Home Crime Elvish Yadav Case: रेव पार्टी व सापों के जहर मामले में नोएडा...

Elvish Yadav Case: रेव पार्टी व सापों के जहर मामले में नोएडा पुलिस ने एल्विश यादव को भेजा नोटिस, पूछताछ के लिए बुलाया

Noida Police elvish Yadav

रेव पार्टी (Rave Party) में सांप के जहर की सप्लाई मामले में नोएडा पुलिस (Noida Police ने बिग बॉस विनर और यूट्यूबर एल्विश यादव को नोटिस (Notice to Elvish Yadav) भेजा है। पुलिस ने एल्विश यादव को पूछताछ के लिए बुलाया है। नोएडा जोन के डीसीपी हरीश चंदर ने कहा कि वह जल्द पेश होकर जांच में सहयोग करें। यानी अब एल्विश यादव नोएडा पुलिस के सवालों का सामना करेंगे। इस मामले में एल्विश यादव सहित सात लोगों को आरोपी बनाया गया है।

आरोपियों को रिमांड पर ले सकती है पुलिस

वहीं, नोएडा पुलिस गिरफ्तार किए गए पांच आरोपियों को आज शाम तक रिमांड पर ले सकती है। रिपोर्ट के मुताबिक, गिरफ्तारी आरोपी राहुल से आज पुलिस एल्विश यादव का सामना भी करवा सकती है। एल्विश यादव पर पार्टी में सांपों के इंतजाम करने के लिए राहुल का नंबर देने का आरोप है। एल्विश ने कथित तौर पर कहा था कि मेरा नाम लेकर राहुल से बात कर लेना। वो अरेंज करा देगा। इसका खुलासा सांसद मेनका गांधी की संस्था पीएफए के एक अफसर ने किया था।

Also Read: ISIS के आतंकी निकले अलीगढ़ से गिरफ्तार AMU के 2 छात्र, UP में बड़ी आतंकी घटना को अंजाम देने की रच रहे थे साजिश

नोएडा-दिल्ली के फॉर्म-हाउस में रेव पार्टी से कनेक्शन पर भी एल्विश के खिलाफ कुछ साक्ष्य मिले हैं। इन सब बातों को छानबीन के लिए पुलिस राहुल समेत तीन को 14 दिन की रिमांड पर लेने की अर्जी कोर्ट में लगाई है। नोएडा पुलिस फिलहाल एल्विश यादव को गिरफ्तार नहीं कर रही है, इसके पीछे कई महत्वपूर्ण वजह है। थाना सेक्टर 49 के थाना प्रभारी को उनकी शुरुआती गलतियों के चलते उनके पद से हटाकर उन्हें पुलिस लाइन भेज दिया गया है।

थाना 49 पुलिस की तरफ से बरती गई लापरवाही

पुलिस के आला अधिकारियों के मुताबिक, शुरुआती जांच में थाना 49 की तरफ से लापरवाही बरती गई और एल्विश यादव जैसे सेलिब्रिटी के बारे में बिना जांच किए ही, उसका नाम एफआईआर में पीएफए के एक सदस्य गौरव गुप्ता के कहने पर जोड़ दिया गया।

Also Read: UP: सिंगर से रेप मामले में पूर्व विधायक विजय मिश्रा को 15 साल की जेल, कोर्ट ने लगाया 1 लाख का जुर्माना

पीएफए सदस्य के स्टिंग ऑपरेशन में न ही एल्विश यादव मौजूद था और ना ही ऑडियो रिकॉर्डिंग में एल्विश का कोई सीधा कनेक्शन राहुल से निकलता दिखाई दे रहा है। इसीलिए जब कोटा पुलिस ने एल्विस को चेकिंग के दौरान रोका था, तो उसने नोएडा पुलिस से संपर्क किया और उसके वांटेड होने की पूछताछ की।

लेकिन नोएडा पुलिस के पास फिलहाल पर्याप्त सबूत नहीं है, इसीलिए उसने एल्विश को वांटेड नहीं बताया। इसीलिए कोटा पुलिस ने एल्विश को छोड़ दिया। पुलिस अधिकारी के मुताबिक अब उसके खिलाफ साक्ष्य मिलना शुरू हुए हैं। जल्द ही नोटिस भेज कर एल्विस को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा और अगर जरूरत पड़ी तो उसे गिरफ्तार भी किया जाएगा।

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Secured By miniOrange