Breaking Tube
Politics UP News

मऊ: दूसरी बार जिला पंचायत सदस्य बने BSP प्रत्याशी का कबूलनामा, बोले- हम 10 प्रतिशत कमीशन लेकर आवंटित करते है विकास कार्य

Mau Amarnath Chauhan

उत्तर प्रदेश त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मऊ (Mau) जिले के बहुजन समाज पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी अमरनाथ चौहान (Amarnath Chauhan) ने वार्ड संख्या-25 से जीत का परचम लहराया। मंगलवार को कलेक्ट्रेट में प्रमाम पत्र लेने पहुंचे अमरनाथ चौहान ने कहा कि पूरे वर्ष एक जिला पंचायत को 30 से 35 लाख रुपए विकास कामों के लिए आवंटित होता है। हम लोग उसको 5 से 10 प्रतिशत कमीशन लेकर रजिस्टर्ड ठेकेदार को आवंटित करवा देते हैं।


जानकारी के अनुसार, बसपा प्रत्याशी अमरनाथ चौहान ने दूसरी बार जिला पंचायत का चुनाव जीता है और उन्होंने पिछले कार्यकाल का अनुभव मीडिया से साझा करते हुए यह बात कबूली है। उन्होंने बताया कि मऊ जिले में कुल 34 जिला पंचायत सदस्य है। प्रत्येक सदस्यों के पास करीब 30 से 40 लाख रुपए विकास कार्यों के लिए आता है। हम लोग 5 से 10 प्रतिशत कमीशन लेकर विकास कार्यों को रजिस्टर्ड ठेकेदारों को बेच देते हैं।


Also Read: UP: मुलायम सिंह की भतीजी संध्या यादव को SP प्रत्याशी से मिली करारी हार, BJP से लड़ रही थीं चुनाव


इस दौरान उन्हें पूछा गया कि यह तो आप लोगों का एक अच्छा धंधा है। इस पर अमरनाथ चौहान ने जवाब दिया कि खर्चा भी बहुत होता है, जब से चुनाव जीता हूं पिछले साल में करीब 700 लोगों के मरने और जीने में नेवता हकारी करता हूं, इसमें भी काफी खर्चा होता है।


Also Read: जौनपुर: नहीं चला ग्लैमर का जादू, मिस इंडिया रनर अप Diksha Singh की करारी हार


जिला पंचायत सदस्य अमरनाथ चौहान जिला पंचायत से भी आगे बड़े पदों के लिए चुनाव लड़कर देश की सेवा करने का सपना देखते हैं, लेकिन उनके इस खुलासे से कई सवाल खड़े हो रहे हैं। खुलेआम जिला पंचायत सदस्य ने खुद कमीशन लेने की बात कबूल कर पंचायत सदस्यों की कार्यप्रणाली पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं।


( देश और दुनिया की खबरों के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, आप हमें ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं. 

Related news

‘चायवाले’ को जनता जनता ने चुन लिया सांसद, पाकिस्‍तानी सांसद निकला ‘करोड़पति’

BT Bureau

चुनाव नतीजे देखकर कांग्रेस जिलाध्यक्ष को आया हार्ट अटैक, मतगणना केंद्र पर ही मौत

S N Tiwari

योगी सरकार ने बंद कराई आजम खान को मिलने वाली ‘लोकतंत्र सेनानी पेंशन’, हर महीने मिल रहे थे 20 हजार रुपए

Jitendra Nishad