माता या पिता या दोनों को खोया है, उन्हें यूनिवर्सिटी गोद ले रही है और उनका पढ़ाई का पूरा खर्च भी उठाने वाली है।


इन प्रोफेसर्स ने किया फैसला

जानकारी के मुताबिक, शुक्रवार को कुलपति प्रो. आलोक कुमार राय की अध्यक्षता में हुई कार्य परिषद की बैठक में बनी। बैठक में कुलपति ने कार्य परिषद सदस्यों को इससे अवगत कराया और सभी अधिकारियों, शिक्षकों से इसके लिए आगे आने का अह्वान भी किया। जिस पर चीफ प्रॉक्टर प्रो. दिनेश कुमार व अधिष्ठाता छात्र कल्याण प्रो. पूनम टंडन ने भी एक-एक ऐसे छात्र की शिक्षा का खर्च वहन करने की घोषणा की।


मृतक शिक्षकों के आश्रितों को भी मिलेगी नौकरी

इसके साथ ही विवि ने हाल में ऐसे छात्रों की गूगल फॉर्म के जरिए सूचना प्राप्त की है, जिसमें लगभग 70 छात्रों ने आवेदन किया था। इसके साथ ही बैठक में यह भी तय हुआ कि जिन शिक्षकों अथवा शिक्षणेत्तर कर्मचारियों का कोविड-19 के कारण निधन हुआ है, उनके आश्रित को नियमानुसार जल्द नियुक्ति दी जाए। बैठक में एनईपी के अनुसार विवि के आर्डिनेंस को भी मंजूरी दी गई, जिसके बाद लखनऊ विश्विद्यालय सत्र 2020-21 में ही नई शिक्षा नीति के अनुरूप फ्लेक्सिबल एंट्री एग्जिट लागू करने वाला पहला संस्थान बन गया है। 


also read: ‘अम्मा!, वैक्सीन लगवाओ, हम गारंटी ले रहे कुछ नहीं होगा’, मेरठ में CO ने बुजुर्ग महिला से की अपील


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

शाहजहांपुर: कांस्टेबल पति की आत्महत्या के बाद से ड्यूटी पर नहीं पहुंची महिला सिपाही, SP ने दिए वेतन रोकने के आदेश

BT Bureau

UP: चुनाव ड्यूटी से लौटे 17 पुलिसकर्मियों को हुआ कोरोना, इस जिले में मचा हड़कंप

BT Bureau

आगरा: जर्जर थाने में रहने को मजबूर पुलिसकर्मी, थानाध्यक्ष पर गिर चुकी है छत

BT Bureau