UP TET Exam 2021: पेपर लीक मामले में अब तक 23 गिरफ्तार, ADG ने परीक्षार्थियों के लिए दी महत्वपूर्ण जानकारी

उत्तर प्रदेश बेसिक शिक्षा परिषद् (UP Basic Shiksha) द्वारा आयोजित UP TET 2021 (यूपी शिक्षक पात्रता परीक्षा) की परीक्षा रद्द हो चुकी है. ऐसा बताया जा रहा है कि परीक्षा से पहले ही गाजियाबाद, मथुरा समेत बुलंदशहर में पेपर व्हाट्सएप पर वायरल हो गया. अब यह सब होने के बाद यूपी STF मामले की जांच कर रही है. बता दें कि इस मामले में यूपी ADG(कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार (ADG Prashant Kumar) ने प्रेस कॉन्फ्रेस करके बताया कि प्रदेश के अलग-अलग इलाकों से अब तक 23 लोगों को गिरफ्तार किया गया है, अन्य स्थानों पर छापेमारी की जा रही है, किसी भी दोषी को बक्शा नहीं जाएगा.

प्रशांत कुमार द्वारा दी जा रही जानकारी के मुताबिक, पेपर लीक करने वाले सॉल्वर गैंग के करीब 23 सदस्य गिरफ्तार किए गए हैं. इनमें लखनऊ से 4, मेरठ से 3, वाराणसी और गोरखपुर से 2, कौशांबी से 1 और प्रयागराज से 13 आरोपी हैं. इसके अलावा, बिहार के भी कुछ आरोपी लोगों को पकड़ा गया है. इनके पास से कुछ मोबाइल फोन और पेपर की फोटो कॉपी मिली थीं. इन पेपर्स को शासन के साथ शेयर किया गया, तो मालूम हुआ कि यह वही पेपर है जिसका आज एग्जाम होना है. इसके बाद परीक्षा की पारदर्शिता को मद्देनजर रखते हुए शासन ने निर्णय लिया कि एग्जाम तत्काल रूप से निरस्त किया जाए और एक महीने में दोबारा इसी पेपर का आय़ोजन हो.

दोबारा परीक्षा के लिए कोई फीस नहीं लगेगी
प्रशांत कुमार ने बताया कि, परीक्षा अगले 1 महीने के भीतर दोबारा कराई जाएगी. दोबारा कराए जाने वाली परीक्षा का पूरा खर्च सरकार उठाएगी. छात्रों को किसी भी तरह का कोई फॉर्म नहीं भरना होगा और ना ही कोई फीस देनी होगी.

यूपी बस सेवा फ्री में परीक्षार्थियों को पहुंचाएगी घर

इसके अलावा, उत्तर प्रदेश परिवहन UPSRTC की बस सेवा की मदद से सभी अभ्यर्थियों को उनके गंतव्य तक पहुंचाया जाएगा, किसी को भी टिकट लेने की आवश्यक्ता नहीं होगी. यानी सरकार सभी परीक्षार्थियों को उनके घर तक पहुंचाने के लिए फ्री ट्रेवल दे रही है. इसके लिए बस व्यक्ति को अपना एडमिट कार्ड दिखाना होगा.

लीक पेपर एग्जाम सेंटर तक नहीं पहुंचे थे
इसके अलावा, एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने बताया कि एसटीएफ को जांच सौंप दी गई है. जो भी व्यक्ति या संस्था इस कांड में शामिल है, उसे बक्शा नहीं जाएगा. ध्यान देने योग्य बात यह है कि अभी तक यह प्रश्नपत्र केंद्रों तक नहीं पहुंचे थे. आज सुबह पहुंचने थे, लेकिन इससे पहले ही आरोपियों को पुलिस ने पकड़ लिया. अब परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था से लेकर ट्रेजरी तक सब जांच के घेरे में हैं और दोषी पाए जाने पर कठोर कार्रवाई की जाएगी.

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर ने बताया कि सॉल्वर गैंग 2 तरह से एग्जाम में चीटिंग कराता है. पहला तो पेपर लीक कर या फिर दूसरा तरीका है अभ्यर्थी की जगह सॉल्वर को एग्जाम में बैठा कर. पेपर लीक करने वाले गिरोह को पकड़ लिया गया है. पकड़े गए आरोपयों के अतिरिक्त और लोगों की तलाश जारी है. उनका कहना है कि पूरी तरह से शांति व्यवस्था कायम है.

Also Read: RSS प्रमुख मोहन भागवत ने देश को बताया ‘हिंदू राष्ट्र’, कहा- हिंदू अगर हिंदू बने रहना चाहते हैं, तो भारत को अखंड बनाया जाना चाहिए

( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. )