Breaking Tube
Business UP News

अब प्याज उत्पादन में UP को आत्मनिर्भर बनाने की तैयारी, किसानों को दिया जाएगा प्रति हेक्टेयर 12000 रुपए का अनुदान

onion production

उत्तर प्रदेश को अब प्याज उत्पादन के मामले में नंबर वन बनाने की कवायद शुरू हो गई है। प्याज की खपत पूरी करने के लिए महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान और मध्य प्रदेश जैसे राज्यों से उम्मीद लगानी पड़ती है। प्रदेश में हर साल करीब 15 लाख मीट्रिक टन प्याज की खपत होती है, जबकि मात्र 4.7 लाख मीट्रिक टन प्याज का ही उत्पादन हो पाता है। अब ऐसे में प्याज उत्पादन (Onion Production) के लिए कम सिंचाई वाले इलाकों को चिन्हित कर विशेष कार्ययोजना तैयार की गई है। इसकी शुरुआत इसी खरीफ सीजन से कर दी जाएगी।


इस मामले में निदेशक उद्यान डॉ. आरके तोमर ने बताया कि अभी उत्तर प्रदेश में 28,538 हेक्टेयर भूमि पर प्याज की खेती की जा रही है। आत्मनिर्भरता पाने के लिए प्याज की खेती के क्षेत्रफल को एक लाख हेक्टेयर करने की जरूरत है। यानी तीन गुना रकबा बढ़ाने की आवश्यकता है। प्याज उत्पादन के लिए उन इलाकों को चिन्हित किया जा रहा है, जहां जल भराव नहीं होता है।


Also Read: UP में हो रहे WHO के मानक से 10 गुना ज्यादा टेस्ट, 24 घंटे में सिर्फ 642 केस…जानें CM योगी के ‘ट्रिपल टी’ फार्मूले ने कैसे किया असर


उन्होंने बताया कि इसके तहत बुंदेलखंड व बृज क्षेत्र के अलावा गंगा के किनारे बसे वाराणसी, जौनपुर, मीरजापुर, गाजीपुर, कौशांबी, कानपुर, फतेहपुर, फर्रुखाबाद, कन्नौज व इटावा में प्याज की खेती को बढ़ावा देने की योजना है।


किसानों को दिया जाएगा प्रति हेक्टेयर 12,000 रुपए अनुदान


जानकारी के अनुसार, प्याज उत्पादन में उत्तर प्रदेश को आत्मनिर्भर बनाने के लिए किसानों को 12 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर अनुदान दिया जाएगा। किसानों को उन्नत प्रजाति के एग्रीफाउंड डार्क रेड, भीमा सुपर तथा लाइन 883 बीज भी उपलब्ध कराए जा रहे हैं। अमूमन एक हेक्टेयर में करीब 50 हजार रुपये की लागत से 150 से 200 क्विंटल प्याज की पैदावार होती है।


Also Read: कोरोना महामारी के बीच UP की GSDP में 2.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी का अनुमान


कृषि विशेषज्ञों के अनुसार राज्य में प्याज उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए प्याज की खेती के क्षेत्रफल को एक लाख हेक्टेयर तक किए जाने की जरूरत है। जब एक लाख हेक्टेयर भूमि में प्याज की खेती होने लगेगी तब ही सूबे की जरूरत के मुताबिक प्याज का उत्पादन हो पाएगा। यह कठिन कार्य है पर इसे किया जा सकता है। उद्यान विभाग के अफसरों ने इसके लिए एक कार्ययोजना तैयार की है। इसके अनुसार हर जिले में उन इलाकों को चिन्हित किया गया है, जहां बरसात में पानी का भराव नहीं होता।


गंगा किनारे बसे जिलों में प्याज की खेती को दिया जाएगा बढ़ावा


गंगा के किनारे बसे वाराणसी, जौनपुर, मिर्जापुर, गाजीपुर, कौशाम्बी, कानपुर, फतेहपुर, फर्रुखाबाद, कन्नौज, इटावा और बुंदेलखंड के जिलों में प्याज की खेती को बढ़ावा दिया जाएगा। इसके तहत खरीफ की सीजन में गंगा के किनारे वाले इन जिलों में प्याज की खेती के रकबे में दो हजार हेक्टेयर का इजाफा करने का फैसला किया गया है। अभी गंगा के किनारे के इन जिलों में 4 हजार हेक्टेयर रकबे में करीब 80 हजार मीट्रिक टन प्याज का उत्पादन होता है। इसके अलावा प्याज की खेती करने वाले किसानों को 12 हजार रुपये प्रति हेक्टेयर अनुदान दिया जाएगा।


Also Read: UP: बिजली आपूर्ति की शिकायतों पर अफसरों को कड़ा निर्देश, ऊर्जा मंत्री ने कहा- तत्काल करें उपभोक्ता की समस्या का निवारण


सरकार का मानना है कि प्याज की खेती को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे प्रयासों से प्रदेश के किसानों की आमदनी बढ़ेगी और सूबे की घरेलू जरूरत भी पूरी होगी। यही नहीं, दूसरे राज्यों से प्याज मंगवाने की जरूरत भी नहीं पड़ेगी और राज्य में प्याज की कमी से इसके दाम भी नहीं बढ़ेंगे। किसानों को उनके प्याज का उचित दाम मिलता रहेगा। इसी मंशा के तहत इस खरीफ के सीजन में किसानों को प्याज की खेती करने के लिए प्रोत्साहित करना शुरू किया गया है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

बुलंदशहर: फांसी से लटका मिला महिला दारोगा का शव, सुसाइड नोट बरामद

BT Bureau

लखनऊ: बिना अनुमति New Year पार्टी करने वालों पर होगी कार्रवाई, राजधानी में 7 हजार जवान तैनात

Shruti Gaur

UP: BJP विधायक ने CM योगी को पत्र लिखकर बदायूं मेडिकल कॉलेज प्रबंधन पर लगाए गंभीर आरोप, जांच कराने की मांग

BT Bureau