Breaking Tube
Politics Supreme Court UP News

सुप्रीम कोर्ट में योगी सरकार ने कहा- माफिया मुख्तार अंसारी का ‘बेशर्मी’ से बचाव कर रही पंजाब की कांग्रेस सरकार

Yogi Government mukhtar ansari

उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में कहा कि पंजाब सरकार गैंगस्टर से नेता बने मुख्तार अंसारी (Mukhtar Ansari) का ‘बेशर्मी’ से बचाव कर रही है। पंजाब ने अब तक अंसारी को यूपी को नहीं सौंपा है, जहां सांसद/विधायक की विशेष अदालत में उसके खिलाफ कई जघन्य अपराधों के मामले चल रहे हैं। अंसारी, कथित तौर पर जबरन वसूली के मामले में रूपनगर की जेल में बंद है।


यूपी सरकार की ओर से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने जस्टिस अशोक भूषण की अध्यक्षता वाली पीठ के सामने पंजाब सरकार की जमकर खिंचाई की। वहीं, पंजाब सरकार की ओर से वरिष्ठ वकील दुष्यंत दवे ने व्यक्तिगत आधार का हवाला देते हुए स्थगन की मांग की। इस पर मेहता ने कहा कि उन्हें स्थगन की याचिका पर आपत्ति नहीं है।


Also Read: विपक्ष को भी भाया कोविड प्रबंधन का योगी मॉडल, नेता प्रतिपक्ष ने प्रवासी कामगारों को सुरक्षित घर पहुंचाने के कार्यों को सराहा


अंसारी का प्रतिनिधित्व कर रहे वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने कहा कि उनका मुवक्किल एक छोटा व्यक्ति है। इस पर मेहता ने पलटवार कर कहा कि वह इतना छोटा व्यक्ति है कि पंजाब सरकार उसकी रक्षा कर रही है। अब शीर्ष अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 2 मार्च की तारीख दी है।


एक हलफनामे में उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा था कि अंसारी अपने खिलाफ दर्ज 2 एफआईआर के आधार पर 2 साल से पंजाब में शरण लिए हुए है। पंजाब सरकार एक अपराधी और हिस्ट्रीशीटर का बचाव कर रही है, जबकि उसके खिलाफ 30 से ज्यादा एफआईआर दर्ज हैं और हत्या, गैंगस्टर एक्ट जैसे जघन्य अपराधों के 14 से ज्यादा मामले चल रहे हैं। इन मामलों में कोर्ट उसे व्यक्तिगत तौर पर उपस्थित करने के लिए कहता है।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

UP में ईनामी हुए माफिया मुख्तार अंसारी की पत्नी और 2 साले, रखा गया 25-25 हजार का ईनाम

Jitendra Nishad

‘चौकीदार चोर है’ मामले में राहुल गांधी के जवाब से संतुष्ट नहीं सुप्रीम कोर्ट, अवमानना नोटिस जारी

BT Bureau

UP में अवैध शराब कारोबार किया तो लगेगा गैंगस्टर, संपत्ति भी जब्त करेगी योगी सरकार

BT Bureau