Breaking Tube
International

2+2 बैठक में परमाणु सहयोग पर आगे बढ़े भारत-अमेरिका, BECA पर मुहर, चीन और पाकिस्तान को कड़ा संदेश

भारत और अमेरिका (India and America) ने मंगलवार को सीमा पार से आतंकवाद के हर प्रारूप का कड़ा विरोध किया. दोनों देशों ने कहा पाकिस्तान आतंकवाद (Terrorism) पर सख्त कार्रवाई करे ताकि सुनिश्चित हो सके कि उसके नियंत्रण के क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकवादी हमले के लिए न हो. भारत और अमेरिका के बीच ऐतिहासिक Basic Exchange and Cooperation Agreement (BECA) समझौते पर हस्ताक्षर हो गए हैं. साथ ही परमाणु सहयोग को लेकर बात आगे बढ़ी. साझा प्रेस वार्ता से दोनों देशों ने चीन को भी कड़ा संदेश दिया.


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अपने बयान में कहा कि भारत और अमेरिका की दोस्ती लगातार मजबूत हुई है, 2+2 बैठक में भी दोनों देशों ने कई मसलों पर मंथन किया. जिसमें कोरोना संकट के बाद की स्थिति, दुनिया की मौजूदा स्थिति, सुरक्षा के मसलों पर कई अहम मुद्दों पर विस्तार से बात की गई. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के मुताबिक, दोनों देशों ने परमाणु सहयोग बढ़ाने को लेकर कदम बढ़ाए हैं, साथ ही भारतीय उपमहाद्वीप में सुरक्षा की स्थिति को लेकर विस्तार से बात की है.


इन पांच समझौतों पर किए गए हस्ताक्षर

1.  Basic Exchange and Cooperation Agreement (BECA) 
2. MoU for technical cooperation on earth sciences
3. Arrangement extending the arrangement on nuclear cooperation 
4. Agreement on postal services
5. Agreement on cooperation in Ayurveda and Cancer research


दोनों पक्षों ने आतंकवाद की कड़ी आलोचना की


विदेश मंत्री एस. जयशंकर और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री मार्क टी. एस्पर के साथ वार्ता की. दोनों पक्षों के बीच हुई वार्ता में उनके शीर्ष सैन्य एवं सुरक्षा अधिकारियों ने भी हिस्सा लिया. वार्ता के बाद जारी संयुक्त बयान में कहा गया कि दोनों पक्षों ने आतंकवाद की कड़ी आलोचना की और सीमा पार से आतंकवाद के हर प्रारूप की कड़ी निंदा की. साथ ही हिज्बुल मुजाहिद्दीन, अल-कायदा और आईएसआईएस सहित सभी आतंकवादी नेटवर्क के खिलाफ समन्वित कार्रवाई पर बल दिया.


आतंकवाद पूरी तरह से अस्वीकार्य


अपने अमेरिकी समकक्ष माइक पोम्पियो, रक्षा मंत्री मार्क एस्पर के साथ रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और जयशंकर ने संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘हमने स्पष्ट कर दिया कि सीमा पार आतंकवाद पूरी तरह से अस्वीकार्य है.’


सख्त कार्रवाई करे पाकिस्तान


संयुक्त बयान में कहा गया कि मंत्रियों ने पाकिस्तान से कहा कि वह त्वरित, स्थायी एवं अपरिवर्तनीय कार्रवाई करे ताकि सुनिश्चित हो सके कि उसके नियंत्रण वाले क्षेत्र का इस्तेमाल आतंकवादी हमले करने में नहीं हो और इस तरह के हमले करने वालों पर तेजी से कार्रवाई करे जिनमें 26/11 मुंबई, उरी और पठानकोट हमले के साजिशकर्ता शामिल हैं. इसमें कहा गया, ‘मंत्रियों ने आतंकवादी समूहों और व्यक्तियों के खिलाफ प्रतिबंधों पर सूचना के आदान-प्रदान को लेकर भी प्रतिबद्धता जताई.’


बयान के मुताबिक दोनों पक्षों ने आतंकवादी संगठनों के संचालन एवं वित्तपोषण, कट्टरपंथ का मुकाबला करने, इंटरनेट का आतंकवादियों द्वारा इस्तेमाल करने, आतंकवादियों की सीमा पार गतिविधियों के खिलाफ भी कदम उठाने का संकल्प लिया. बयान में कहा गया कि मंत्रियों ने संयुक्त राष्ट्र सहित कई मंचों पर सहयोग को आगे बढ़ाने की योजना बनाई है.


Also Read: मरियम बोलीं- डूबने को है इमरान का सूरज, बलूचिस्तान को देंगे न्याय


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

UN में पीएम मोदी ने कहा- हमने दुनिया को बुद्ध दिया है युद्ध नहीं, आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होना जरूरी, जानिये उनके संबोधन की खास बातें

S N Tiwari

कुवैत के युवक ने शादी के कार्ड पर PM मोदी की तस्वीर छपवाकर तोहफे में मांगे मोदी के लिए वोट

Satya Prakash

लंदन ब्रिज पर हमला करने वाले आतंकी उस्मान खान का निकला पाक कनेक्शन, PoK से कश्मीर पर करना चाहता था अटैक

S N Tiwari