Breaking Tube
Politics UP News

मलेशिया में लोग कहते हैं हमने किन्हीं परिस्थितियों में इस्लाम कबूल किया, लेकिन राम ही हैं हमारे पूर्वज: CM योगी

CM Yogi Adityanath

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने शनिवार को लखनऊ में रामायण विश्व महाकोश के प्रथम संस्करण (कर्टेन रेजर वॉल्यूम) का विमोचन और कार्यशाला का उद्धाटन किया। उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी के प्रेक्षाग्रह में इस अवसर पर उन्होंने रामायण और महाभारत की महत्ता पर भी प्रकाश डाला।


सीएम योगी ने कहा कि हम सब इस बारे में जानते हैं कि भारत आज जिस रूप में हैं, उसकी सीमाएं उत्तर से दक्षिण तक अगर आज भी उस रूप में बनी हैं तो उसका श्रेय भगवान राम को जाता है। सांस्कृतिक रूप से उत्तर और दक्षिण के बीच खाई को पाटने का काम भगवान राम ने किया। भारत गणराज्य सांस्कृतिक भारत की ठोस आधारशिला पर खड़ा है।


Also Read: UP में मंडल स्तर पर संचालित ‘अभ्युदय कोचिंग’ अब जिलों में भी होगी उपलब्ध, CM योगी ने किया ऐलान


मुख्यमंत्री ने कहा कि मलेशिया में लोग कहते हैं कि हो सकता है हमने किन्हीं परिस्थितियों में इस्लाम कबूल किया, पर हमारे पूर्वज राम ही हैं। आप पश्चिम में आइए…तो तक्षशिला है, वो भरत के पुत्र के नाम पर है, हमने इसे विस्मृत कर दिया। सीएम योगी ने कहा कि रामायण और महाभारत की कहानियां हमें बहुत कुछ बताती हैं। रामायण और महाभारत की कहानियां हमें बहुत कुछ सिखाती हैं। यह सिर्फ हमारी मानसिकता का अभाव है कि बहुत सारे लोगों अयोध्या में ही भगवान श्रीराम के अस्तित्व पर प्रश्न लगाने का काम किया। यह जो विकृत मानसिकता है, यही भारत को अपने गौरव से दूर करती यही है।


उत्तर प्रदेश में निवास करती है सनातन हिंदू धर्म की आत्मा


सीएम योगी ने कहा कि भारत की सनातन हिन्दू धर्म परम्परा के अनुसार जिन सात नगरों को हम सप्तपुरियों के रूप में जानते हैं। उसमें से तीन अयोध्या, मथुरा, काशी तो उत्तर प्रदेश में ही हैं। सनातन हिन्दू धर्म की आत्मा उत्तर प्रदेश में निवास करती है। रामायण विश्वकोश तैयार करना हमारे लिए गौरव की बात है। यह अभियान भगवान राम के बारे में बहुत सारी जानकारियां देगा। बीते चार वर्ष चार वर्ष के दौरान तमाम देशों की रामलीलाओं का मंचन अयोध्या में हुआ। उन्हें भारत के बारे में जानकारी हो या ना हो राम के बारे में है।


Also Read: टेस्टिंग के बाद अब वैक्सीनेशन में भी CM योगी अव्वल, 19 लाख से अधिक टीका लगाने वाला देश का पहला राज्य बना UP


सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भारत में पूरब से पश्चिम तक विस्तार के बारे में आज भी हमें धार्मिक ग्रंथों के माध्यम से समझने को मिलता है। रामायण विश्वकोश के कर्टन रेजर पुस्तक के विमोचन के अवसर पर उन्होंने कहा कि कंबोडिया के अंकोरवाट के मंदिर का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि भगवान विष्णु का मंदिर है। वहां की आय का मुख्य जरिया अंकोरवाट मंदिर बनता है। मैं वहां गया, एक दृश्य देख रहा था तभी गाइड आया। उसने कहा मैं आपको इसके बारे में बताऊं। मैंने पूछा कि बताओ यह कौन हैं। गाइड ने कहा, यह गॉड मंकी हैं और लंका को जलाने के दृश्य को बताने लगा। मैंने पूछा, आप हिंदू हैं, आप इनको जानते हैं। उसने कहा कि मैं बौद्ध हूं। बौद्ध हिंदू से ही आया है। उन्होंने कहा कि भगवान राम ने विष्णु के अवतार होने के बाद भी मानवीय मूल्यों को नहीं छोड़ा। वह सामान्य मनुष्य के सभी कष्टों को सहन करते हुए आगे बढ़े।


जितने लोग भारत के खिलाफ बोलते हैं, वे बिकाऊ लोग हैं


मुख्यमंत्री ने कहा कि हम यहां उपासना विधि को लेकर विवाद खड़ा करते हैं। तोड़ने के प्रयास में रहते हैं। वह अंकोरवाट में इस बात को स्वतंत्र होकर बोल सकता है। भारत में बोलेंगे तो सेकुलरिज्म को खतरा हो जाएगा। जितने लोग भारत के खिलाफ गंदा बोलते हैं, वे बिकाऊ लोग हैं। चंद पैसों के लिए अपनी आत्मा बेचते हैं, जूठन खाते हैं। भारतीय संस्कृति और समृद्ध परंपरा के बारे में जो दुष्प्रचार कर रहे वे ना घर के हैं ना घाट के।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

गोरखपुर: थानेदार की कार्यशैली से नाराज CM योगी ने SSP को लगाई फटकार, बोले- बस्ती जैसी करो कार्रवाई, सब लाइन पर आ जाएंगे

BT Bureau

‘चौकीदार चोर है’ पर राहुल का SC में हलफनामा, खेद जताया लेकिन नहीं मांगी माफी

BT Bureau

अखाड़ा परिषद की मांग- लव जिहादियों को बीच चौराहे मिले फांसी, कहा- इसे बढ़ावा देने वालों में मुस्लिम धर्मगुरु और मौलाना भी शामिल

Jitendra Nishad