Breaking Tube
Social

यूपी-बिहार वालों के लिए सुरक्षित नहीं गुजरात, नकाबपोश दे रहे धमकी- छोड़ दें राज्य नहीं तो मारा जाएगा

Gujarat

गुजरात की आबो-हवा में अब वो भाईचारे वाले बात नहीं रही। वाइब्रेंट गुजरात अब सच में उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश के लोगों को थरथराने लगा है। अब यहां गुजरात से बाहर के लोग कुछ दिन भी नहीं गुजारना चाहते। ऐसा इसलिए है क्योंकि अब ये लोग गुजरात में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। पिछले दिनों ही यूपी, बिहार और एमपी के करीब 1500 लोगों ने गुजरात छोड़ दिया है।

 

गुस्साई भीड़ का शिकार बन रहे यूपी-बिहार वाले

मिली जानकारी के मुताबिक, अहमदाबाद और पड़ोसी जिलों से हिन्दी बोलने वाले कई प्रवासी लोग पलायन कर रहे हैं। कई सालों से गुजरात में रहने वाले उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश के लोग भीड़ के डर से पलायन कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि 14 साल की बच्ची से दुष्कर्म के बाद गुस्साई भीड़ यहां रहने वाले गैर-जुरातियों पर हमला कर रही है। यहां रहने वाले 42 साल के ठेकेदार कृष्णचंद शर्मा के मुताबिक, यह खबर फेसबुक और व्हाट्सएप के जरिए जंगल में आग की तरह फैली जो कि अब सबके फोन में मौजूद है।

 

Also Read : जब धर्मगुरु ही सीएम तो बंदर भगाने से लेकर हर समस्या का समाधान ‘हनुमान चालीसा’ ही होगा: अखिलेश यादव

वहीं, भिंड में ही रहने वाले धर्मेंद्र कुशवाहा ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में यूपी, बिहार और मध्‍य प्रदेश के करीब 1,500 लोग गुजरात छोड़कर चले गए हैं। कुशवाहा के अनुसार, नकाब पहने कुछ लोगों ने उससे कहा कि ‘सुबह 9 बजे से पहले गुजरात छोड़ दे’ वर्ना वह मारा जाएगा। शनिवार (6 अक्‍टूबर) को खचाखच भरीं करीब 20 बसें यहां से यूपी, एमपी और बिहार के लिए रवाना हुईं।

 

हमला करने के आरोप में 180 गिरफ्तार

गुजरात पुलिस ने बताया है कि प्रवासियों खासकर यूपी और बिहार के लोगों को निशाना बनाने के आरोप में गांधीनगर, अहमदाबाद, सबरकांठा, पाटन और मेहसाणा से कम से कम 180 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। मिली जानकारी के मुताबिक, अहमदाबाद के चाणक्‍यपुरी फ्लाईओवर के नीचे बस का इंतजार कर रहे कुछ प्रवासियों ने कहा कि कई मकान मालिकों ने घर खाली करने को कह दिया था।

 

Also Read : डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने शिवपाल और रघुराज को दिया बड़ा ऑफर 

 

यही नहीं, गांधी नगर में पेंटिंग का काम करने वाले मंजू सिंह ने बताया है कि गुरुवार की शाम को उनकी बाइक रोक ली गई। सात लोगों के समूह ने उनसे पूछा कि वो कहां के रहने वाले हैं? मंजू सिंह ने बताया है कि मैंने सोचा कि झूठ बोलना चाहिए और मैंने उन्हें बताया कि मैं राजस्थान से हूं जिसके बाद उन्होंने तुरंत जिले का नाम पूछा तो मैंने एक जिले का नाम बता दिया, जिसके बाद मुझे जाने दिया गया।

 

देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करेंआप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )

Related news

अब गाने और फिल्मों को डाउनलोड करने के लिए देना होगा पैसा, हाईकोर्ट ने दिया आदेश

Satya Prakash

जानिए #TripleTalaqBill में मोदी सरकार ने क्‍या किये महत्‍वपूर्ण संशोधन

BT Bureau

देश के प्रत्येक तहसील में एक केंद्रीय विद्यालय खोलने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में जनहित याचिका

Praveen Bajpai