Breaking Tube
Lok Sabha 2019 Politics

इस लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल, भतीजे के खिलाफ उतरेंगे मैदान में

Shivpal Singh yadav

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की नजर उन सीटों पर जहां अखिलेश यादव की पार्टी का वर्चस्व है। ऐसे में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

 

फिरोजाबाद सीट से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल

पार्टी जिलाध्यक्ष पूर्व विधायक अजीम भाई ने जानकारी देते हुए कहा कि यूपी की फिरोजाबाद लोकसभा सीट से शिवपाल सिंह यादव खुद चुनाव मैदान में उतरेंगे और जल्द ही इसकी घोषणा की जा सकती है। बता दें कि मौजूदा समय में फिरोजाबाद से सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव सांसद हैं।

 

Also Read : अयोध्या-मथुरा में शराब और मीट बैन करने की तैयारी में योगी सरकार

 

सूत्रों के मुताबिक, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी की बैठक नगला भाऊ इंडस्ट्रियल एरिया स्थित बांकेबिहारी मैरिज होम में हुई। इसमें जिलाध्यक्ष ने संगठन की मजबूती पर जोर देते हुए कहा कि पार्टी के मुखिया शिवपाल यादव फिरोजाबाद लोकसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे।

 

Also Read : अब असदुद्दीन ओवैसी बोले- अमित शाह कब बदल रहे हैं अपना नाम

 

शिकोहाबाद में होगी बड़ी रैली

इस दौरान अजीम भाई ने कहा कि रामगोपाल यादव का सांप्रदायिक शक्तियों के साथ तालमेल है। उन्होंने कहा कि एक वीडियो भी वायरल हुआ, जिसमें पिता-पुत्र वित्त मंत्री अरुण जेटली के साथ नजर आए।

 

Also Read : दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष मनोज तिवारी बोले- सोनिया गांधी ने छठ पूजा की होती तो बुद्धिमान बच्चा पैदा होता

 

वहीं, इस बैठक में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष विजय प्रताप सिंह ने कहा कि शिवपाल यादव ने पिछले दिनों सैफई में हुई बैठक में चुनावी तैयारी के निर्देश दिए हैं। वो फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे और दिसंबर में शिकोहाबाद में बड़ी रैली होगी।

 

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

यूपी: किसानों को माया और अखिलेश सरकारों ने दिया धोखा, कागजों में बीजों की खरीद दिखाकर किया करोड़ो का घोटाला

S N Tiwari

Video: BSP के कार्यकर्ता सम्मेलन में जमकर चलीं लाठियां, पिछले दरवाजे से भाग निकले सतीश चन्द्र मिश्रा

BT Bureau

मायावती का SC को जवाब, बोलीं- अगर भगवान राम की मूर्ति बन सकती है तो मेरी क्यों नहीं?

Jitendra Nishad