Breaking Tube
International

अफगानिस्तान में भारतीय फोटोजर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान जंग को कर रहे थे कवर

अफगानिस्तान के कंधार में तालिबानियों और सिक्योरिटी फोर्सेस की मुठभेड़ के दौरान भारतीय फोटो जर्नलिस्ट दानिश सिद्दीकी (Danish Siddiqui) की मौत हो गई. टोलो न्यूज ने इस बारे में जानकारी दी है. दानिश अफगानिस्तान के स्पिन बोलदाक जिले में अफगान स्पेशल फोर्सेज के साथ थे और न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के लिए रिपोर्टिंग कर रहे थे. बताया जा रहा है कि दिल्ली के रहने वाले दानिश सिद्दिकी अफगानिस्तान में मौजूदा हालात को कवर करने के लिए गए थे. हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि दानिश की हत्या कैसे हुई और किसने की है.


पुलित्जर अवार्ड से हुए थे सम्मानित

भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दिकी (Danish Siddiqui) की हत्या कंधार प्रांत के स्पिन बोल्डक इलाके में हुई है. बता दें कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद से ही भीषण हिंसा जारी है और हत्या के समय भी दानिश तालिबान जंग को कवर रह रहे थे. दानिश सिद्दिकी (Danish Siddiqui) ने अपने करियर की शुरुआत एक टीवी रिपोर्टर के रूप में की थी और बाद में फोटो जर्नलिस्ट बन गए थे. दानिश को साल 2018 में उनके सहयोगी अदनान आबिदी के साथ पुलित्जर पुरस्कार से सम्मानित किया गया था. दानिश को रोहिंग्या शरणार्थियों के असाधारण कवरेज के लिए यह सम्मान दिया गया था.


अफगानिस्तान के राजदूत ने जताया दुख

दानिश सिद्दीकी के निधन पर भारत में अफगानिस्तान के राजदूत फरीद मामुंजे ने ट्वीट किया- ‘कंधार में दोस्त दानिश सिद्दीकी की मौत की खबर से बहुत दुखी हूं…दो हफ्ते पहले उनके काबुल जाने से पहले मैं उनसे मिला था. उनके परिवार और रॉयटर्स के लिए संवेदना है. इससे पहले भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने गुरुवार को ताशकंद में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से मुलाकात कर युद्धग्रस्त देश से अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद वहां तेजी से बिगड़ रही स्थिति पर चर्चा की थी. इसके साथ ही उन्होंने अफगानिस्तान में शांति, स्थिरता और विकास के प्रति भारत का समर्थन दोहराया था.


Also Read: पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर जुल्म जारी, सिंध में 60 हिंदुओं का जबरन कराया गया धर्मांतरण


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अब श्रीलंका भी लगाएगा बुर्के पर प्रतिबंध, बंद होंगे मदरसे, राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर लिया फैसला

BT Bureau

‘पुतिन के गुर्गे मुझे मारना चाहते थे क्योंकि मैं उनका विरोध करती हूं’

Jitendra Nishad

इमरान खान का सबसे बड़ा कुबूलनामा, पाकिस्‍तान में मौजूद है 50 आतंकी ग्रुप, हमने जेहादी तैयार किए जो आतंकवादी बन गए

S N Tiwari