Breaking Tube
Corona Politics UP News

RLD चीफ चौधरी अजीत सिंह का कोरोना से निधन, PM मोदी और CM योगी ने जताया शोक

Chaudhary Ajit singh

कोरोना वायरस की दूसरी लहर से मचे हाहाकार के बीच एक दुखद खबर सामने आई है। राष्ट्रीय लोकदल (रालोद) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह (Chaudhary Ajit Singh) का गुरुवार को निधन हो गया है। कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद गुरुग्राम के आर्टिमिस अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था, जहां आज उनकी मृत्यु हो गई है।


जानकारी के अनुसार, चौधरी अजीत सिंह बीते 22 अप्रैल को कोरोना संक्रमित हुए थे। इसके बाद से ही धीरे-धीरे उनके फेफड़ों में संक्रमण बढ़ता चला गया। मंगलवार (4 मई) को जब उनकी हालत ज्यादा बिगड़ गई तो उन्हें गुरुग्राम के आर्टिमिस अस्पताल में भर्ती कराया गया। वह बीते 2दिन से वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे। गुरुवार की सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली।


Also Read: मऊ: दूसरी बार जिला पंचायत सदस्य बने BSP प्रत्याशी का कबूलनामा, बोले- हम 10 प्रतिशत कमीशन लेकर आवंटित करते है विकास कार्य


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चौधरी अजीत सिंह को श्रद्धांजलि दी है। प्रधानंमत्री ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह जी के निधन से अत्यंत दुख हुआ है। वे हमेशा किसानों के हित में समर्पित रहे। उन्होंने केंद्र में कई विभागों की जिम्मेदारियों का कुशलतापूर्वक निर्वहन किया। शोक की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं उनके परिजनों और प्रशंसकों के साथ हैं। ओम शांति!

वहीं, सीएम योगी ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं जुझारू किसान नेता चौधरी अजीत सिंह जी का निधन अत्यंत दुःखद है। उन्हें विनम्र श्रद्धाजंलि। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने परम धाम में स्थान व शोकाकुल परिजनों को यह अथाह दुःख सहने की शक्ति प्रदान करें। ॐ शांति!


रालोद चीफ और पूर्व केंद्रीय मंत्री 82 वर्ष के थे। जानकारी के अनुसार, कोरोना की वजह से उनके फेफड़ों में संक्रमण बढ़ गया था, जिससे उनकी हालत बेहद नाजुक हो गई थी और इसी के चलते उनका निधन हो गया। देश के पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे चौधरी अजीत सिंह उत्तर प्रदेश के बागपत से 7 बार सांसद रहे और केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री भी रह चुके हैं। उनके निधन के बाद पूरे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में शोक की लहर है।


चौधरी अजीत सिंह और उनके परिवार की जाट समाज में काफी पैठ रही है। पिछले 2 लोकसभा चुनाव और 2 विधानसभा चुनाव के दौरान रालोद का ग्राफ तेजी से गिरा। यही वजह है कि वे अपने गढ़ बागपत से भी लोकसभा चुनाव हार गए। हालांकि, किसान आंदोलन के बाद से अजीत सिंह के बेटे जयंत चौधरी एक बार फिर पश्चिमी यूपी में अपनी धाक जमाने की लगातार कोशिश कर रहे हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

स्वदेशी कोरोना वैक्सीन COVAXIN का सबसे बड़ा ह्यूमन ट्रायल शुरू, परीक्षण के लिए, 100 लोगों पर किया जाएगा परीक्षण

BT Bureau

प्रियंका गांधी की मौजदूगी में कांग्रेसियों की मनमानी, बिना टोल टैक्स दिए गुजरा काफिला

Jitendra Nishad

UP में आंदोलन के दौरान किया संपत्ति का नुकसान तो पड़ेगा भारी, देना होगा 1 लाख तक का जुर्माना

Shruti Gaur