Breaking Tube
Police & Forces

मुरादाबाद: सड़क हादसे में गई सिपाही और बेटे की जान, सदमे में पत्नी ने तोड़ा दम

रविवार को मुरादाबाद में हुए एक सड़क हादसे में सिपाही और उनके बेटे की दर्दनाक मौत हो गई थी। जबकि उनकी पत्नी समेत अन्य पांच लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे। सिपाही और बेटे की मौत का सदमा उनकी पत्नी बर्दाश्त नहीं कर पाईं और देर शाम उनकी मौत हो गई। पोस्टमार्टम में ये है कि उनकी मौत हार्ट अटैक से हुई। पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन शव लेकर शामली चले गए।


ये है मामला

शाहजहांपुर से ट्रांसफर होने पर सिपाही अजय कुमार परिवार के साथ मेरठ जा रहे थे। इसी दौरान रास्ते में यह हादसा हो गया। सिपाही मूलरूप से शामली के लॉक गांव के रहने वाले थे। परिवार में पत्नी अनुपमा, बेटा विशेष और दो बेटियां वर्तिका और परी हैं। मृतक विशेष सिपाही का इकलौता बेटा था। सिपाही अपने परिवार ने साथ शनिवार रात डीसीएम में सामान भरकर अजय मेरठ के लिए चले थे। रविवार सुबह कटघर थाना क्षेत्र स्थित बाईपास पर पहुंचे तभी डीसीएम सड़क पर खड़े ट्रक से टकरा गई। घायलों की चीख-पुकार सुनकर लोग मौके पर दौड़े और पुलिस को सूचना दी। 


Also read: UP Board Result 2020: पिता हैं SSP के ड्राइवर, IPS बनकर देशसेवा करना चाहता है टॉपर बेटा


हार्ट अटैक से हुई मौत

वहां से गुजर रहे वाहन चालक और हाईवे पुलिस ने घायलों को वाहन से बाहर निकाला और एंबुलेंस से जिला अस्पताल भिजवाया। जहां सिपाही अजय और उनके बेटे विशेष को डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पत्नी, दोनों बेटियां और डीसीएम चालक अरुण निवासी गढ़ को भर्ती कर उनका इलाज शुरू कर दिया गया। रविवार शाम पांच बजे पत्नी अनुपमा ने भी दम तोड़ दिया। पोस्टमार्टम में आया कि उनकी मौत हार्ट अटैक से हुई। चर्चा रही कि पति और बेटे की मौत के गम में उन्होंने दम तोड़ दिया। पोस्टमार्टम कराने के बाद परिजन शव लेकर शामली चले गए।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

बागपत: तेज गति से आ रहे ट्रक ने पुलिस जीप को मारी जोरदार टक्कर, दारोगा को मिली दर्दनाक मौत, तीन सिपाही गंभीर रूप से घायल

BT Bureau

यूपी: दुष्कर्म पीड़िता से दारोगा बोला- अमरूद खाने के लिए रुपये दो तब आरोपी को गिरफ्तार करूं, रिश्वत लेते Video वायरल

BT Bureau

यूपी बजट 2019: योगी आदित्यनाथ सरकार ने पुलिस कर्मियों के लिए खोला ‘खजाना’

Jitendra Nishad