Breaking Tube
Government UP News

पहली बार UP के 17 विभाग किसानों के लिए मिशन मोड में करेंगे काम, अन्नदाताओं को उद्योगपति बनने के गुर सिखाएगी योगी सरकार

Yogi Adityanath film institute

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) किसानों को खेत से लेकर खलिहान तक और बीज से लेकर बाजार तक आत्मनिर्भर बनने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। किसानों (Farmers) को सिखाया जाएगा कि वह किस प्रकार से उद्यमी बन सकते हैं और अपनी उपज को उत्पाद बनाकर कैसे बाजार में बेच सकते हैं।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर फार्मर प्रोड्यूसर आर्गनाईजेशन (एफपीओ) की क्रियान्वयन नियमावली जारी कर दी गई है। सरकार की पहल पर प्रदेश का यह पहला मौका है, जब 17 विभाग मिशन मोड में एक साथ किसानों के लिए कार्य करेंगे। प्रदेश की अर्थव्यवस्था को एक ट्रिलियन डालर के रूप में स्थापित करने में उत्तर प्रदेश कृषक उत्पादक संगठन नीति 2020 महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। इसकी मूल अवधारणा प्रदेश के हर किसान परिवार को उद्यमी के रूप में संगठित कर खेती बाड़ी में स्थापित करते हुए पूरा आत्मनिर्भर बनाना है।


Also Read: ‘मिशन रोजगार’ के तहत सीएम योगी ने 436 शिक्षकों को ऑनलाइन दिए नियुक्ति पत्र, अभ्यर्थी बोले- नहीं सोचा था इतनी पारदर्शिता होगी


नीति में एफपीओ के गठन के लिए कम से कम 10 किसान अलग-अलग परिवारों के होने चाहिए। इसके बाद रजिस्ट्रेशन और उससे संबंधित पहले साल की विधिक कार्यवाही पूरी करने के लिए करीब 36,500 रुपए का खर्च संभावित है। एफपीओ के रजिस्ट्रेशन के लिए राज्य स्तर पर कंपनी सेक्रेटरी का एक पैनल बनाया जाएगा, जो एफपीओ के प्रशासनिक, वित्तीय, वैधानिक उत्तरदायित्वों के निर्वहन में आ रही कठिनाईयों को दूर करने में सहयोग करेगा। इसमें चयनित कंपनी सेक्रेटरी के विभिन्न कार्यों के लिए फीस निर्धारित की जाएगी, जिनके माध्यम से इच्छुक एफपीओ अपना पंजीकरण करा सकेंगे।


एफपीओ को क्रियाशील बनाने और शेयर होल्डर्स की संख्या बढ़ाने में राज्यस्तरीय परियोजना प्रबंधन ईकाई की ओर से महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाएगी। इसके लिए विभिन्न विशेषज्ञों की भर्ती प्रक्रिया, योग्यता, उनके कर्तव्य और उत्तरदायित्व निर्धारित किए गए हैं। इन विशेषज्ञों की ओर से विभिन्न विभागों से समन्वय कर उनके द्वारा संचालित परियोजनाओं से कन्वर्जेंस सपोर्ट दिया जाएगा। इससे एफपीओ के व्यवसायिक कार्य शुरू हो जाएंगे।


Also Read: योगी सरकार में निखर रही युवाओं की प्रतिभा, राष्‍ट्रीय युवा उत्‍सव में बजा UP के कलाकारों का डंका, जीते दो गोल्‍ड व सिल्‍वर मेडल


नई नीति में राज्य स्तरीय परियोजना प्रबंधन ईकाई की ओर से सफल एफपीओ को राष्ट्रीय स्तर पर भ्रमण भी कराया जाएगा। इसी तरह अंतर जनपदीय भ्रमण साल में दो बार, अंतरराज्यीय भ्रमण साल में एक बार कराया जाएगा। विशेष परिस्थितियों में सहभागिता आधार पर भ्रमण कार्यक्रमों की संख्या बढ़ाई जा सकती है। इसके अलावा मानिटरिंग रिपोर्ट के आधार पर सफल एफपीओ को प्रथम, द्वितीय और तृतीय पुरस्कार भी दिए जाएंगे।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

हाथरस के बाद बलरामपुर कांड पर फूटा मायावती का गुस्सा, बोलीं- योगी आदित्यनाथ से नहीं संभल रहा UP, वापस जाएं मठ नहीं तो बुरा हो जाएगा

Jitendra Nishad

UP में माफियाओं पर योगी हंटर, कुख्यात डॉन बदन सिंह बद्दो के शाही बंगले की कुर्की, 10 ट्रक निकला सामान

BT Bureau

केंद्र ने राज्य सरकारों से मांगी सूची, मार्च तक 10 करोड़ किसानों के खातों में आएंगे 2000 रुपये

admin