UP: कानपुर-कन्नौज के बाद अब लखनऊ में जीका वायरस की दस्तक, प्रशासन में हड़कंप

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस के बाद जीका वायरस आतंक मचा रहा है। दरअसल, कानपुर और कन्नौज के बाद अब लखनऊ में भी zika वायरस से संक्रमित मामले सामने आने लगे हैं। गुरुवार को जीका वायरस संक्रमण (Zika Virus) के दो मामले सामने आए हैं। इसकी पुष्टि महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, डॉ. वेद व्रत सिंह ने की है।जीका वायरस के लखनऊ में दस्तक देने के बाद सूबे के स्वास्थ्य कर्मियों में हड़कंप मच गया है।

जिला प्रशासन में हड़कंप

जानकारी के मुताबिक, कानपुर और कन्नौज के बाद अब राजधानी लखनऊ (Lucknow) में भी जीका वायरस (Zika Virus) के मरीज मिले हैं। इससे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों में हड़कंप मचा हुआ है। जिन शहरों में जीका के केस मिल रहे हैं, वहां अधिक सावधानी बरती जा रही है। इसके साथ ही प्रशासन भी अलर्ट हो गया है। बताया जा रहा है कि जिन दो लोगों में जीका वायरस संक्रमण पाया गया है, वे हुसैनगंज और कानपुर रोड स्थित एलडीए कॉलोनी के रहने वाले हैं।

बता दें कि हाल ही में उत्‍तर प्रदेश के कन्‍नौज जिले में भी जीका वायरस का केस रिपोर्ट किया गया था। जिस शख्‍स में जीका वायरस होने की पुष्टि हुई, उसकी उम्र 45 साल है। वह कानपुर के शिवराजपुर इलाके के कासामऊ गांव में रुका हुआ था। इस मामले में कन्‍नौज के स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने 30 सैंपल जांच के लिए भेजे थे। जिसके बाद पीड़ित की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

कैसे फैलता है जीका वायरस

जीका वायरस का संवाहक एडीज एजेप्टी नामक मच्छर होता है। इसका मच्छर भी दिन के समय ही काटता है। यह वायरस गर्भवती एवं महिलाओं के लिए अधिक घातक और खतरनाक होता है। संक्रमण होने पर वायरस गर्भ में पल रहे बच्चे के ब्रेन पर सीधे अटैक करता है।शरीर में जीका वायरस के प्रवेश करने के तीन से 14 दिन के भीतर लक्षण दिखने लगते हैं। जीका वायरस के लक्षण निम्न हैं-

-सामान्य से तेज बुखार
-शरीर में छोटे-छोटे लाल दाने उभर आना
-आंखों में जलन और लगातार चिपचिपन रहना
-तेज सिरदर्द के साथ बेचैनी भी होना
-जीका के संक्रमण से हो सकती गंभीर समस्या
-चलने फिरने में लाचारी आ जाती है
-मांसपेशियों और जोड़ों में भीषण दर्द व ऐंठन

जीका वायरस से बचाव के तरीके

-जीका वायरस से बचाव के लिए मच्छरों के काटने से बचें
-इसके लिए शरीर का अधिकतम हिस्सा ढक कर रखें
-खुले में सोएं तो मच्छरदानी का इस्‍तेमाल करें
-घर और आस पास भी साफ सफाई का ख्‍याल रखें
-मच्छरों को बढ़ने से रोकने के लिए ठहरे पानी को इकट्ठा न होने दें
-बुखार, गले में खराश, जोड़ों में दर्द, आंखें लाल होने जैसे लक्षण नजर आएं तो फौरन डॉक्टर को दिखाएं
-भरपूर आराम के साथ ज्‍यादा से ज्‍यादा तरल पदार्थों का सेवन करें

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमेंफेसबुकपर ज्वॉइन करें, आप हमेंट्विटरपर भी फॉलो कर सकते हैं. )