Breaking Tube
Government UP News

UP में अब मनमाना किराया नहीं बढ़ा पाएंगे मकान मालिक, योगी सरकार ने किरायेदारी अध्यादेश को दी मंजूरी

Yogi Cabinet tenancy ordinance

उत्तर प्रदेश कैबिनेट ने उत्तर प्रदेश रेगुलेशन ऑफ अर्बन प्रीमिसेस टेनेंसी (दूसरा) अध्यादेश 2021 लाने के फैसले को अपनी मंजूरी दे दी है। इस अध्यादेश के जरिये किरायेदारों के साथ होने वाले विवादों में कमी लाई जा सकेगी, साथ ही किराए के पुराने मामलों को भी सुलझाने में मदद मिलेगी। इस अध्यादेश के लागू होने के बाद किसी भी संपत्ति को किराए पर लेने के लिए अनुबंध पर हस्ताक्षर करना अनिवार्य हो जाएगा।


हालांकि यह संपत्ति के मालिक और किरायेदार दोनों के हित में होगा। इसके अलावा अध्यादेश में विवादों को हल करने के लिए किराया न्यायाधिकरण बनाने का भी प्रावधान किया है। इन निकायों को 60 दिनों के भीतर मुद्दों को हल करने होंगे। इसके लागू होने के बाद मकान मालिकों के लिए जहां बिना अनुबंध के किरायेदार रखना प्रतिबंधित होगा, वहीं अब वह मनमाने तरीके से किराया में बढ़ोत्तरी भी नहीं कर पाएंगे। किरायेदार रखने से पहले मकान मालिक को इसकी सूचना किराया प्राधिकरण को देना अनिवार्य होगा।


Also Read: UP में किसानों के लिए बनाए गए 6000 गेहूं खरीद केंद्र, CM योगी का निर्देश- अन्नदाता की सुविधा का रखा जाए पूरा ध्यान


अभी ऐसे मामलों में हमारी न्याय व्यवस्था में समाधान के लिए कोई स्पष्ट व्यवस्था नहीं है, जिसके कारण मामले सालों से अदालतों में लंबित हैं। किरायेदारों की वर्तमान और भविष्य की मांगों को ध्यान में रखते हुए सरकार ने यूपी अर्बन बिल्डिंग्स (रेगुलेशन ऑफ लेटिंग, रेंट एंड एविक्शन) एक्ट, 1972 को बदलने का फैसला किया था।


राज्यपाल ने 9 जनवरी 2021 को उत्तर प्रदेश रेगुलेशन ऑफ अर्बन प्रीमिसेस टेनेंसी अध्यादेश 2021 की औपचारिक घोषणा कर दी थी और 11 जनवरी, 2021 को राज्य में इसे लागू कर दिया गया था, लेकिन चूंकि विधानसभा को अपरिहार्य परिस्थितियों के कारण अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया था, लिहाजा यह विधेयक पारित नहीं हो सका था।


Also Read: योगी सरकार ने बदली UP के मदरसों की सूरत, आधुनिक शिक्षा हासिल कर कामयाबी की नई इबारत लिख रहे छात्र


अब इसका एक अध्यादेश लाया जा रहा है। इसके अलावा कैबिनेट ने उत्तर प्रदेश पुलिस एंड फॉरेंसिंक साइंस यूनिवर्सिटी की जगह उत्तर प्रदेश स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेंसिंग साइंस लाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है। इसे लेकर प्रवक्ता ने कहा कि अलग-अलग यूनिवर्सिटी द्वारा डिग्री देने की बजाय अब सभी डिग्री एक यूनिवर्सिटी द्वारा ही जारी की जाएंगी।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

लव जिहाद: अशोक राजपूत बनकर मुस्लिम युवक ने युवती को फंसाया, फिर मंदिर में कर ली शादी, अब मारपीट कर बना रहा धर्मांतरण का दबाव

BT Bureau

UP: शिकायतों के निस्तारण में फिर अव्वल इटावा पुलिस, IGRS पोर्टल पर लगातार तीसरे महीने पाया पहला स्थान

Shruti Gaur

यूपी: महिला सिपाहियों से गंदी बाते करने वाला अब भी बेसुराग, व्हाट्सएप पर भेजे थे अश्लील मैसेज

BT Bureau