Breaking Tube
Social UP News

श्रीकृष्ण जन्मभूमि: याचिकाकर्ता का दावा- औरंगजेब ने तुड़वाया था मंदिर, ज्ञानवापी मस्जिद की तरह शाही मस्जिद ईदगाह की भी खुदाई कराने की मांग

Shri krishna janmbhoomi shahi masjid idgah

काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद अब श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन के अध्यक्ष महेंद्र प्रताप सिंह एडवोकेट ने सिविल जज सीनियर डिवीजन की अदालत में दावा किया है कि मथुरा के श्रीकृष्ण जन्मभूमि (Shri Krishna Janmbhoomi) से संबंधित 13.37 एकड़ जमीन पर बनी मस्जिद के स्थान पर मंदिर था, जिसे तोड़कर इसकी मूर्तियों को आगरा किले में बनी मस्जिद के नीचे दबा दिया गया।


महेंद्र प्रताप सिंह की मांग है कि जिस प्रकार काशी विश्वनाथ मंदिर प्रकरण में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को खुदाई कर साक्ष्य जुटाने के आदेश दिए गए हैं। उसी प्रकार से शाही मस्जिद ईदगाह की खोदाई कर साक्ष्य जुटाने के आदेश किए जाएं। यहां पर मस्जिद के नीचे मंदिर के साक्ष्य मिलेंगे और दीवारों पर मंदिर का अवशेष पत्थर भी मिलेंगे। अदालत ने अगली सुनवाई के लिए पांच मई की तारीख तय की है।


Also Read: अयोध्या की तरह अब ज्ञानवापी मस्जिद की भी खुदाई कराएगा ASI, सरकार उठाएगी पूरा खर्च, कोर्ट ने दिया आदेश


दरअसल, काशी विश्वनाथ मंदिर के संबंध में इसी प्रकार का मामला एफटीसी सिविल जज अदालत में चल रहा है। जिसमें बीते आठ अप्रैल को अदालत ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को पांच सदस्यीय कमेटी के समक्ष खुदाई कर साक्ष्य जुटाने के आदेश जारी किए गए हैं।


श्रीकृष्ण जन्मभूमि मुक्ति आंदोलन समिति अध्यक्ष ने अदालत को बताया कि वर्ष 1669 में ओरछा नरेश वीर सिंह बुंदेला द्वारा बनवाए मंदिर का विध्वंस कर ठाकुर केशवदेव जी के श्री विग्रह को उठवाकर आगरा किले में स्थित छोटी मस्जिद की सीढ़ियों के नीचे दबवा दिया। ताकि सीढ़ियों से उतरते समय यह मूर्तियां पैरों के नीचे आएं। सोमवार को उन्होंने काशी विश्वनाथ केस से संबंधित देश अदालत में पेश किया।


Also Read: काशी विश्वनाथ मंदिर के पक्षकार हरिहर पांडेय को जान से मारने की धमकी, यासीन नामक शख्स बोला- मुकदमा तो जीत गए, लेकिन मारे जाओगे


एडवोकेट महेंद्र प्रताप सिंह ने अदालत से जीपीआर और जियो रेडियोलॉजी सिस्टम के आधार पर वर्तमान मस्जिद की खुदाई करवाने की मांग की है ताकि सच्चाई सबके सामने आ सके। साथ ही इसके लिए पांच सदस्यीय समिति भी बनाने की मांग की है, इसमें हिन्दू और मुसलमान भी हों।


समिति के अध्यक्ष ने दावा किया कि औरंगजेब ने वर्ष 1669 में श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर ठाकुर केशवदेव के मंदिर को विध्वंस कर मूर्तियां आगरा किले के दीवानेखास में बनी छोटी मस्जिद की सीढ़ियों से दबवाई थीं। उन्होंने अदालत से ठाकुर केशवदेव के उन मूल विग्रहों को आगरा किले की मस्जिद की सीढ़ियों से निकलवाने की मांग की है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

आजमगढ़: दलित प्रधान की हत्या पर गरमाई सियासत, धरना दे रहे कांग्रेसी नजरबंद, छावनी में तब्दील सर्किट हाउस

Jitendra Nishad

यूपी: मंगेतर सिपाही ने मांगा दहेज तो युवती ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट से खुलासा

BT Bureau

पूर्व DGP का दावा, वोट किसी और को दिया, VVPAT से पर्ची दूसरे के नाम निकली

BT Bureau