Breaking Tube
Government UP News

UP: आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं के लिए बड़ी खुशखबरी, CM योगी ने कहा- जल्द बढ़ेगी सैलरी

CM Yogi Adityanath Anganwadi Asha Workers

उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल और मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मंगलवार को राष्ट्रीय पोषण माह-2021 की शुरुआत की। इस मौके पर मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने कहा कि सरकार आंगनबाड़ी (Anganwadi) और आशा कार्यकर्ताओं (Asha Workers) का मानदेय बढ़ाने की दिशा में बेहतरीन तरीके से आगे बढ़ रही है।


मंगलवार को लखनऊ के लोक भवन के सभागार में राष्ट्रीय पोषण माह की शुरुआत के बाद आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए सीएम योगी ने कहा कि कोरोना काल में जब अच्‍छे-अच्‍छे लोग क्वारंटाइन होकर घर में बंद हो गए थे तो आशा कार्यकर्ता और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता लोगों के गांव-गांव घर-घर जाकर दवाएं उपलब्‍ध करा रही थीं और अगर निगरानी समितियों के माध्‍यम से ये लोग यह कार्य नहीं करते तो यूपी में कोरोना की स्थिति को संभालना कठिन हो जाता।


Also Read: योगी की सख्ती से टूटी भूमाफियाओं की कमर, डेढ़ लाख एकड़ से ज्यादा भूमि कराई खाली, 170 पर गैंगेस्टर एक्ट, 187 को जेल


मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इनके अच्‍छे कार्य को ध्‍यान में रखकर ही सरकार ने निश्चित किया कि आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं के मानदेय को बढ़ाने का काम करेंगे और सरकार उस दिशा में बेहतरीन तरीके से आगे बढ़ रही है। विभाग इसकी कार्य योजना तैयार कर रहा है। साथ ही विभाग को मैंने यह भी कहा है कि इनका जो पिछला बकाया है उसका तत्काल भुगतान करने की व्यवस्था कर दें।


सीएम योगी ने कहा कि इस बात पर गौरव की अनुभूति कर सकते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस देश को एक नई दृष्टि दी है। उस दृष्टि के क्रम में अगर एक समर्थ और सशक्त राष्ट्र की परिकल्पना को साकार करना है तो यह सोचना है कि अगर मां कुपोषित है तो बच्चा कभी सुपोषित नहीं हो सकता है। इसलिए मां के स्वास्थ्य पर ध्यान देना और अगर किन्हीं कारणों से बच्चा कुपोषित हो गया है तो उस पर भी ध्यान देना। इसी बात को ध्‍यान में रखकर 2018 से सितंबर माह में राष्ट्रीय पोषण माह मनाया जाता है और आज चौथे राष्ट्रीय कुपोषण माह से हम सब जुड़ रहे हैं।


Also Read: UP के जिलों में बाढ़ तथा बीमारियों से निपटेंगे नोडल अफसर, CM योगी ने दिए सख्त निर्देश


मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वाभाविक रूप से समाज के अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति के बारे में, एक मां स्वस्थ हो और एक बच्चा स्वस्थ हो, प्रधानमंत्री की यह सोच इस राष्‍ट्रीय मिशन से जुड़ी है क्योंकि मां कुपोषित होती तो एक परिवार की समस्या नहीं है। यह चुनौती पूरे समाज और देश के लिए होती है। कुपोषित माताओं के लिए सरकार के प्रयासों की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि 2500 कुपोषित माताओं को गाय और गाय के लालन-पालन के लिए प्रति माह 900 दिये जा रहे हैं। उन्‍होंने पोषण माह में इस अभियान को और गति देने की अधिकारियों से अपेक्षा की।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

पंचायत चुनाव में प्रत्याशी उतारेगी चंद्रशेखर की आजाद समाज पार्टी, विधानसभा चुनाव की भी तैयारी

Jitendra Nishad

UP: मदरसों में फर्जी नियुक्तियों का मामला, अल्पसंख्यंक कल्याण निदेशालय के अफसरों पर SIT ने शुरू की कार्रवाई

BT Bureau

आतंकयों पर लगाम लगाने को मोदी ने वीरप्‍पन को मारने वाले IPS अफसर को भेजा कश्मीर

admin