Breaking Tube
Crime Politics UP News

दिन में सपाई, रात में कसाई! SP नेता अब्दुल मन्नान डेयरी की आड़ में चला रहा था गोकशी का गोरखधंधा, गाय के 4 कटे सिर और एक बोरा गोमांस बरामद

उत्तर प्रदेश के बिजनौर (Bijnor) में समाजवादी पार्टी के नेता औऱ नगर पालिका अध्यक्ष अब्दुल मन्नान (SP Leader Abdul Mannan) दूध डेयरी की आड़ में गोकशी का गोरखधंधा चला रहा था. सूचना पर पहुंची पुलिस ने छापेमारी कर 6 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, वहीं मुख्य आरोपी सपा नेता समेत 4 लोग फरार बताए जा रहे हैं. तलाशी के दौरान मौके से गोवंश के चार सिर, छह सींग, एक बोरा मांस और हड्डियां, चार गाय, एक बछड़ा, तीन भैंस और चार कटड़े जीवित बरामद हुए हैं. मांस जांच के लिए भेजा गया है. चर्चा है कि चेयरमैन अपने रसूख से काफी समय से घेर में गोकुशी का अवैध धंधा चला रखा था.


किरतपुर के मोहल्ला राधगान में नगर पालिका चेयरमैन एवं सपा नेता अब्दुल मन्नान के घेर में गोकुशी की शिकायत मिल रही थी. शुक्रवार दोपहर सीओ नजीबाबाद प्रवीण सिंह के नेतृत्व में किरतपुर, नांगल और नजीबाबाद थाने की पुलिस ने मन्नान के घेर में छापेमारी की घेराबंदी के बाद कुछ आरोपित फरार हो गए, लेकिन पुलिस ने छह को दबोच लिया. सभी के खिलाफ गोवंश अधिनियम में मुकदमा दर्ज किया गया है. चेयरमैन की तलाश में दबिश दी जा रही है.


वहीं इस मामले पर थाना प्रभारी सतेंद्र सिंह ने बताया कि गिरफ्तार आरोपित मोहम्मद हारुन पुत्र तहसीन, मोहम्मद आमिर पुत्र मोहम्मद युनुस निवासी मोहल्ला लुकमानपुरा कस्बा किरतपुर, मोहम्मद शानू पुत्र अयूब निवासी पठानपुरा नजीबाबाद, तारिक, ताजिर पुत्रगण खुर्शीद और मोहम्मद आमिर पुत्र मोहम्मद युनुस निवासी शहीद कस्बा किरतपुर है. वहीं आरोपित चेयरमैन अब्दुल मन्नान निवासी राधगान, अतीक कुरैशी, फरीद निवासी मोहल्ला मीठा शहीद, बाशिद निवासी गांव लाडपुरा किरतपुर फरार है.


दारोगा इरशाद अली समेत 8 निलंबित

वहीं अभी तक चल रहे इस गोरखधंधे पर कार्रवाई न करने के चलते एसपी ने 8 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है. एसपी डॉ धर्मवीर सिंह ने कस्बा इंचार्ज किरतपुर नरेशपाल दारोगा इरशाद अली, सिपाही संदीप, प्रवेश, योगेश, अमित, और पंकज को तत्काल प्रभाव से लाइन हाज़िर कर दिया गया है.


अब्दुल मन्नान का रहा आपराधिक इतिहास

सपा नेता एवं किरतपुर नगर पालिका चेयरमैन अब्दुल मन्नान का दामन दागदार रहा है. उस पर आधा दर्जन से अधिक अपराधिक मुकदमे दर्ज थे. वह काफी शातिराना अंदाज में अपना नेटवर्क चलता था. कुछ खास पुलिस अधिकारी और कर्मचारियों से सांठगाठ के चलते उसके हौंसले इतने बुलंद हो गए थे कि उसने गोकुशी का धंधा भी शुरु कर दिया. उसके गुर्गे बड़ी योजना के के साथ इस अवैध धंधे को अंजाम दे रहे थे. लोगों और पुलिस को गुमराह करने के लिए उसने डेयरी खोल रखी है. सभी को बताता था कि उसके यहां पशुपालन का कार्य होता है. उधर वह इसकी आड़ में ही अवैध पशु कटान कर रहा था. पुलिस के मुताबिक यह सब दिखावा था. वह बीच-बीच में पशु बाहर से मंगवाता था. रात के समय उनका कटान कर देता था. मांस और अन्य अवशेष बेच देते थे.


Also Read: देवरिया दीपक मणि अपहरण कांड: आरोपी SP नेता और जिला पंचायत अध्यक्ष रामप्रवेश यादव की करोड़ों की संपत्ति कुर्क


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

केजरीवाल के इशारे पर हुआ गाजियाबाद में हिंदुओं का धर्मांतरण, गंदे खेल के लिए AAP ने दी थी मोटी रकम, दलित युवक का दावा

BT Bureau

कांग्रेस के रोड शो को ‘चोर मचाए शोर’ की तरह देखती है BJP: कैबिनेट मंत्री

Jitendra Nishad

माफिया मुख्तार अंसारी के बेटे को मिला दिल्ली पुलिस का नोटिस, धोखाधड़ी के मामले में केस दर्ज

BT Bureau