GIS 2023: हैदराबाद पर भी चला योगी का जादू, निवेशक बोले- यूपी की तरक्की में हम भी देंगे योगदान

उत्तर प्रदेश ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट (यूपीजीआईएस) के लिए विभिन्न राज्यों के बड़े शहरों में रोड शो आयोजित कर रही टीम योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को जबर्दस्त रिस्पॉन्स मिल रहा है। हैदराबाद में निवेशकों में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की छवि का जबर्दस्त क्रेज देखने को मिला। उन्होंने खुलकर कहा कि बीते 6 वर्षों में उन्होंने उत्तर प्रदेश में जो बदलाव देखा है वो बेहद सुखद है। वो न सिर्फ उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए उत्सुक हैं बल्कि सरकार के साथ भागीदारी करके प्रदेश को वन ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी बनाने में अपना योगदान देने के लिए भी उत्साहित हैं।

हैदराबाद के होटल द ताज कृष्णा में बुधवार को टीम योगी के रोड शो से पहले हुई वन टू वन बिजनेस मीटिंग्स में दो दर्जन से ज्यादा निवेशक पहुंचे। टीम की अगुवाई डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक कर रहे थे, जबकि उनके साथ महिला कल्याण मंत्री बेबी रानी मौर्य, पर्यावरण राज्यमंत्री अरुण कुमार सक्सेना, आयुष मंत्री दया शंकर मिश्रा उपस्थित रहे।

सीएम योगी ने बदली प्रदेश की छवि
एआईजी हॉस्पिटल्स के चीफ फाइनेंशियल ऑफीसर मुकेश कुमार सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश का सबसे बड़ा राज्य है और इसकी आबादी 24 करोड़ है। हम बहुत उत्साहित हैं कि प्रदेश ने सीएम योगी के नेतृत्व में बीते 6 वर्ष में जो प्रगति की है, उसने प्रदेश की छवि को सुधारने का कार्य किया है। चाहे वो एक्सप्रेसवे हों, एयरपोर्ट हों या फिर रोड कनेक्टिविटी। प्रदेश का लॉ एंड ऑर्डर भी पहले से कहीं बेहतर हुआ है। निश्चित तौर पर हम न सिर्फ यूपी में निवेश के लिए उत्सुक हैं, बल्कि प्रदेश की प्रगति में भी भागीदार बनने की इच्छा रखते हैं।

प्रदेश में अब पहले से कहीं सुरक्षित है निवेश
पल्सेस ग्रुप के सीईओ डॉ. श्रीनीबाबू गडेला प्रदेश की प्रगति से काफी उत्साहित नजर आए। उन्होंने कहा कि सीएम योगी के मार्गदर्शन में प्रदेश ने हेल्थकेयर और कृषि के क्षेत्र में काफी प्रगति की है। हम इस तरक्की को देख रहे हैं और अब इसमें भागीदार बनने के लिए तैयार हैं। सीएम योगी ने स्वयं यह मैसेज कनवे किया है कि हमारा निवेश उत्तर प्रदेश में सुरक्षित है। हमें उम्मीद है कि हम उत्तर प्रदेश में लंबे समय तक काम करेंगे और अपने साथ-साथ उत्तर प्रदेश को भी आगे ले जाएंगे।

इनोवेटिव प्रोडक्ट्स की मैन्युफैक्चरिंग का हब बनेगा यूपी
इंस्टाशील्ट इंडिया प्रा. लि. के फाउंडर डायरेक्टर सीएस जाधव व हितेश एम पटेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार जिस तरह से इनोवेटिव आइडियाज को प्रमोट कर रही है, उसने हमें प्रदेश में निवेश के लिए प्रोत्साहित किया है। सरकार की स्टार्ट-अप पॉलिसी और ईज ऑफ स्टार्टिंग बिजनेस से प्रभावित होकर हम अपनी यूनिट यूपी में डालने को इच्छुक हैं। सरकार ने जो सुविधाएं और राहत देने का निर्णय किया है वो निवेशकों को काफी पसंद आ रहा है। निश्चित तौर पर यूपी आने वाले समय में इनोवेटिव आइडियाज और प्रोडक्ट्स का हब बनेगा।

बेहतर लॉ एंड ऑर्डर से बना निवेश का माहौल
एनएसएल ग्रुप के चेयरमैन एम प्रभाकर राव ने कहा कि उत्तर प्रदेश कृषि के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण राज्य है। हम बीते दस वर्षों से वहां काम कर रहे हैं। सीएम योगी के नेतृत्व में प्रदेश जिस तरह विकास कर रहा है, उससे निवेश का बेहतरीन माहौल बना है और जो निवेशक पहले से वहां मौजूद हैं, वो भी अपने व्यापार को विस्तार देने के लिए सोच रहे हैं। नोएडा में भी हमारा एक सेटअप है और सरकार ने इस क्षेत्र में लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति को जिस तरह कंट्रोल किया है वो वाकई में सराहनीय है। इससे इस क्षेत्र में आईटी कंपनियों को काफी राहत मिली है।

यूपी की तरक्की में योगदान देने को तैयार निवेशक
मेघा इंजीनियरिंग एंड इंफ्रास्ट्रक्चर लि. के डायरेक्टर बी श्रीनिवास रेड्डी ने कहा कि हमें खुशी है कि उत्तर प्रदेश तरक्की कर रहा है। हम भी उसकी तरक्की में अपना योगदान देने के इच्छुक हैं। सीएम योगी आदित्यनाथ ने बीते 5-6 वर्षों में निवेशकों को जो भयमुक्त माहौल दिया है उसने निवेशकों को काफी राहत दी है। प्रदेश का इंफ्रास्ट्रक्चर बेहतर हुआ है, कनेक्टिविटी में काफी प्रगति हुई है। ऐसी स्थिति में हम निवेश को लेकर काफी उत्साहित हैं। इसी तरह फोर्थ पार्टनर एनर्जी के को-फाउंडर विवेक सुब्रमण्यम ने कहा कि हमारी नजर में उत्तर प्रदेश निवेश के लिए उभरता हुआ बेहतर वेन्यू है। हमें उम्मीद है कि यहां प्रत्येक क्षेत्र में निवेशकों के लिए संभावनाओं का विस्तार होगा।

उम्मीदों का प्रदेश बन रहा उत्तर प्रदेश
सीवीके टेक्नोलॉजी प्रा. लि. के चेयरमैन केसी वेंकटेश्वरलू ने उत्तर प्रदेश को उम्मीदों का प्रदेश बताया। उन्होंने कहा कि बीते 5 साल से हम उत्तर प्रदेश सरकार को और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को देख रहे हैं। उन्होंने प्रदेश के लिए जो कुछ भी किया है वो वाकई काबिलेतारीफ है। मौजूदा सिनैरियो में हमें लगता है कि उत्तर प्रदेश के कई शहरों में तमाम संभावनाएं उपलब्ध हैं। चाहे वो नोएडा हो, ग्रेटर नोएडा हो या फिर गाजियाबाद या लखनऊ या कोई अन्य शहर। जिस तरह से इन शहरों का विकास किया गया है वो उत्साहवर्धक है। हम आईटी में अपने लिए संभावनाएं देख रहे हैं। सरकार ने निवेशकों के लिए जो पॉलिसी में सुधार किया है उससे भी हमारे जैसे निवेशकों को काफी फायदा होने जा रहा है।

Also Read: CM योगी द्वारा काशी के कायाकल्प का असर, वाराणसी में पर्यटकों की संख्या में हुई रिकॉर्ड वृद्धि

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )