Breaking Tube
Education Government UP News

योगी सरकार ने बदली UP के मदरसों की सूरत, आधुनिक शिक्षा हासिल कर कामयाबी की नई इबारत लिख रहे छात्र

Yogi government UP madrasa students

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi government) ने दावा किया है कि मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति करने वाली पिछली सरकारों ने मदरसों के लिए नहीं किया जबकि उनकी सरकार ने पिछले चार सालों में मरदसों (Madrasas of UP) की सूरत बदल दी है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मरदसा बोर्ड से जुड़े छात्र अब दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा हासिल कर कामयाबी की नई इबारत लिख रहे हैं। खासकर चार सालों में परीक्षाएं नियमित की गई, जमीन पर बैठ कर परीक्षा देने वाले छात्र अब कुर्सी मेज पर बैठ कर परीक्षा देते हैं।


यही नहीं, मदरसों में एनसीईआरटी का पाठयक्रम लागू कर उनको आधुनिक शिक्षा से जोड़े जाने का काम योगी सरकार ने किया है। मदरसों के आधुनिकीकरण के लिए इस वित्‍तीय बजट में 479 करोड़ रुपए का प्रस्‍ताव रखा गया है। उन्होंने बताया कि योगी सरकार बनने से पहले प्रदेश में मदरसा बोर्ड की परीक्षाओं का कोई नियमित समय नहीं था। परीक्षाएं कभी अगस्‍त में होती थी तो कभी सितम्‍बर के महीने में आयोजित हो जाती थी। मदरसा छात्रों के बेहतर भविष्‍य के लिए कोई ठोस कदम भी नहीं उठाए गए।


Also Read: UP: स्कूल ड्रेस की खरीदारी में अब नहीं चलेगी कमीशनबाजी, अभिभावकों के खाते में 1100 रुपए भेजेगी योगी सरकार


2017 में योगी सरकार आने के बाद सबसे पहले परीक्षाओं को नियमित समय पर आयोजित कराने का काम किया गया। ताकि छात्र परीक्षा देने के बाद उच्‍च शिक्षा हासिल करने के लिए समय पर दाखिला ले पाएं। यूपी बोर्ड की तर्ज पर मदरसा बोर्ड की परीक्षाएं फरवरी में आयोजित होना शुरू हुई।


मदरसा बोर्ड के सदस्‍य जिरगामुददीन बताते हैं कि चार सालों में मदरसा बोर्ड में जो बदलाव हुए हैं। वह पिछले 15 से 20 सालों में नहीं हो सके। बोर्ड में परीक्षाएं कभी समय पर नहीं होती थी। इससे छात्र डिग्री कॉलेजों व विश्‍वविद्यालय में दाखिला नहीं ले पाते थे। सबसे पहले परीक्षाओं को नियमित करने का काम किया गया।


Also Read: UP में कोरोना संक्रमण को लेकर योगी सरकार सख्त, सार्वजनिक कार्यक्रमों में 100 से अधिक लोगों के शामिल होने पर रोक


परीक्षाओं को सीसीटीवी से निगरानी कर उनको शुचितापूर्ण बनाया गया। पहले छात्र टाट पटटी पर बैठकर परीक्षा देते थे लेकिन अब कुर्सी मेज पर बैठ कर परीक्षा देते हैं। दीनी तालीम के साथ एनसीईआरटी किताबों को मदरसों में लागू किया गया। परीक्षा के साथ वाइवा व प्रायोगिक परीक्षाएं होना शुरू हुई।


Also Read: यूपी: बुजुर्ग मां बाप को किया परेशान तो खैर नहीं, संपत्ति वापस लेने का कानून लाने की तैयारी में योगी सरकार


यूपी भाषा समिति के सदस्‍य दानिश आजाद बताते हैं कि प्रदेश में 558 अनुदानित मदरसे और करीब 17 हजार निजी मदरसे संचालित हो रहे हैं। मदरसा छात्रों का राहत देने के लिए उनका सिलेबस कम किया गया। पहले छात्रों को 12 से 15 किताबों से पढ़ाई करना पड़ती थी लेकिन सिलेबस कम हो गया है, सिर्फ 7 से 8 किताबों को लागू किया गया। जो पेपर लम्‍बे-लम्‍बे आते थे, उनको सेक्‍शन में बांट कर छोटा किया गया। इससे छात्रों को काफी सहूलियत हुई है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

गाजीपुर: विधायक की हत्या के आरोपी हिस्ट्रीशीटर ने मचाया तांडव, पेट्रोल पंप पर ताबड़तोड़ फायरिंग, गार्ड की मौत

Jitendra Nishad

बागपत: लूट के इरादे से सिपाही को मारी थी गोली, आरोपी नदीम और इमरान गिरफ्तार

BT Bureau

सस्ते LED बल्ब के बाद अब कम दाम पर AC देगी मोदी सरकार, बिजली का बिल भी आएगा कम

BT Bureau